Tuesday, May 11, 2021
Home संस्कृति Chaitra Navratri 2021: हिन्दू नव-वर्ष क्यों होता है खास, आइए जानते हैं!

Chaitra Navratri 2021: हिन्दू नव-वर्ष क्यों होता है खास, आइए जानते हैं!

भारत में हिन्दू नववर्ष नवीनता का प्रतीक है, जब पेड़ फूलों और फलों से सज जाते हैं जब हरित खास मैदानों को घेर लेते हैं तब इस नए दिन को पर्व के रूप में मनाया जाता है।

भारत और खासकर हिन्दू समुदाय को छोड़कर विश्व के बाकी हिस्सों में 31 दिसम्बर को नव वर्ष मनाया जाता है, किन्तु जब पिघली हुई बर्फ मिट्टी को नम बना देती है, हरित घास पृथ्वी को ढक लेती है, बागों में पेड़ खुद को जब पत्तियों, फूलों और फलों से सजा लेतें हैं तब हिन्दू समुदाय इसे एक उत्सव के रूप में भक्तिमय वातावरण का शुभारम्भ करता है। यह जीवन का उत्सव है, नई सुबह का उमंग है। 

भारत में चैत्र शुक्ल प्रतिपदा (हिंदू कैलेंडर के चैत्र महीने का पहले दिन) को नए साल के रूप में मनाते हैं। देश के उत्तर जिसमे बिहार, झारखण्ड, उत्तरप्रदेश, उत्तराखंड और हरियाणा जैसे राज्य इस पर्व को चैत्र नवरात्री के रूप में मनाते हैं। मराठी समुदाय इस पर्व को गुड़ी पड़वा पर्व के रूप में मनाता है, कनाड़ा और तेलगु समुदाय इसे उगादी के रूप में मनाते हैं, सिंधी समुदाय इसे चेटीचंड के रूप में मनाते हैं। इस त्योहार को मनाने का हर समुदाय का अपना अनूठा तरीका है, लेकिन सभी के लिए यह नई शुरुआत का दिन है; यह वह दिन है जिस दिन भगवान ब्रह्मा ने इस ब्रह्मांड का निर्माण किया था।

किन्तु आपको यह जानकर आश्चर्यजनक होगा कि ब्रह्माण्ड के निर्माता ब्रह्मा की पूजा नहीं की जाती है। पौराणिक कथाओं में, ब्रह्मा को या तो कभी भी पूजा नहीं जाने का श्राप दिया गया है, या यदि ऐसा हुआ तो मस्तक धड़ से अलग हो जाने की कथा कही गई है। इस बार 13 अप्रैल 2021 को विक्रम संवत 2078 को हिंदू नववर्ष मनाया जाएगा। संवत्सर की शुरुआत राजा विक्रमादित्य के द्वारा की गई थी, इसलिए इसे विक्रम संवत कहा जाता है। यह अंग्रेजी कैलेंडर से 57 वर्ष आगे है।

hindu new year baisakhi cheti chand
विक्रम संवत अंग्रेजी कैलेंडर से 57 वर्ष आगे है।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

यह भी पढ़ें: पाठशालाओं में संस्कृति, संस्कृत और संस्कार का ज्ञान दिया जाएगा।

ज्योतिष शास्त्र क्या कहता है?

इस वर्ष दुर्घटना, संक्रामक रोग और प्राकृतिक आपदाओं के बढ़ने की संभावना है। इस संवत्सर के अशुभ प्रभाव होने के साथ ही शुभ प्रभाव भी होंगे। संवत्सर प्रतिपदा तिथि और मेष संक्राति का एक दिन पड़ने का संयोग भी 90 वर्षों के बाद बन रहा है। 

हिन्दू पंचाग

57 ईसा पूर्व में, हिंदू कैलेंडर की शुरुआत हुई थी। चंद्र चरणों के मासिक चक्रों पर आधारित तिथियों की गणना की एक प्रणाली को पंचांग कहा जाता है। इसलिए, हिंदू नव वर्ष का सही दिन हर साल पंचांग में गणना के अनुसार बदलता है। हालांकि, यह उत्सव भारत के प्रत्येक राज्य में अद्वितीय हैं, और सभी राज्यों में इस पर्व अपने रीति-रिवाजों का पालन कर के मनाया जाता है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी