Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

जिनसे संभल नहीं रहा छत्तीसगढ़ वो सावरकर पर ज्ञान दे रहे

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने आर एस एस की तुलना नक्सलियों से की, सोशल मीडिया में जनता ने दिया दिया जवाब।

छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने आर एस एस की तुलना नक्सलियों से की।

अभी कुछ दिन पहले छत्तीसगढ़ के जिला कवर्धा में दंगों की खबर आई थी। जब वहां जानने पर पता चला दंगा क्यों हुआ? तो यह ज्ञात हुआ कि हिंदुओं का पवित्र एवं पूजनीय भगवा ध्वज को अपमानित कर जलाया गया है, इस विषय पर संपूर्ण हिंदू समाज एक व्यक्ति का बयान का इंतजार कर रहा था , वह हैं छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल। दरअसल केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने मंगलवार को एक पुस्तक के विमोचन पर एक सच्चाई कह दी जो कई लोगों को कड़वी लगी। आप को बता दे, यह पुस्तक वीर सावरकर के जीवन पर आधारित है जिसके विमोचन कार्यक्रम में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत और केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह उपस्थित थे।

केंद्रीय रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा सावरकर के बारे में एक झूठ फैलाया जाता है कि 1910 में आजीवन कारावास की सजा काट रहे सावरकर ने ब्रिटिश हुकूमत के सामने दया याचिका दी थी। जबकि, सच यह है कि उन्होंने महात्मा गांधी के कहने पर ऐसा किया था। सावरकर ने भारत में मजबूत रक्षा और राजनयिक सिद्धांत को प्रस्तुत किया। इसके अलावा राजनाथ सिंह ने वीर सावरकर के विषय में बताते हुए कहा कि वह भारत के सबसे बड़े और पहले रक्षा मामलों के विशेषज्ञ थे। सावरकर का हिंदुत्व धर्म से ऊपर था। वो किसी के साथ भी भेदभाव नहीं करते थे। उन्होंने हमेशा अखंड भारत की बात की। उनके हिंदुत्व को समझने के लिए गहरी समझ की आवश्यकता है।


राजनाथ सिंह के इस बयान पर छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री और गांधी परिवार के प्रिय भूपेश बघेल ने बयान दिया,कि उस समय महात्मा गांधी कहाँ थे और सावरकर कहाँ थे? सावरकर जेल में थे। वह कैसे संवाद कर सकते थे? उन्होंने जेल से दया याचिका दायर की और अंग्रेजों के साथ रहना जारी रखा। वह 1925 में जेल से बाहर आने के बाद 2 राष्ट्र सिद्धांत की बात करने वाले पहले व्यक्ति थे।

भूपेश बघेल इतने में ही कहां रुकने वाले थे उन्होंने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की तुलना नक्सलियों से करते हुए टिप्पणी की, कि छत्तीसगढ़ में जैसे नक्सलियों का नेता आंध्रप्रदेश में है और आंध्रप्रदेश से ही इनका मूमेंट संचालित होता है। वैसे ही छत्तीसगढ़ में आरएसएस के पास अपनी कोई क्षमता नहीं है। जो चलता है, नागपुर से चलता है।"

भूपेश बघेल के इस बयान के बाद लोगों ने सोशल मीडिया के जरिए बघेल को कायदे से लताड़ा और उन्हें अपने राज्य में हो रहे दंगों की याद दिलाई।

Edited By: Lakshya Gupta

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less