Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

पीसा की मीनार से भी ज्‍यादा झुका हुआ है  वाराणसी का रत्नेश्वर महादेव मंदिर, क्या है मन्दिर का इतिहास​

रत्नेश्वर महादेव का मंदिर वाराणसी के 84 घाटों पर स्थित सभी मंदिर से पूरी तरह से अलग है। अहिल्या बाई की दासी रत्नाबाई ने करवाया था मंदिर का निर्माण।

9 अंश के कोण से झुक हुआ है रत्नेश्वर महादेव मंदिर। (Wikimedia commons)

बाबा विश्वनाथ की नगरी काशी को वर्तमान में वाराणसी कहा जाता है। काशी में इस समय लगभग 1500 मंदिर हैं, जिनमें से अधिकांश इतिहास के विविध कालों से जुड़ी हुई हैं। इन्हीं मंदिरों में से एक ऐसा मंदिर है रत्नेश्वर महादेव। जो अपनी दिव्यता एवं भव्यता के लिए एक अलग पहचान बनाए हुए है। आज हम आपको रत्नेश्वर महादेव मंदिर की विशेषता के बारे में बताएंगे।

क्यों प्रसिद्ध है रत्नेश्वर महादेव मंदिर?

रत्नेश्वर महादेव का मंदिर वाराणसी के 84 घाटों पर स्थित सभी मंदिर से पूरी तरह से अलग है। इसकी खासियत यह है कि लगभग 400 सालों से 9 डिग्री के कोण पर झुका हुआ है। यह मंदिर आज तक ज्यों का त्यों खड़ा है, जबकि यह मंदिर गंगा नदी के तलहटी पर बना हुआ है। आपको बता दें जर्मनी में स्थित पीसा की मीनार केवल 4 डिग्री ही झुकी हुई है। अब आप सोचिए 400 वर्ष पूर्व ना कोई मशीन रही होगी ना कोई यंत्र फिर भी हमारे हमारे पूर्वजों की कलाकृति इतनी विशाल थी कि उन्होंने सैकड़ों वर्ष पूर्व ऐसी दिव्य कृति दुनिया को दी।


क्या है रत्नेश्वर महादेव मंदिर का इतिहास?

माना जाता है इस मंदिर को महारानी अहिल्याबाई की दासी रत्नाबाई ने बनवाया था। ऐसा माना जाता है कि मंदिर की जमीन को अहिल्याबई ने अपनी दासी रत्नाबाई को दी थी। जिसके बाद रत्नाबाई ने उसी जमीन पर मंदिर का निर्माण कार्य प्रारंभ कर दिया था। लेकिन बाद में रत्नाबाई के पास कुछ पैसों की कमी आ गई थी जिसके बाद मंदिर का निर्माण कार्य अहिल्याबाई की मदद से हुआ था। किवदंतियों के अनुसार निर्माण कार्य पूर्ण होने के बाद अहिल्याबाई ने मंदिर देखने की इच्छा जताई अहिल्याबाई मंदिर पहुंची तो वह मंदिर की खूबसूरती देखकर दंग रह गई थी और इसके बाद अहिल्याबाई ने रत्नाबाई से मंदिर का नाम ना देने की बात कहीं लेकिन रत्नाबाई ने इस मंदिर को अपने नाम से जोड़ते हुए रत्नेश्वर महादेव का नाम दिया जिसके कारण तभी से या मंदिर दाहिनी ओर झुक गया।

भारत सरकार द्वारा अहिल्याबाई की स्मृति में जारी किया गया डाक टिकट।(Wikimedia commons)

कौन है अहिल्याबाई जिन्होंने दी थी रत्नेश्वर महादेव मंदिर के निर्माण को जमीन?

मालवा राज्य की महारानी अहिल्याबाई भारत की प्रमुख वीरांगनाओं में से एक है।अहिल्याबाई का जन्म 31 मई 1725 को चौंडी नामक गाँव में हुआ था जो आजकल महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले के जामखेड में पड़ता है। दस-बारह वर्ष की आयु में इनका विवाह खण्डेराव होलकर के साथ हुआ। दुर्भाग्यवश उनतीस वर्ष की अवस्था में अहिल्याबाई को विधवा होना पड़ा। मल्हारराव के निधन के बाद उन्होंने पेशवाओं को आग्रह किया कि उन्हें मालवा की प्रशासनिक बागडोर सौंपी जाए। मंजूरी मिलने के बाद 1766 में रानी अहिल्यादेवी मालवा की शासक बन गईं। उन्होंने तुकोजी होल्कर को सैन्य कमांडर बनाया। उन्हें उनकी राजसी सेना का पूरा सहयोग मिला। अहिल्याबाई ने कई युद्ध का नेतृत्व किया। वे एक साहसी योद्धा थी और बेहतरीन तीरंदाज भी थी। हमेशा आक्रमण करने को तत्पर भील और गोंड्स से उन्होंने कई बरसों तक अपने राज्य को सुरक्षित रखा। इसके अलावा आलिया बाई ने कुछ विशेष कार्य करें जिसके कारण वे संपूर्ण भारतवर्ष में अभी भी जानी जाती हैं जैसे अपने राज्य की सीमाओं के बाहर भारत भर के प्रसिद्ध तीर्थ और स्थानों में मंदिर बनवाना, घाट, कुआं और बांध का निर्माण करवाना।

यह भी पढ़े: जानिए प्रभु श्रीराम के ऐसे 5 गुण जो उन्हें मर्यादा पुरुषोत्तम बनाते हैं

अहिल्याबाई होल्कर के नाम से कई राज्य सरकारों ने कई योजनाएं चलाई है। इसके अलावा 1996 में भारत सरकार ने अहिल्याबाई की स्मृति में एक डाक टिकट भी जारी किया था। अहिल्याबाई को अभी भी मालवा क्षेत्र के वर्तमान लोग राजमाता कह कर पुकारते हैं तथा उनकी उपासना भी करते हैं।

Popular

ओप्पो कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। [Wikimedia Commons]

ओप्पो (Oppo) कथित तौर पर जल्द ही अपना पहला फोल्डेबल स्मार्टफोन लॉन्च करने की योजना बना रहा है। अब एक नई रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हैंडसेट को फाइन्ड एन 5जी कहा जा सकता है। टिपस्टर डिजिटल चैट स्टेशन के अनुसार, आगामी फोल्डेबल स्मार्टफोन का नाम फाइन्ड एन 5जी होगा। इसमें एक रोटेटिंग कैमरा मॉड्यूल भी हो सकता है जो उपयोगकर्ताओं को मुख्य सेंसर का उपयोग करके उच्च-गुणवत्ता वाली सेल्फी क्लिक करने की अनुमति देगा।

ऐसा कहा जा रहा है कि यह फोन 7.8 से 8.0 इंच की ओएलईडी स्क्रीन 2के रिजॉल्यूशन और 120हट्र्ज की रेफ्रेश रेट के साथ है। डिवाइस में साइड-माउंटेड फिंगरप्रिंट रीडर होने की संभावना है। हुड के तहत, यह स्नैपड्रैगन 888 मोबाइल प्लेटफॉर्म द्वारा संचालित होगा।

Keep Reading Show less

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep reading... Show less