Saturday, June 12, 2021
Home इतिहास "हिंदको" : हिंद से निकली हुई भाषा एक महत्वपूर्ण पाकिस्तानी भाषा है।

“हिंदको” : हिंद से निकली हुई भाषा एक महत्वपूर्ण पाकिस्तानी भाषा है।

आज पाकिस्तान की एक बड़ी आबादी हिंदको को अपनी मातृभाषा के रूप में बोलते हैं। पाकिस्तान के साथ - साथ यह भाषा अफगानिस्तान में भी बोली जाती है।

हिंदको (Hindko), जिसे हिंदकु या हिंको भी कहा जाता है। यह पाकिस्तान (Pakistan) और उत्तरी भारत में हिंदकोवन्स द्वारा बोली जाने वाली इंडो-आर्यन भाषाओं के लहंडा उपसमूह का हिस्सा मानी जाती है। हिंदको एक पूर्वी ईरानी भाषा का शब्द भी माना जाता है, जिसका मूल रूप से हिंदी की भाषा के रूप में अनुवाद किया गया था। यह भाषा हजारा, पंजाब (अटक) और पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर सहित उत्तर पश्चिम सीमांत प्रांत के क्षेत्रों में बोली जाती है। 

भारतीय भाषाई सर्वेक्षण के मार्गदर्शक जॉर्ज अब्राहम ग्रियर्सन (George Abraham Grierson) ने कहा था कि, हिंदको हजारा डिवीजन की मुख्य भाषा थी और पेशावर में भी बोली जाती थी। आज पेशावर पाकिस्तान प्रांत खैबर पख्तूनख्वा (Khyber Pakhtunkhwa) की राजधानी है और यहां पश्तो बोलने वालों का बोलबाला अधिक है। हालांकि विभाजन से पहले पेशावर शहर में हिंदको बोलने वालों का बोलबाला अधिक था। पेशावर शहर में हिंदको भाषा बोलने वालों को पेशावरी या खरय कहा जाता था। जिसका अर्थ होता है, “शहर के निवासी।” ऐसा भी माना जाता है कि, हिंदको का प्राकृत भाषा से भी संबंध था। जब जनता की स्थानीय भाषा ‘प्राकृत’ कई भाषाओं और बोलियों में विकसित हुई (जो ज्यादातर दक्षिण एशिया के उत्तरी भाग में फैली हुई थी) उस दौरान हिंदको का प्राकृत से गहरा संबंध माना जाता है। 

यह याद रखना जरूरी है कि, हिंदको लाखों लोगों की भाषा है, जो पैतृक क्षेत्रों में या दुनिया भर में जीवन यापन करने के लिए बसे हुए हैं। लेकिन फिर भी इस भाषा को लेकर लोगों में अलग – अलग राय देखने को मिलती है। कुछ लोग कहते हैं कि, यह पंजाबी भाषा (Punjabi Language) की बोली है। कुछ लोगों का दावा है कि, यह एक अलग पुरानी भाषा है और कुछ लोग इसे उर्दू का भी स्त्रोत मानते हैं। लेकिन भाषाविद और लेखक तारिक रहमान कहते हैं कि, हिन्द का अर्थ होता है “सिंध” और “को” का अर्थ होता है भाषा। हिंदको यानी हिंद से निकली हुई भाषा। 

आज पाकिस्तान की एक बड़ी आबादी हिंदको को अपनी मातृभाषा के रूप में बोलते हैं। (सांकेतिक चित्र, Wikimedia Commons)

जब अफगानिस्तान (Afghanistan) से आक्रमणकारी इस क्षेत्र में आए तो उन्होंने पाया कि, पेशावर से लेकर यूपी तक इसी तरह की भाषा बोली जाती है। इसके अतिरिक्त शोधकर्ता, लेखक और कवि खवीर गजनवी, उन्होंने तर्क दिया कि, जहीरुद्दीन बाबर के आगमन के बाद पेशावर घाटी में उर्दू ने जड़े जमा ली थी और हिंदको भाषा उस समय वहां के स्थानीय लोगों द्वारा बोली जाने वाली विभिन्न भाषाओं से निकली थी। हालांकि डॉ राउफ पारेख, गजनवी के इस दावे को खारिज करते हैं और कहते हैं कि, हिंदको उर्दू (Urdu) की उत्पत्ति है और यह उर्दू की उत्पत्ति के बारे में कई सिद्धांतों में से एक है। उन्होंने यह भी कहा है कि, हिंदको एक महत्वपूर्ण पाकिस्तानी भाषा है लेकिन भाषा विशेषज्ञ और इतिहासकार क्रिस्टोफर का मानना है कि, हिंदको एक सामान्य शब्द था।

आज पाकिस्तान की एक बड़ी आबादी हिंदको को अपनी मातृभाषा के रूप में बोलते हैं। पाकिस्तान के साथ – साथ यह भाषा अफगानिस्तान में भी बोली जाती है। वहां इसे “हिंदकी” के नाम से जाना जाता है और इसे व्यापक रूप से देश के गैर मुस्लिम समुदाय (सिख और हिन्दू) की भाषा माना जाता है। लेकिन यह कहना बिल्कुल स्पष्ट नहीं है, क्योंकि हिंदको बोलने वाले मुसलमान भी अधिक हैं। 

यह भी पढ़ें :- पाकिस्तान की जमीन पर खंडित होता प्रहलादपूरी मंदिर!

कोई भी भाषा तभी तक जीवित रहती है, जब उसे लिपिबद्ध किया जाता है। हिंदको भाषा में भी धर्म, राजनीति, इतिहास, आत्मकथाओं जैसे अन्य विषयों पर किताब देखने को मिलती है। ऐसा माना जाता है कि, हिंदको भाषा में पवित्र कुरान का अनुवाद भी किया गया है। कुछ टीवी और रेडियो चैनल हिंदको में भी प्रसारित किए जाते हैं और कुछ साहित्यिक पत्रिकाएँ भी इसमें नियमित रूप से प्रकाशित होती हैं। सुल्तान सुकून, रज़ा हमदानी और रियाज़ हुसैन सगीर भी अपनी हिंदको कविता के लिए लोकप्रिय हैं। क़तील शिफ़ाई, फरिग बुखारी और खतीर गजनवी जैसे बड़े नाम उर्दू कवि होने के साथ – साथ हिंदको कवि भी थे। 

एक कराची विश्वविद्यालय (University of Karachi) में उर्दू के प्रोफेसर कहते हैं कि, वास्तव में हर भाषा महत्वपूर्ण होती है। मुहावरों, लोक कथाओं, गीतों, कहावतों और परंपराओं में एक भाषा की अपनी सुंदरता होती है। एक भाषा मर जाती है तो पूरी संस्कृति मर जाती है। इसके अलावा, लोगों को अपनी मातृभाषा से भावनात्मक लगाव होता है| इसलिए हिंदको भाषा को भी केवल संरक्षित ही नहीं किया जाना चाहिए बल्कि प्रगति और उसे फलने – फूलने में भी मदद करना चाहिए।  

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी