Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
स्वास्थ्य

हिमाचल ने औषधीय पौधों की खेती पर दिया जोर

प्राकृतिक उत्पादों की बढ़ती मांग के साथ हिमाचल प्रदेश, समृद्ध जैविक विविधता के साथ, किसानों की आय के लिए औषधीय पौधों की खेती को सहयोग कर रहा है।

(NewsGram Hindi)

प्राकृतिक उत्पादों की बढ़ती मांग के साथ हिमाचल प्रदेश, समृद्ध जैविक विविधता के साथ, किसानों की आय के लिए औषधीय पौधों की खेती को सपोर्ट कर रहा है, जो बड़े पैमाने पर छोटे जोत वाले हैं। आयुष विभाग के तहत राज्य के औषधीय पौधे बोर्ड किसानों को उनकी आय के पूरक के लिए खेती करने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं। इसके लिए राज्य सरकार राष्ट्रीय आयुष मिशन के तहत औषधीय पौधों की खेती के लिए वित्तीय सहायता प्रदान कर रही है।

इसके लिए विभिन्न किसानों के ग्रूप तैयार किए गए हैं। वित्तीय सहायता का फायदा पाने के लिए एक क्लस्टर के पास कम से कम दो हेक्टेयर भूमि होनी चाहिए। प्रत्येक क्लस्टर में 15 किलोमीटर के दायरे में तीन आसपास के गांव शामिल हैं। गिरवी रखी गई भूमि का उपयोग औषधीय पौधों की खेती के लिए भी किया जा सकता है। जनवरी 2018 से 318 किसानों को औषधीय पौधों की खेती के लिए 99.68 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की गई है।


राष्ट्रीय आयुष मिशन ने साल 2019-20 में राज्य में औषधीय पौधों के घटक के लिए 128.94 लाख रुपये की वित्तीय सहायता प्रदान की है। इसमें से ‘अतिस’, ‘कुटकी’, ‘कुठ’, ‘शतावरी’, ‘स्टीविया’ और ‘सरपगंधा’ की खेती के लिए 54.44 लाख रुपये स्वीकृत किए गए हैं। राज्य ने मंडी जिले के जोगिंदर नगर, हमीरपुर जिले के नेरी, शिमला जिले के रोहड़ू और बिलासपुर जिले के जंगल झलेरा में हर्बल गार्डन स्थापित किए हैं। एक आधिकारिक बयान में कहा गया है कि इन हर्बल उद्यानों में विभिन्न कृषि-जलवायु क्षेत्रों की पूर्ति करने वाले विभिन्न प्रकार के औषधीय पौधे उगाए जा रहे हैं।

आयुर्वेदिक पौधों के लिए जागरूकता फैलाने में जुटा है हिमाचल प्रदेश।(Canva)

आयुष मंत्रालय के राष्ट्रीय औषधीय पादप बोर्ड ने जोगिंदर नगर में भारतीय चिकित्सा प्रणाली में अनुसंधान संस्थान में उत्तरी क्षेत्र के क्षेत्रीय-सह-सुविधा केंद्र की स्थापना की है। यह केंद्र छह पड़ोसी उत्तरी राज्यों – पंजाब, हरियाणा, उत्तराखंड, उत्तर प्रदेश, चंडीगढ़ और हिमाचल प्रदेश में औषधीय पौधों की खेती और संरक्षण को बढ़ावा दे रहा है। जनता में जागरूकता पैदा करने के लिए आयुष विभाग द्वारा वृक्षारोपण अभियान ‘चरक वाटिका’ चलाया गया। इस अभियान के तहत 11,526 पौधों के रोपण के साथ 1,167 आयुर्वेदिक संस्थानों में चरक वाटिका की स्थापना की गई। चरक वाटिका का दूसरा चरण 7 जून को शुरू हुआ था।

यह भी पढ़ें: आयुर्वेद से दूर होगी आयरन की कमी

विविध जलवायु परिस्थितियों वाला राज्य चार कृषि-जलवायु क्षेत्रों में वितरित औषधीय पौधों की 640 प्रजातियों का घर है। जनजातीय जिले जैसे किन्नौर, लाहौल-स्पीति, कुल्लू और कांगड़ा और शिमला जिलों के कुछ हिस्से, जो 2,500 मीटर से अधिक की ऊंचाई पर स्थित हैं, अत्यधिक औषधीय पौधों का उत्पादन करते हैं। इनमें से कुछ में ‘पतिस’, ‘बत्सनाभ’, ‘अतिस’, ‘ट्रागेन’, ‘किरमाला’, ‘रतनजोत’, ‘काला जीरा’, ‘केसर’, ‘सोमलता’, ‘जंगली हींग’, ‘चार्मा’ ‘खुरसानी अजवाइन’, ‘पुष्कर मूल’, ‘हौवर’, ‘धोप’, ‘धमनी’, ‘नेचनी’, ‘नेरी’, ‘केजावो’ और ‘बुरांश’ शामिल हैं।(आईएएनएस-SHM)

(धर्म, संस्कृति, देश और दुनिया से जुड़े महत्वपूर्ण खबरों के लिए न्यूज़ग्राम हिंदी को फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम पर फॉलो करें।)

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less