Saturday, June 12, 2021
Home इतिहास "हिन्दी पत्रकारिता दिवस 2021"

“हिन्दी पत्रकारिता दिवस 2021”

हिंदी का प्रथम समाचार पत्र 30 मई 1826 में निकला था, जिसका नाम था "उदंत मार्तण्ड"। इसलिए हर साल 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस के रूप में मनाया जाता है।

पूरे विश्व में पत्रकार और मीडिया जगत के लोगों को जनता की आवाज माना जाता है। देश – दुनिया की खबरों को जनता तक पहुंचाने का काम पत्रकार, मीडिया, कई साप्ताहिक मैगज़ीन और समाचार पत्र करते हैं और जनता की आवाज को देश – दुनिया और वहां की सरकार तक पहुंचाने का काम भी यही लोग करते हैं। 

स्वतन्त्रता के बाद से जनता के प्रति उत्तरदायित्व की भावना को लेकर भारतीय पत्रकारिता ने एक नए युग में प्रवेश किया था। आजादी के बाद से ही सरकार और प्रेस के संबंधों का एक नया अध्याय शुरू हुआ था। आजादी की लड़ाई के समय “प्रेस इमरजेंसी अधिनियम” के अंतर्गत राष्ट्रीय समाचार पत्रों को बुरी तरह कुचल दिया था। स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद पहली बार पत्रकारिता जगत ने खुली हवा में सांस ली थी। 

लेकिन अगर भारतीय भाषाओं के समाचार पत्रों के इतिहास की बात करें तो यह 1818 से प्रारंभ हो जाता है। बंगाली में निकले दो समाचार पत्र “दिग्दर्शन” और “समाचार दर्पण” थे| बंगाली भाषा के बाद गुजराती भाषा में भी समाचार पत्रों की शुरुआत की गई। जिसमें से पहला गुजरती पत्र “बंबई समाज” था, जो 1823 में प्रकाशित हुआ था। हिंदी भाषा की ओर रुख करेंगे तो हिंदी का प्रथम पत्र 30 मई 1826 में निकला था, जिसका नाम था “उदंत मार्तण्ड”। इसलिए हर साल 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस (Hindi Journalism Day) के रूप में मनाया जाता है। इसकी शुरुआत पंडित जुगल किशोर ने कलकत्ता से एक साप्ताहिक समाचार पत्र के तौर पर शुरू किया था।

उदंत मार्तण्ड का शाब्दिक अर्थ होता है “समाचार सूर्य” अपने नाम की भांति उदंत मार्तण्ड हिंदी की समाचार दुनिया के लिए सूर्य के समान था। यह समाचार पत्र एक ऐसे समय में प्रकाशित हुआ था, जब हिंदी भाषाओं की अपनी भाषा के एक समाचार पत्र की आवश्यकता थी। 

यह भी पढ़ें :- क्या NCERT बच्चों को गलत पाठ पढ़ा रहे हैं?

हालांकि उदंत मार्तण्ड (Udant Martand) समाचार पत्र को कई उतार – चढ़ाव का सामना करना पड़ा था। बंगाल में हिंदी भाषा बोलने वालों की संख्या कम होने के कारण यह पत्र ज्यादा लंबे समय तक नहीं चल पाया था। उस समय हिंदी भाषा क्षेत्रों तक इस समाचार पत्र को पहुंचाने के लिए डाक का इस्तेमाल किया जाता था, जिसका किराया काफी अधिक होता था। जिस वजह से उदंत मार्तण्ड समाचार पत्र ज्यादा लंबे समय तक कायम नहीं रह पाया था। 

परंतु इन सब के बावजूद भी उदंत मार्तण्ड समाचार पत्र ने समाज में चल रहे विरोधाभासों एवं अंग्रेजी शासन के विरुद्ध आम जन की आवाज उठाने का कार्य किया था। 

आज हिंदी पत्रकारिता दिवस के मौके पर कई नेताओं ने अपनी शुभकामनाएं व्यक्त की है।

 

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी