Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

अमरिंदर : 'शिफ्टी' किरदार सिद्धू ने एक बार फिर दिखाया

अमरिंदर सिंह ने कहा सिद्धू भी उनकी सरकार में मंत्री के रूप में पूरी तरह अक्षम साबित हुए थे।

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख के पद से नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा (wikimedia commons)

पंजाब में बीते कुछ दिनों से सियासी उठा पटक जारी है कई बड़े नेता और मंत्री के पार्टी में पद छोड़ने के कारण यह हो रहा है , इसी बीच पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री केप्टनअमरिंदर सिंह ने मंगलवार को कहा कि महत्वपूर्ण पद संभालने के दो महीने के भीतर पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रमुख के पद से नवजोत सिंह सिद्धू का इस्तीफा संदेह से परे, साबित हो गया है कि क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू 'अस्थिर' आदमी हैं, जिनमें सत्तारूढ़ दल का नेतृत्व करने की क्षमता होने का भरोसा नहीं किया जा सकता, खासकर पंजाब जैसे सीमावर्ती राज्य में। अमरिंदर सिंह ने सिद्धू के इस्तीफे को महज नाटक करार देते हुए कहा कि यह कदम बताता है कि उनके पूर्व कैबिनेट सहयोगी अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों के लिए कांग्रेस छोड़ने और किसी अन्य पार्टी के साथ हाथ मिलाने की तैयार कर रहे हैं।

अमरिंदर सिंह ने कहा सिद्धू भी उनकी सरकार में मंत्री के रूप में पूरी तरह अक्षम साबित हुए थे। और मैं हमेशा से कहता रहा हूं कि यह आदमी अस्थिर और खतरनाक है, और इसे पंजाब को चलाने का काम नहीं सौंपा जा सकता है ।
पंजाब एक संवेदनशील राज्य है, जिसकी सीमा पाकिस्तान के साथ 600 किमी से अधिक है, और सिद्धू के अपने क्रिकेटर मित्र इमरान खान और आईएसआई प्रमुख कमर जावेद बाजवा के साथ घनिष्ठ संबंध हैं, इसलिए सिद्धू भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक गंभीर खतरा हैं। अमरिंदर सिंह ने हवाईअड्डे पर मीडियाकर्मियों से यह कहा जब मंगलवार को वो एक निजी यात्रा पर दिल्ली पहुंचे ।
दो महीने के भीतर पीपीसीसी प्रमुख का पद संभालने के बाद इस्तीफा देकर सिद्धू ने एक बार फिर अपने 'शिफ्टी' चरित्र का प्रदर्शन किया है।

उन्होंने याद करते हुए कहा कि कैसे क्रिकेटर ने 1996 में इंग्लैंड में भारतीय टीम को छोड़ दिया था, अमरिंदर सिंह ने कहा, "मैं इस लड़के को बचपन से जानता हूं और वह अकेला रहा है और अब कभी भी किसी टीम का खिलाड़ी नहीं हो सकता।"

Captain amarinder singh, navjot singh sidhu पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (wikimedia commons)


पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि, सिद्धू को 'तेजतर्रार' वक्ता बताते हुए वह जनसभाओं या रैलियों में अच्छा बोलते हैं, वह लोगों को हंसा सकते हैं, लेकिन यह सब झाग है, जिसमें कोई सार नहीं है।
एक सवाल का जवाब देते हुए कि सिद्धू स्पष्ट रूप से चरणजीत सिंह चन्नी के मंत्रिमंडल में कुछ मंत्रियों को शामिल करने से नाराज हैं, अमरिंदर सिंह ने कहा कि पीपीसीसी प्रमुख जाहिर तौर पर रिमोट कंट्रोल से सरकार चलाना चाहते थे।

आगे उन्होंने कहा, "मंत्रिमंडल गठन मुख्यमंत्री का विशेषाधिकार है, तो सिद्धू को इसमें हस्तक्षेप क्यों करना चाहिए।"
सिद्धू के इस दावे पर कि वह सैद्धांतिक मामलों पर पार्टी प्रमुख का पद छोड़ रहे हैं, अमरिंदर सिंह ने कहा, "वह किन सिद्धांतों की बात कर रहे हैं? वह केवल कांग्रेस छोड़ने के लिए आधार बना रहे हैं। आप बस प्रतीक्षा करें और देखें, वह किसी और के साथ हाथ मिलाएंगे। बहुत जल्द पार्टी बदलेंगे।" पूर्व मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस आलाकमान को उनकी जगह किसी योग्य व्यक्ति को नियुक्त करना चाहिए और तुरंत सिद्धू का इस्तीफा स्वीकार करना चाहिए

यह भी पढ़े : कर्नाटक विधानसभा ने मंदिर को ढहाने से रोकने के लिए विधेयक किया पास

अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह पंजाब के नए मुख्यमंत्री के लिए कपूरथला हाउस खाली करने के मुख्य इरादे से निजी दौरे पर आए हैं। यह बात दिल्ली में भाजपा के वरिष्ठ नेताओं से मिलने की अटकलों को खारिज करते हुए उन्होंने कही ।(आईएएनएस-PS)

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less