Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

“हिन्दी पत्रकारिता दिवस 2021”

हिंदी का प्रथम समाचार पत्र 30 मई 1826 में निकला था, जिसका नाम था "उदंत मार्तण्ड"। इसलिए हर साल 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

स्वतन्त्रता के बाद से जनता के प्रति उत्तरदायित्व की भावना को लेकर भारतीय पत्रकारिता ने एक नए युग में प्रवेश किया था। (NewsGramHindi)

पूरे विश्व में पत्रकार और मीडिया जगत के लोगों को जनता की आवाज माना जाता है। देश – दुनिया की खबरों को जनता तक पहुंचाने का काम पत्रकार, मीडिया, कई साप्ताहिक मैगज़ीन और समाचार पत्र करते हैं और जनता की आवाज को देश – दुनिया और वहां की सरकार तक पहुंचाने का काम भी यही लोग करते हैं। 

स्वतन्त्रता के बाद से जनता के प्रति उत्तरदायित्व की भावना को लेकर भारतीय पत्रकारिता ने एक नए युग में प्रवेश किया था। आजादी के बाद से ही सरकार और प्रेस के संबंधों का एक नया अध्याय शुरू हुआ था। आजादी की लड़ाई के समय “प्रेस इमरजेंसी अधिनियम” के अंतर्गत राष्ट्रीय समाचार पत्रों को बुरी तरह कुचल दिया था। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पहली बार पत्रकारिता जगत ने खुली हवा में सांस ली थी। 


लेकिन अगर भारतीय भाषाओं के समाचार पत्रों के इतिहास की बात करें तो यह 1818 से प्रारंभ हो जाता है। बंगाली में निकले दो समाचार पत्र “दिग्दर्शन” और “समाचार दर्पण” थे| बंगाली भाषा के बाद गुजराती भाषा में भी समाचार पत्रों की शुरुआत की गई। जिसमें से पहला गुजरती पत्र “बंबई समाज” था, जो 1823 में प्रकाशित हुआ था। हिंदी भाषा की ओर रुख करेंगे तो हिंदी का प्रथम पत्र 30 मई 1826 में निकला था, जिसका नाम था “उदंत मार्तण्ड”। इसलिए हर साल 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस (Hindi Journalism Day) के रूप में मनाया जाता है। इसकी शुरुआत पंडित जुगल किशोर ने कलकत्ता से एक साप्ताहिक समाचार पत्र के तौर पर शुरू किया था।

उदंत मार्तण्ड का शाब्दिक अर्थ होता है “समाचार सूर्य” अपने नाम की भांति उदंत मार्तण्ड हिंदी की समाचार दुनिया के लिए सूर्य के समान था। यह समाचार पत्र एक ऐसे समय में प्रकाशित हुआ था, जब हिंदी भाषाओं की अपनी भाषा के एक समाचार पत्र की आवश्यकता थी। 

यह भी पढ़ें :- क्या NCERT बच्चों को गलत पाठ पढ़ा रहे हैं?

हालांकि उदंत मार्तण्ड (Udant Martand) समाचार पत्र को कई उतार – चढ़ाव का सामना करना पड़ा था। बंगाल में हिंदी भाषा बोलने वालों की संख्या कम होने के कारण यह पत्र ज्यादा लंबे समय तक नहीं चल पाया था। उस समय हिंदी भाषा क्षेत्रों तक इस समाचार पत्र को पहुंचाने के लिए डाक का इस्तेमाल किया जाता था, जिसका किराया काफी अधिक होता था। जिस वजह से उदंत मार्तण्ड समाचार पत्र ज्यादा लंबे समय तक कायम नहीं रह पाया था। 

परंतु इन सब के बावजूद भी उदंत मार्तण्ड समाचार पत्र ने समाज में चल रहे विरोधाभासों एवं अंग्रेजी शासन के विरुद्ध आम जन की आवाज उठाने का कार्य किया था। 

आज हिंदी पत्रकारिता दिवस के मौके पर कई नेताओं ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की है।

 

Popular

नवजात के लिए माँ के दूध से कोविड संक्रमण का नही है कोई खतरा ( Pixabay )

Keep Reading Show less

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों की तारीख़ की घोषणा के बाद कार्यकर्तओं के साथ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का पहला सवांद कार्यक्रम (Wikimedia Commons)


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए अपने संसदीय क्षेत्र वारणशी के भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत की। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भाजपा कार्यकर्ताओं से बात करते हुए कहा कि "उन्हें किसानों को रसायन मुक्त उर्वरकों के उपयोग के बारे में जागरूक करना चाहिए।"

नमो ऐप के जरिए प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने भाजपा के बूथ स्तर के कार्यकर्ताओं से बातचीत के दौरान बताया कि नमो ऐप में 'कमल पुष्प" नाम से एक बहुत ही उपयोगी एवं दिलचस्प सेक्शन है जो आपको प्रेरक पार्टी कार्यकर्ताओं के बारे में जानने और अपने विचारों को साझा करने का अवसर देता है। प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने नमो ऐप के सेक्शन 'कमल पुष्प' में लोगों को योगदान देने के लिए आग्रह किया। उन्होंने बताया की इसकी कुछ विशेषतायें पार्टी सदस्यों को प्रेरित करती है।

Keep Reading Show less

हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह आईएस में शामिल हुई थी। घर वापसी की उसकी अपील पर यूएस कोर्ट ने सुनवाई से इनकार कर दिया (Wikimedia Commons )

2014 में अमेरिका के अपने घर से भाग कर सीरिया के अतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट (आईएस) में शामिल होने वाली 27 वर्षीय हुदा मुथाना वापस अपने घर लौटने की जद्दोजहद में लगी है। हुदा मुथाना वर्ष 2014 में आतंकवादी समूह इस्लामिक स्टेट के साथ शामिल हुई साथ ही आईएस के साथ मिल कर सोशल मीडिया पर पोस्ट कर आतंकवादी हमलों की सराहना की और अन्य अमेरिकियों को आईएस में शामिल होने के लिए प्रोत्साहित किया था। हुदा मुथाना को अपने किये पर गहरा अफसोस है।

वर्ष 2019 में हुदा मुथाना के पिता ने संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट में अमेरिका वापस लौटने के मामले पर तत्कालीन ट्रंप प्रशासन के खिलाफ मुक़द्दमा दायर किया था। संयुक्त राज्य अमेरिका (यूएस) के सुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को बिना किसी टिप्पणी के हुदा मुथाना के इस मामले पर सुनवाई से इनकार कर दिया।

Keep reading... Show less