Sunday, May 9, 2021
Home संस्कृति मंदिरों में चढ़े फूलों से बन रहा है हर्बल रंग-गुलाल, इकोफ्रेन्डली होगी...

मंदिरों में चढ़े फूलों से बन रहा है हर्बल रंग-गुलाल, इकोफ्रेन्डली होगी होली

अब मंदिरों पर चढ़े पुष्पों से हर्बल गुलाल तैयार हो रहा है। यूपी में इस वर्ष होली इकोफ्रेन्डली मनाने की तैयारी की जा रही है।

By: विवेक त्रिपाठी

अब मंदिरों पर चढ़े पुष्पों से हर्बल गुलाल तैयार हो रहा है। यूपी में इस वर्ष होली इकोफ्रेन्डली मनाने की तैयारी की जा रही है। इसके लिए काशी विश्वनाथ मंदिर(Kashi Vishvanath Mandir) और माता विन्ध्यवासिनी समेत कई मंदिरों में चढ़े फूलों से बने हर्बल गुलाल(Herbal Gulal) माताओं और बहनों के माथे पर लगेंगे। होली के दिन भारत का हर पुरूष भगवान शंकर बाला दुर्गा का प्रतिरूप होगी। इससे महिलाएं अबला नहीं सबला दिखेंगी। इससे महिलाओं रोजगार भी मिल रहा है।

उत्तर प्रदेश राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के अर्न्तगत स्वयं सहायता चलाने वाली महिलाओं के कारण यह संभव हो सका है। 32 जिलों में स्वयं सहायता की महिलाएं हर्बल रंग गुलाल(Herbal Gulal) तैयार कर रही हैं। लेकिन विशेषकर वाराणसी के विश्व प्रसिद्ध मंदिर काशी विश्वनाथ(Kashi Vishvanath Mandir) में महादेव एवं बसंती समूह, मिजार्पुर(Mirzapur) के विन्ध्याचंल में गंगा एवं चांद, खीरी जिले के गोकर्ण नाथ में शिव पूजा प्रेरणा लखनऊ के खाटू श्याम मंदिर(Khatu Shyam Mandir) तथा श्रावस्ती के देवीपाटन के स्वयं सहायता समूह की महिलाएं यहां के मंदिरों से चढ़े हुए फूलों से हर्बल रंग और गुलाल तैयार कर रही हैं।

मिशन के निदेशक योगेश कुमार ने बताया कि मंदिरों में चढ़े पुष्पों से हर्बल रंग(Herbal Colour) और गुलाल तैयार कराया जा रहा है। जिससे लोगों को प्रदूषण से बचाया जाए और वातावरण भी शुद्ध रहे। इसके लिए महिलाओं को ट्रेनिंग दी गयी है। इस प्रकार के बने गुलाल एक तो हनिकारक नहीं होंगे। दूसरा, इससे बहुत सारी महिलाओं को रोजगार भी मिलेगा।

हर्बल होली herbal holi
हर्बल रंगों से त्वचा को नहीं होता नुकसान।(Unsplash)

मिशन के परियोजना प्रबंधक आचार्य शेखर ने बताया कि प्रत्येक जनपद से 5 से 10 लाख रुपए का लक्ष्य रखा गया है। प्रदेश स्तर पर इसका लक्ष्य एक करोड़ रुपए का रखा गया है। इसे स्थानीय बाजारों के साथ ई-कॉमर्स मार्केट जैसे फ्लिपकार्ट और अमेजन पर इनकी ऑनलाइन बिक्री भी की जाएगी। इसके अलावा महिलाओं के उत्पाद की बिक्री के लिए राज्य के सभी ब्लाकों के प्रमुख बाजारों में मिशन की ओर से जगह मुहैया कराए जाएगी। मिशन का मकसद है कि ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को रोजगार मिले।

गंगा समूह मिर्जापुर की सचिव सविता देवी ने बताया कि मंदिरों से निकलने वाले फूल कचरे का हिस्सा नहीं बन रहे। न ही यह नदी को दूषित करते हैं। मंदिरों से फूलों को इकट्ठा कर इनको सुखा लिया जाता है। गरम पानी में उबालकर रंग निकाला जाता है। उसके बाद इसमें अरारोट मिलाकर फिर निकले हुए फूल की पंखुड़ियों को पीसकर अरारोट मिलाकर गुलाल तैयार किया जाता है। 50 रुपए की लागत में एक किलो अरारोट तैयार हो रहा है। इसे बाजार और स्टॉलों की माध्यम से 140-150 रुपए में बड़े आराम से बेचा जा रहा है। इसमें ढेर सारी महिलाओं को रोजगार मिला है।

यह भी पढ़ें: खजुराहो के मंदिर प्रांगण में 44 साल बाद हो रहा है नृत्य समारोह

बलरामपुर अस्पताल के वरिष्ठ चर्म रोग विशेषज्ञ एमएच उस्मानी कहते हैं कि रासायनिक रंगों का प्रयोग मानव शरीर पर हानिकारक प्रभाव डालता है। रंग में मिले कैमिकल्स से त्वचा कैंसर तक हो सकता है। इसके केमिकल स्किन को बहुत नुकसान पहुंचाते हैं। कॉपर सल्फेट रहने से नेत्र रोग एलर्जी भी कर सकता है। होली में प्राकृतिक रंगों का उपयोग होना चाहिए ताकि स्वास्थ्य के साथ पर्यावरण की भी रक्षा हो सके।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी