Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
मनोरंजन

हॉलीवुड इज फॉर एवरीवन

'हॉलीवुड इज फॉर एवरीवन' शीर्षक से आई रिपोर्ट के अनुसार 81 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि कोविड के दौरान हॉलीवुड, पारिवारिक रिश्तों को बेहतर करने के लिए शानदार तरीका रहा।

रिपोर्ट के अनुसार भारत में लॉकडाउन के दौरान लोगों का अंग्रेजी फिल्मों के प्रति काफी झुकाव देखा गया है। (Unsplash)

जब देश में लॉकडाउन था और सिनेमा हॉल बंद थे तो छोटी स्क्रीन ने लोगों की रूचि हॉलीवुड फिल्म देखने में जगाई। यह बात एक नई रिपोर्ट में सामने आई है। ‘हॉलीवुड इज फॉर एवरीवन’ शीर्षक से आई नई रिपोर्ट के अनुसार, 177 मिलियन यानि कि 17.7 करोड़ दर्शकों ने भारत में टेलीविजन पर अंग्रेजी फिल्में और मनोरंजन चैनल देखे।

नीलसन द्वारा किए गए इस अध्ययन में मुंबई, दिल्ली, चेन्नई, पुणे, अहमदाबाद, लखनऊ और इंदौर सहित महानगरों और नॉन-मेट्रो शहरों के 1500 से अधिक सिने-प्रेमियों पर सर्वे किया गया। इसमें 82 फीसदी ने कहा कि लॉकडाउन के बीच टीवी देखना बड़ी स्क्रीन के अनुभव जैसा रहा, जबकि 81 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि कोविड के दौरान हॉलीवुड पारिवारिक रिश्तों को बेहतर करने के लिए शानदार तरीका रहा।


सर्वे में 81 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने कहा कि छोटे पर्दे पर हॉलीवुड फिल्म देखना परिवार के साथ आउटिंग पर बाहर जाने से बेहतर विकल्प था। 76 प्रतिशत ने कहा कि अकेले टेलीविजन देखने की बजाय सबके साथ देखना बेहतर था।

वहीं जब बात ओटीटी पर टीवी को तरजीह देने की आई तो 88 फीसदी ने कहा कि हॉलीवुड वीएफएक्स और सुपरहीरो स्टंट को स्मार्टफोन की बजाय टीवी पर देखना अच्छा था। 77 फीसदी ने कहा कि स्मार्टफोन पर स्क्रॉल करते समय टीवी पर फिल्में देखना सबसे सही कॉम्ब्निेशन है।

यह भी पढ़ें – कोरोना ने चबाई सर्कस की रौनक

यह किफायती भी था क्योंकि 76 प्रतिशत ने कहा कि उन्हें कई चैनल तक पहुंचने के लिए केवल एक ही सर्विस प्रोवाइडर को पैसे देने थे।

लगभग 90 प्रतिशत दर्शकों ने कहा कि हॉलीवुड फिल्मों के सुपरहीरो के साथ बड़े हुए हैं, और लगभग 80 प्रतिशत दर्शक अपने पसंदीदा हीरो से प्रेरित महसूस करते हैं। 86 प्रतिशत दर्शकों के लिए हॉलीवुड कंटेन्ट से नई चीजों के लिए प्रयास करने की प्रेरणा मिली। 85 प्रतिशत को इससे अंग्रेजी भाषा बेहतर करने में मदद मिली।

स्टडी से यह भी पता चला कि भारत में हॉलीवुड के शौकीन लोग नए ट्रेंड्स का अनुसरण करते हैं और बॉलीवुड और क्षेत्रीय मनोरंजन की तुलना में उंची कीमत वाले प्रोडक्ट्स खरीदते और उनकी सोशल मीडिया पर भी मजबूत उपस्थिति है। (आईएएनएस)

Popular

गीता महोत्स्व

हरियाणा के कुरुक्षेत्र में गुरुवार (2 दिसंबर 2021) से अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (IGM) की शुरुआत की गयी। यह कुरुक्षेत्र वही पावन स्थान है, जहां भगवान श्रीकृष्ण ने महाभारत के 18 दिन के युद्ध के पहले दिन अर्जुन को गीता का ज्ञान दिया था। इस बार के गीता महोत्सव का थीम है ‘आजादी का अमृत महोत्सव’।

हरियाणा सरकार का यह उद्देश्य है कि कुम्भ मेला की तरह ही गीता महोत्सव को भी अंतरराष्ट्रीय प्रसिद्धि मिले। प्रदेश के मुख्यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने बुधवार को कहा कि सरकार वार्षिक अंतरराष्ट्रीय गीता महोत्सव (IGM) को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न दूतावासों में प्रदर्शनियों के आयोजन पर विचार कर रही है।

Keep Reading Show less

प्रशांत किशोर (Twitter, Prashant Kishor)

मशहूर चुनावी रणनीतिकार और कैंपेन मैनेजर प्रशांत किशोर(Prashant Kishor) ने एक बार फिर से सुर्खियों में है। वैसे भी पिछले कुछ समय से प्रशांत किशोर लगातार कांग्रेस पार्टी(Congress party) पर, एक के बाद एक विरोधी बयानबाजी कर रहे हैं। गुरुवार को एक बार फिर प्रशांत किशोर ने कहा कि जो पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनाव हार चुकी है वह विपक्ष का नेतृत्व कैसे कर सकती है, क्या पार्टी में किसी एक व्यक्ति (राहुल गांधी) का कोई दैवीय अधिकार है?

प्रशांत किशोर(Prashant Kishor)ने ट्वीट कर कहा, ''कांग्रेस जिस विचार और स्थान (विशेष वर्ग) का प्रतिनिधित्व करती है, वो एक मजबूत विपक्ष के लिए बेहद अहम है। लेकिन इसके लिये कांग्रेस नेतृत्व को व्यक्तिगत तौर पर कोई दैवीय अधिकार नहीं है, वो भी तब जब पार्टी पिछले 10 सालों में 90 फीसदी चुनावों में हार चुकी है। विपक्ष के नेतृत्व का फैसला लोकतांत्रिक तरीके से होना चाहिए..''

Keep Reading Show less

मनरेगा योजना (Wikimedia Commons)

राज्यसभा(Rajyasabha) में विपक्ष(Opposition) के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे(Mallikarjun Khadge) ने गुरुवार को आरोप लगाया कि केंद्र सरकार(Central Government) सत्ता में आने के बाद से महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम के बजट को कम कर रही है।'

खड़गे ने आरोप लगाया, “2020-21 में मनरेगा(MNREGA) के तहत बजट 1,10,000 करोड़ रुपये था, जो अब घटकर 73,000 करोड़ रुपये हो गया है।”"मोदी सरकार सत्ता में आने के बाद से नरेगा बजट में कटौती कर रही है। उनका इरादा यह देखना है कि गरीब अपने पैरों पर खड़े न हों और स्वाभिमान के साथ न रहें। उनका 1,10,000 करोड़ रुपये का बजट है।

Keep reading... Show less