Sunday, May 16, 2021
Home देश एक नई सुविधा की शुरुआत 'उपासना', आखिर क्या है ये ?

एक नई सुविधा की शुरुआत ‘उपासना’, आखिर क्या है ये ?

थ्रिसुर स्थित अल्फा पैलिएटिव केयर ने अपनी सेवाओं के लिए एक नई सुविधा शुरू की है और इसने इसे 'उपासना' नाम दिया है| अल्फा ने 2005 को अपनी सेवा शुरू की थी|

जरूरतमंदों के लिए सुखदायक और प्रेमपूर्ण देखभाल प्रदान करने के साथ अपने 16वें वर्ष में प्रवेश करते हुए, थ्रिसुर स्थित अल्फा पैलिएटिव केयर (Alpha Palliative Care) ने अपनी सेवाओं के लिए एक नई सुविधा शुरू की है और इसने इसे ‘उपासना’ (Upaasna) नाम दिया है, जो उन सभी को याद रखेगी जिनका उनकी देखरेख के दौरान निधन हुआ है। अल्फा 3 मई को अपनी सालगिरह मनाता है और अब तक इसने स्वयंसेवकों द्वारा पूरी तरह से बीमार या पुराने रोगों से ग्रस्त 35,119 लोगों को अपनी सेवाएं दी हैं, जिनमें से अब केवल 8,006 लोग जीवित हैं। अल्फा ने 3 मई 2005 को अपनी सेवा शुरू की थी।

तब से यह अस्पताल में भर्ती लोगों की देखभाल, होम केयर (Home Care) और फिजियोथेरेपी (Physiotherapy) सेवा प्रदान कर रहा है और इसने राज्य के विभिन्न जिलों में अपनी पहुंच स्थापित कर ली है। खास बात यह है कि इसकी सेवाएं बिल्कुल मुफ्त हैं।

‘उपासना’ सोमवार को यहां लॉन्च की गई थी और 19 अप्रैल को उन 55 लोगों को याद किया गया, जिन्होंने अपनी जान गंवा दी थी। इसके अध्यक्ष के. एम. नॉर्दीन ने संयुक्त अरब अमरीता (UAE) (यूएई) से इस कार्यक्रम का ऑनलाइन उद्घाटन किया।

अगले दिन 56 मृतकों को याद किया गया, जबकि इसके बाद बुधवार को 44 लोगों को याद करना निर्धारित है।उद्घाटन समारोह में अल्फा के होम केयर के लोगों ने दीप प्रज्वलित किया।मृतक के परिवार के सदस्यों ने भी इस कार्यक्रम में भाग लिया और मृतक के परिजनों ने अल्फा से जुड़ीं तमाम यादें भी साझा कीं।

Upaasna
‘उपासना’ दिवंगत लोगों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के साथ-साथ उनकी यादों को भी जीवित रखना चाहती हैं। (ट्विटर)

अल्फा स्टूडेंट्स एसोसिएशन ऑफ पैलिएटिव केयर के स्वयंसेवक 10 छात्रों ने मृतक के चित्र पर पुष्प अर्पित किए और फिर प्रार्थना में भाग लिया।यूएई के प्रमुख व्यवसायी नॉर्दीन ने कहा कि छात्र आने वाले दिनों में विभिन्न बैच में मृतकों को श्रद्धांजलि देंगे।अल्फा स्वयंसेवकों के ध्यान और देखभाल के तहत अब तक 27,113 व्यक्तियों ने मौत को गले लगाया है।उनमें से ज्यादातर ऐसे मरीज थे जो या तो बुजुर्ग थे या फिर उन्हें डॉक्टरों ने काफी बीमार घोषित कर दिया था।

नॉर्दीन ने कहा, उपासना दिवंगत लोगों के प्रति सम्मान व्यक्त करने के साथ-साथ उनकी यादों को भी जीवित रखना चाहती हैं। कार्यक्रम में बच्चों को शामिल करने से अल्फा का उद्देश्य युवा लोगों में बुजुर्गों के प्रति सम्मान और सहानुभूति पैदा करना है।

यह भी पढ़ें :- जीवन सेवा एप : दिल्ली में कोविड रोगियों के लिए एक ‘मुक्तिदाता’

इस पहल के साथ राज्य में उन स्थानों पर देखभाल को लेकर जागरूकता फैलाने को लेकर अधिक ध्यान केंद्रित किया जा रहा है, जहां बुजुर्गों की संख्या अपेक्षाकृत अधिक है।उपासना के तहत, हर दिन दो प्रार्थना सत्र सुबह 10 बजे और दोपहर 12 बजे आयोजित किए जाएंगे।

हर दिन अल्फा केयर के तहत लोगों की तस्वीर, पते और अन्य विवरण प्रदर्शित किए जाएंगे और उन्हें बिना किसी अमीर-गरीब का भेद किए बिना याद किया जाएगा। (आईएएनएस-SM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी