Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

अफ्रीका में भी सनातन धर्म तेजी से हो रहा है विकसित

पश्चिमी अफ्रीकी देश 'घाना' में हिन्दुओं की संख्या में साल दर साल बढ़ोतरी हुई है। आज घाना में लगभग सवा लाख अफ्रीकी हिन्दू रहते हैं।

(NewsGram Hindi, photo: Wikimedia Commons)

विश्वभर में सनातन धर्म का प्रचार कई वर्षों से किया जा रहा है। अधिकांश लोगों ने, जो अन्य धर्म से भी नाता रखते हैं उन्होंने हिन्दू धर्म को खुशी-खुशी अपनाया है। भारत, जिसे सनातन सभ्यता का केंद्र माना जाता है वहां से यह धर्म अफ्रीका पहुंचा और देखते ही देखते अपनी पकड़ को लोगों के बीच मजबूत बनाने लगा। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा की पश्चिमी अफ्रीकी देश ‘घाना’ में हिन्दुओं की संख्या में साल दर साल बढ़ोतरी हुई है। यह दावा इसलिए सच है क्योंकि घाना में 2009 में हुई जनगणना में यह पाया गया था कि वहां केवल 12,500 हिन्दू ही रहते थे। जिसके बाद 2010 में हुई जनगणना में यह पाया गया कि यह संख्या बढ़कर 25,000 हो गई है। आज घाना में लगभग सवा लाख अफ्रीकी हिन्दू रहते हैं।

अफ्रीकी लोगों में हिन्दू धर्म के प्रति यह भाव कैसे जागृत हुआ?

हिन्दू धर्म घाना में एकाएक विकसित नहीं हुआ है। इसके पीछे एक ऐसा समूह है जिसने हिन्दू धर्म की विशेषताओं को लोगों तक पहुँचाया है। जिससे अफ्रीकी लोगों में हिंदुत्व के प्रति श्रद्धा उत्पन्न हुई है। घाना में हिन्दू धर्म को स्थापित करने वाला वह सिंधी समूह था जो भारत से अंग्रेजों द्वारा किए विभाजन के बाद घाना में शरणार्थी के रूप में बसने आए थे। उसके बाद स्वामी घनानंद सरस्वती के नेतृत्व में घाना हिन्दू मठ द्वारा सनातन प्रचार-प्रसार को आगे बढ़ाया गया।


घाना देश में रह रहे हिन्दू वह सभी प्रथाओं का पालन करते हैं जो आम तौर पर सनातन धर्म में किया जाता है। वहां के हिन्दुओं में भी मांस का सेवन वर्जित है। यह नियम उन्होंने अपनी इच्छा से बनाया है क्योंकि किसी जीव को मारकर खाना सनातन धर्म में स्वीकार नहीं किया जाता है। यह बात इसलिए खास है क्योंकि घाना के मूल निवासी बिना मांस के रह नहीं सकते। उनमें भी गाय की प्रति उतना ही सम्मान है जितना भारत में हिन्दू धर्म में किया जाता है। यह बात भी इसलिए अलग है क्योंकि मूल घाना के परिवारों में दिन में एक बार गाय के मांस का सेवन जरूर किया जाता है।

घाना में यह बात भी खास है कि सभी ने अपने मूल पहचान को छोड़कर हिन्दू धर्म को अपनाया है। न ही उनपर धर्म-परिवर्तन के लिए किसी प्रकार का दबाव डाला गया और न ही ऐसे किसी मुहीम को शुरू किया गया। उन्होंने हिन्दू धर्म को अपनी इच्छा से चुना है और सनातन धर्म के सभी नियमों का पालन भी वह अपनी स्वेच्छा से कर रहे हैं।

घाना देश में स्थापित हिन्दू सनातन धर्म के सभी नियमों का पालन करते हैं।(Wikimedia Commons)

स्वामी घनानंद कौन हैं?

स्वामी घनानंद बचपन से ही इच्छुक बालक थे जिन्हें ब्रह्माण्ड के रहस्यों को और धार्मिक लेखों में छुपे सभी तर्कों को खोजने के लिए आतुर थे। फिर वह इसी खोज में ऋषिकेश, उत्तराखंड आए जहाँ उनकी भेंट स्वामी कृष्णनंद से हुई। स्वामी कृष्णानंद ने उन्हें अपने शिष्य के रूप में स्वीकार किया और शास्त्रों और वेदों के ज्ञान से अवगत कराया। जिसके बाद उन्होंने वर्ष 1975 घाना हिन्दू मठ की स्थापना की और वहीं से प्रारम्भ हुआ घाना में हिन्दू धर्म का प्रचार प्रसार।

स्वामी घनानंद सरस्वती ने घाना में 5 हिन्दू मंदिरों की स्थापना की जो अफ्रीकी हिंदू मठ की आधारशिला रहे हैं। साथ ही घाना में इस्कॉन के मंदिर भी अधिक हैं।

यह भी पढ़ें: इस्लाम के जन्मस्थान से गूंजेगी राम नाम के सुर

आलोचनाओं का सामना

सनातन धर्म की विविधताओं को घाना हिन्दू मठ अखबार में प्रकाशित कराता रहता है। जिससे लोगों में सनातन धर्म को और जानने की इच्छा उत्पन्न होती है। इसी वजह से शुरुआत में कई केवल जिज्ञासा के लिए मठ में आते थे। किन्तु जब हिन्दू धर्म की विविधताओं के विषय में उन्हें ज्ञान हुआ तब उन्होंने इसे अपनाने का फैसला किया। किन्तु कट्टरपंथियों द्वारा यह आरोप लगाया गया था कि यह धर्मपरिवर्तन जबरन हुआ है। जिसका खंडन स्वयं घाना के हिन्दू करते हैं। उन सभी ने अपनी इच्छा से हिन्दू धर्म को अपनाया है। एक और बात यह भी स्वयं स्वामी घनानंद सरस्वती घाना के मूल निवासी थे जिनके माता-पिता ने ईसाई धर्म अपनाया था, किन्तु इन सब को जानते हुए भी उन्होंने सनातन धर्म को चुना और इस धर्म की विविधताओं का प्रचार किया।

अन्य देशों में भी सनातन धर्म के अनुयायी

रूस में हिन्दू धर्म ने भी अपनी जगह बनाई है। रूस में 2012 में हुए जनगणना में 1 लाख 40 हजार हिन्दू हैं जो देश की पूरी जनसंख्या के 0.01% की आबादी रखते हैं। इसके बाद है आयरलैंड जहाँ हिन्दू जनसंख्या में लम्बा उछाल आया है। साथ ही अमेरिका में भी हिन्दू जनसंख्या में हालिया सालों में बढ़त देखने को मिली है। रूस, घाना अमेरिका, आयरलैंड के साथ-साथ विश्वभर में हिन्दू जनसंख्या के बढ़ने की रफ्तार में तेजी देखी गई है, जिसका श्रेय उन सभी संत एवं महात्माओं को जाता है जिन्होंने केवल और केवल अपनी वाणी से हिन्दू धर्म को जन-जन तक पहुँचाया और सनातन धर्म का प्रचार प्रसार किया है।

Popular

स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है: प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (IANS)

शनिवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने यूनाइटेड नेशन जनरल असेंबली में 76 सत्र मे संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित करते हुए एक सकारात्मक और प्रेरक भाषण दिया।

यूएनजीए में भाषणों के सप्ताहांत चरण की शुरुआत के कुछ ही क्षणों के भीतर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, "लोकतंत्र उद्धार कर सकता है, लोकतंत्र ने करके दिखाया है"। अपनी बात को आगे कहते हुए उन्होंने गहरी संवेदना से भरी, खुद के बारे में व्यक्तिगत टिप्पणी करते हुए कहा, "स्टेशन पर चाय बेचने वाले का बेटा चौथी बार संयुक्त राष्ट्र को संबोधित कर रहा है।

Keep Reading Show less

मोदी ने अपने संबोधन में कहा, "जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। (IANS)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा के समक्ष 22 मिनट के अपने संबोधन में 'अद्वितीय' पैमाने पर विज्ञान, प्रौद्योगिकी, संस्कृति और समस्या-समाधान क्षमता के संदर्भ में भारत की शक्ति के विचार को सामने रखा। पीएम मोदी ने जोर देकर कहा कि जब भारतीयों की प्रगति होती है तो विश्व के विकास को भी गति मिलती है। मोदी ने अपने संबोधन में कहा, "जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। जब भारत में सुधार होता है, तो दुनिया बदल जाती है। भारत में हो रहे विज्ञान और प्रौद्योगिकी आधारित नवाचार दुनिया में एक बड़ा योगदान दे सकते हैं। हमारे तकनीकी समाधानों की मापनीयता और उनकी लागत-प्रभावशीलता दोनों अद्वितीय हैं।"

पेश हैं मोदी के भाषण की 10 खास बातें:

आकांक्षा: "ये भारत के लोकतंत्र की ताकत है कि एक छोटा बच्चा जो कभी एक रेलवे स्टेशन के टी-स्टॉल पर अपने पिता की मदद करता था, वो आज चौथी बार, भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर यूएनजीए को संबोधित कर रहा है।

लोकतंत्र: सबसे लंबे समय तक गुजरात का मुख्यमंत्री और फिर पिछले 7 साल से भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर मुझे हेड ऑफ गवर्मेट की भूमिका में देशवासियों की सेवा करते हुए 20 साल हो रहे हैं। मैं अपने अनुभव से कह रहा हूं। हां, लोकतंत्र उद्धार कर सकता है। हां. लोकतंत्र ने उद्धार किया है।"

बैंकिंग: "बीते सात वर्षों में भारत में 43 करोड़ से ज्यादा लोगों को बैंकिंग व्यवस्था से जोड़ा गया है, जो अब तक इससे वंचित थे। आज 36 करोड़ से अधिक ऐसे लोगों को भी बीमा सुरक्षा कवच मिला है, जो पहले इस बारे में सोच भी नहीं सकते थे।"

स्वास्थ्य देखभाल: "50 करोड़ से ज्यादा लोगों को मुफ्त इलाज की सुविधा देकर, भारत ने उन्हें क्वालिटी हेल्थ सर्विस से जोड़ा है। भारत ने 3 करोड़ पक्के घर बनाकर, बेघर परिवारों को घर का मालिक बनाया है।"

जलापूर्ति: "प्रदूषित पानी, भारत ही नहीं पूरे विश्व और खासकर गरीब और विकासशील देशों की बहुत बड़ी समस्या है। भारत में इस चुनौती से निपटने के लिए हम 17 करोड़ से अधिक घरों तक, पाइप से साफ पानी पहुंचाने का बहुत बड़ा अभियान चला रहे हैं।"

भारत और भारतीय: "दुनिया का हर छठा व्यक्ति भारतीय है। जब भारतीय प्रगति करते हैं, तो दुनिया के विकास को भी गति मिलती है। जब भारत बढ़ता है, तो दुनिया बढ़ती है। जब भारत सुधार करता है, तो दुनिया बदल जाती है।"

विज्ञान और तकनीक: "भारत में हो रहे विज्ञान और प्रौद्योगिकी आधारित नवाचार दुनिया में एक बड़ा योगदान दे सकते हैं। हमारे तकनीकी समाधानों का स्केल और उनकी कम लागत, दोनों अतुलनीय है। भारत में यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (यूपीआई) के जरिए हर महीने 3.5 अरब से ज्यादा ट्रांजेक्शन हो रहे हैं।"

यह भी पढ़ें :- खान को भारत का जवाब : पाकिस्तान 'आतंकवादियों का समर्थक, अल्पसंख्यकों का दमन करने वाला'

वैक्सीन : "मैं यूएनजीए को ये जानकारी देना चाहता हूं कि भारत ने दुनिया की पहली डीएनए वैक्सीन विकसित कर ली है, जिसे 12 साल की आयु से ज्यादा के सभी लोगों को लगाया जा सकता है। एक और एमआरएनए टीका विकास के अंतिम चरण में है।" निवेश का अवसर: "मैं दुनिया भर के वैक्सीन निमार्ताओं को भी निमंत्रण देता हूं। आओ, भारत में वैक्सीन बनाएं।"

आतंकवाद: "प्रतिगामी सोच वाले देश आतंकवाद को एक राजनीतिक उपकरण के रूप में उपयोग कर रहे हैं। इन देशों को यह समझना चाहिए कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है। साथ ही, यह सुनिश्चित करना नितांत आवश्यक है कि अफगानिस्तान के क्षेत्र का उपयोग आतंकवाद फैलाने या आतंकवादी हमलों के लिए न हो।"

आतंकवाद से निपटने पर जोर देते हुए पीएम मोदी ने आगे कहा, "हमें इस बात के लिए भी सतर्क रहना होगा कि वहां की नाजुक स्थितियों का कोई देश, अपने स्वार्थ के लिए, एक टूल की तरह इस्तेमाल करने की कोशिश ना करे। इस समय अफगानिस्तान की जनता को, वहां की महिलाओं और बच्चों को, वहां के अल्पसंख्यकों को मदद की जरूरत है और इसमें हमें उन्हें सहायता प्रदान करके अपना दायित्व निभाना ही होगा।" (आईएएनएस-SM)


पूर्वोत्तर सीमा क्षेत्र बहुत संवेदनशील हैं और उनके लिए तोड़फोड़ के ऐसे प्रयासों के बारे में जानना नितांत आवश्यक है। (Unsplash)

भारत चीन सीमा पर बसे हुए गांव चिंता का विषय हैं। हैग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड ने एक बड़ी सूचना देते हुए बड़ा खुलासा किया है कि चीन ने भारत के साथ अपनी सीमा पर 680 'जियाओकांग' (समृद्ध या संपन्न गांव) बनाए हैं। ये गांव भारतीय ग्रामीणों को बेहतरीन चीनी जीवन की और प्रभावित करने के लिए हैं।

कृष्ण वर्मा, ग्लोबल काउंटर टेररिज्म काउंसिल के सलाहकार बोर्ड के एक सदस्य ने आईएएनएस को बताया, " ये उनकी ओर से खुफिया मुहिम और सुरक्षा अभियान है। वे लोगों को भारत विरोधी बनाने की कोशिश कर रहे हैं। इसलिए हम अपने पुलिस कर्मियों को इन प्रयासों के बारे में अभ्यास दे रहे हैं और उन्हें उनकी हरकतों का मुकाबले का सामना करने के लिए सक्षम बना रहे हैं। चीनी सरकार के द्वारा लगभग 680 संपन्न गांव का निर्माण किया जा चुका है। जो चीन और भूटान की सीमाओं पर हैं। इस गांव में चीन के स्थानीय नागरिक भारतीयों को प्रभावित करते है कि चीनी सरकार बहुत अच्छी है। शुक्रवार को भारत सरकार के पूर्व विशेष सचिव वर्मा गुजरात के गांधीनगर में राष्ट्रीय रक्षा विश्वविद्यालय (आरआरयू) में 16 परिवीक्षाधीन उप अधीक्षकों (डीवाईएसपी) के लिए 12 दिवसीय विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन के अवसर पर एक कार्यक्रम में थे।

Keep reading... Show less