Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
संस्कृति

Holika Dahan 2021: बुराई का नाश व अच्छाई पर विजय का दिन

होली से एक दिन पूर्व होलिका दहन का त्यौहार मनाया जाता है। जिसे छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है। होलिकादहन की अग्नि को सभी बुराइयों का नाश करने वाला माना जाता है।

By : Swati Mishra

भारत (India) अपने त्यौहारों व उससे जुड़ी पौराणिक कथाओं के लिए सम्पूर्ण विश्व में प्रख्यात है। भारतवर्ष में हर माह कोई ना कोई त्यौहार अवश्य मनाया जाता है। भिन्न – भिन्न धर्मों से जुड़े नाना प्रकार के उत्सव मनाए जाते हैं। हिन्दू धर्म (Hindu religion) का सबसे प्रसिद्ध व मार्च के महीने में मनाया जाने वाला त्यौहार है होली। होली (Holi) का त्योहार वसंत (Spring) आगमन का सबसे बड़ा प्रतीक माना जाता है। चारों ओर प्रकृति अपनी अनुपम छटा बिखेर रही होती है। उस बीच हमारी ज़िन्दगी में, खुशियों के रंग भर देने वाला यह होली का त्यौहार (Festival) जिसे फाल्गुन मास की पूर्णिमा को मनाया जाता है। एक नए परिवर्तन का एहसास प्रदान करता है। 


होली से एक दिन पूर्व होलिकदहन  (Holikadahan) का त्यौहार मनाया जाता है। जिसे छोटी होली के नाम से भी जाना जाता है। गांवों से लेकर शहरों तक, सभी लोग होलिका दहन की बड़ी ही रोचक तैयारी में जुट जाते हैं। लकड़ियों का ढेर जमा कर, गोबर के उपलों, घी आदि से संध्या के समय अग्नि की पूजा करते हैं। अग्नि का अपना विशेष महत्व है। सम्पूर्ण संसार को यह प्रकाश से भर देता है। पंचतत्वों में से अग्नि को सबसे पवित्र व पूजनीय माना जाता है। इसी तरह होलिका दहन की अग्नि को सभी बुराइयों का नाश करने वाला माना जाता है। इस दिन अलग – अलग रीतियों के अनुसार होलिका की अग्नि की पूजा करते हैं। गुड़ और गेहूं के आंटे से तैयार पकवानों को भी अग्नि को समर्पित किया जाता है। इसके अलावा गोबर से बनी ढाल एवम खिलौनों को भी रखा जाता है। धान , पके चने, गेहूं की बालियां आदि भी अग्नि को समर्पित किया जाता है। सूत्र से होलिका अग्नि के चारो ओर परिक्रमा की जाती है। जब अग्नि राख स्वरूप अपना अस्तित्व छोड़ जाती है तब उस राख को घरों, मंदिरों और लोगों को लगाया जाता है। 

(होलिकादहन की पौराणिक कथा)

जिस तरह होलिका दहन का अपना महत्व है उसी प्रकार इससे जुड़ी पौराणिक कथा का भी विशेष महत्व है। कहा जाता है कि, प्राचीन काल में भारतवर्ष में दैत्य हिरणकश्यप (Hiranyakashyap) नामक असुरों का राजा रहता था। असुरों के राजा हिरणकश्यप ने कठिन तपस्या के पश्चात भगवान ब्रह्मा (Bhagwan Brahma) जी को प्रसन्न किया। ब्रह्मा जी ने प्रसन्न होकर हिरणकश्यप से एक वरदान मांगने को कहा। तब उसने अनश्वरता का वरदान मांगा था। परन्तु ब्रह्मदेव ने उन्हें अमर होने का वरदान नहीं दिया और वरदान स्वरूप हिरणकश्यप (Hiranyakashyap) को अपार शक्तियां प्रदान करी। ब्रह्मदेव ने हिरणकश्यप को आशीर्वाद देते हुए कहा कि, तुम्हें देव – देवता, दानव – मानव, जीव – जंतु में से कोई नहीं मार पाएगा। तुम्हारी मृत्यु ना किसी शस्त्र से होगी ना किसी अस्त्र से होगी। तुम्हें ना कोई दिन में मार पायेगा ना ही रात में। ब्रह्मदेव ने उन्हें यह सभी वरदान दे दिया कि तुम पृथ्वी, आकाश या पाताल कहीं भी नहीं मारे जाओगे। अहंकारी हिरणकश्यप ये वरदान पाकर बहुत प्रसन्न हुआ और धीरे – धीरे खुद को अजर – अमर समझने लगा। घमंड से चूर वह अपने आपको भगवान समझने लगा। 

होली (Holi) रंगों के माध्यम से हमारे जीवन में खुशियां भर देती है। (Wikimedia commons)

दैत्यराज हिरणकश्यप भगवान विष्णु (Bhagwan Vishnu) को अपना सबसे बड़ा दुश्मन समझता था। उन्हें अपना सबसे बड़ा शत्रु मानता था। अहंकार में चूर वह स्वयं को मृत्यु लोक का भगवान समझने लगा था। परन्तु हिरणकश्यप का पुत्र प्रहलाद (Prahlad) जन्म से भगवान विष्णु का परम भक्त था। प्रहलाद दिन – रात भगवान विष्णु का ध्यान और उन्हीं का गुणगान करता रहता था। और इसी कारणवश हिरणकश्यप अपने पुत्र प्रहलाद से अत्यंत क्रोधित रहता था। उसने हर तरीके से प्रहलाद को समझाया कि, वह विष्णु की उपासना करना छोड़ दे लेकिन प्रहलाद नहीं माना। भगवान विष्णु के प्रति उसकी श्रद्धा – आस्था अपरंपार थी।

हिरणकश्यप ने हर वो संभव प्रयास किए जिससे प्रहलाद भगवान विष्णु का जाप करना छोड़ दे। हिरणकश्यप के आदेश पर कई बार उसके असुरों ने प्रहलाद (Prahlad) को जान से मार डालने की कोशिश कि। प्रहलाद को जहरीले सांप से कटवाया गया। एक बार हिरणकश्यप ने भक्त प्रहलाद को ऊंची चोटी से गिरा देने का भी आदेश दिया था। परन्तु प्रहलाद पर भगवान विष्णु की इतनी अनुकम्पा थी, कि मृत्य प्रहलाद का वरण ना कर सकी। अंत में हिरणकश्यप ने अपनी बहन होलिका को आदेश दिया कि वह प्रहलाद को गोद में लेकर अग्नि में बैठ जाए। होलिका (Holika) को भी भगवान ब्रह्मा से वरदान में एक एसी चुन्नी प्राप्त थी, जिसे पहनकर अगर वह अग्नि में बैठेगी तो अग्नि उसे नुकसान नहीं पहुंचा पायेगी। होलिका प्रहलाद को गोदी में लेकर अग्नि में बैठ गई लेकिन जैसे ही लकड़ियों में अग्नि प्रज्वलित हुई तभी हवा के कारण वह चुन्नी होलिका के शरीर से हटकर प्रहलाद पर आ गई थी और इस प्रकार होलिका आग में जलकर भस्म हो गई और भक्त प्रहलाद को भगवान विष्णु ने बचा लिया था। कथाओं के अनुसार भगवान विष्णु ने हिरणकश्यप का वध करने के लिए नरसिंह का अवतार धारण किया था। 

यह भी पढ़ें :- महिलाओं द्वारा बनाए गये हर्बल रंग गुलाल से भारत के अलावा लंदन में भी होली खेली जाएगी।

तभी से हमारे पुराणों में इस घटना की याद में इस दिन होलिका दहन करने का विधान है, अर्थात सभी बुराइयों का नाश और अच्छाई पर विजय का दिन। इस तरह हमारे त्यौहार उससे जुड़ी पौराणिक कथाएं हमें सदैव कुछ ना कुछ जरूर सिखलाती हैं। होलिका दहन (Holikadahan) हमें बुराई से अच्छाई का मार्ग सीख देती है। वहीं होली (Holi) रंगों के माध्यम से हमारे जीवन में खुशियां भर देती है। 

Popular

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep Reading Show less

अल्जाइमर रोग एक मानसिक विकार है। (unsplash)

ऑस्ट्रेलिया के शोधकर्ताओं ने एक अभूतपूर्व अध्ययन में 'ब्लड-टू-ब्रेन पाथवे' की पहचान की है जो अल्जाइमर रोग का कारण बन सकता है। कर्टिन विश्वविद्यालय जो कि ऑस्ट्रेलिया के पर्थ शहर में है, वहाँ माउस मॉडल पर परीक्षण किया गया था, इससे पता चला कि अल्जाइमर रोग का एक संभावित कारण विषाक्त प्रोटीन को ले जाने वाले वसा वाले कणों के रक्त से मस्तिष्क में रिसाव था।

कर्टिन हेल्थ इनोवेशन रिसर्च इंस्टीट्यूट के निदेशक प्रमुख जांचकर्ता प्रोफेसर जॉन मामो ने कहा "जबकि हम पहले जानते थे कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों की पहचान विशेषता बीटा-एमिलॉयड नामक मस्तिष्क के भीतर जहरीले प्रोटीन जमा का प्रगतिशील संचय था, शोधकर्ताओं को यह नहीं पता था कि एमिलॉयड कहां से उत्पन्न हुआ, या यह मस्तिष्क में क्यों जमा हुआ," शोध से पता चलता है कि अल्जाइमर रोग से पीड़ित लोगों के दिमाग में जहरीले प्रोटीन बनते हैं, जो रक्त में वसा ले जाने वाले कणों से मस्तिष्क में रिसाव की संभावना रखते हैं। इसे लिपोप्रोटीन कहा जाता है।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Wikimedia Commons)

शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) सम्मेलन को संम्बोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने चरमपंथ और कट्टरपंथ की चुनौतियों से प्रभावी ढंग से निपटने के लिए एससीओ द्वारा एक खाका विकसित करने का आह्वान किया। 21वीं बैठक को संम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि मध्य एशिया में अमन के लिए सबसे बड़ी चुनौती है विश्वास की कमी।

इसके अलावा, पीएम मोदी ने विश्व के नेताओं से यह सुनिश्चित करने का आह्वान किया कि मानवीय सहायता अफगानिस्तान तक निर्बाध रूप से पहुंचे। मोदी ने कहा, "अगर हम इतिहास में पीछे मुड़कर देखें, तो हम पाएंगे कि मध्य एशिया उदारवादी, प्रगतिशील संस्कृतियों और मूल्यों का केंद्र रहा है।
"भारत इन देशों के साथ अपनी कनेक्टिविटी बढ़ाने के लिए प्रतिबद्ध है और हम मानते हैं कि भूमि से घिरे मध्य एशियाई देश भारत के विशाल बाजार से जुड़कर अत्यधिक लाभ उठा सकते हैं"

Keep reading... Show less