Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

दलित वोटों की डकैती करना कांग्रेस की पुरानी आदत : भाजपा

उत्तराखंड राज्य में अब समय बदल रहा है राजनीतिक दल भी दलितों को लुभाने का विशेष प्रयास कर रहे हैं।

भारतीय जनता पार्टी भाजपा का चुनावी चिन्ह (wikimedia commons)

अभी-अभी भारत के पंजाब राज्य में एक बड़ी राजनेतिक घटना घटी जब वंहा का मुख्यमंत्री ने इस्तीफा दिया और सत्ता दल पार्टी ने राज्य ने नया मुख्यमंत्री बनाया । पंजाब में एक दलित को मुख्यमंत्री बना कर कांग्रेस ने एक बड़ी सियासी चाल खेल दी है। अब कांग्रेस इसका फायदा अगले साल होने जा रहे राज्यों के विधानसभा चुनाव में उठाने की रणनीति पर भी काम करने जा रही है । उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड के सियासी पारे को गरम कर दिया है कांग्रेस की इस मंशा ने।

कांग्रेस नेता हरीश रावत जो कि पंजाब में दलित सीएम के नाम का ऐलान करने वाले वो उत्तराखंड से ही आते हैं, अतीत में प्रदेश के मुख्यमंत्री रह चुके हैं और आगे भविष्य में भी सीएम पद के दावेदार हैं, इसलिए बात पहले इस पहाड़ी राज्य के सियासी तापमान की करते हैं। साढ़े चार साल के कार्यकाल में भाजपा राज्य में अपने दो मुख्यमंत्री को हटा चुकी है और अब तीसरे मुख्यमंत्री के सहारे राज्य में चुनाव जीतकर दोबारा सरकार बनाना चाहती है। इसलिए भाजपा इस बात को बखूबी समझती है कि हरीश रावत उत्तराखंड में तो इस मुद्दें को भुनाएंगे ही।

बात करे उत्तराखंड राज्य कि तो यहा पर आमतौर पर ठाकुर और ब्राह्मण जाति ही सत्ता के केंद्र में रहती है, लेकिन अब समय बदल रहा है राजनीतिक दल भी दलितों को लुभाने का विशेष प्रयास कर रहे हैं। दरअसल, उत्तराखंड राज्य में 70 विधानसभा सीट आती है , जिसमें 13 सीट अनुसूचित जाति और 2 सीट अनुसूचित जनजाति के लिए आरक्षित है। मसला सिर्फ 13 आरक्षित सीट भर का ही नहीं है। उत्तराखंड राज्य के 17 प्रतिशत से अधिक दलित मतदाता 22 विधानसभा सीटों पर जीत-हार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं और इसके साथ ही कुल 36 सीटों पर जीत हासिल करने वाली पार्टी राज्य में सरकार बना लेती है।

brahmin in uttrakhand उत्तराखंड राज्य में 70 विधानसभा सीट आती है (wikimedia commons)




अब इस घटना के चलते कांग्रेस के इस फैसले ने उत्तर प्रदेश राज्य में भी राजनीतिक तापमान को बढ़ा दिया है। बात करे यहा सीटों कि तो राज्य में विधानसभा की 403 सीटों में से 84 सीट अनुसूचित जाति के लिए रिजर्व है। पिछले 3 बार हुए विधानसभा चुनाव का आंकड़ा यह बताता है इन 84 में से सबसे ज्यादा सीटें जीतने वाले राजनीतिक दल की ही सरकार प्रदेश में बनी है। प्रदेश के 21 प्रतिशत के लगभग दलित मतदाता राजनीतिक दलों के समीकरण को बिगाड़ने के साथ-साथ जीत हार में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। इन 21 प्रतिशत दलित मतदाताओं में आधे से अधिक 54 प्रतिशत के लगभग जाटव वोटर है जो आमतौर पर मायावाती के समर्थक माने जाते हैं लेकिन गैर-जाटव 46 प्रतिशत ( पासी, धोबी, कोरी, वाल्मीकि, गोंड, खटिक, धानुक और अन्य उपजातियां ) मतदाताओं ने 2017 में भाजपा को जिताने में बड़ी भूमिका निभाई थी। इसलिए कांग्रेस के दलित सीएम के कार्ड ने बहुजन समाज पार्टी के साथ-साथ भाजपा को भी सतर्क कर दिया है।

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव और पंजाब के साथ-साथ उत्तराखंड भाजपा के प्रभारी दुष्यंत कुमार गौतम ने , इसीलिए कांग्रेस के दलित सीएम के कार्ड पर पलटवार करते हुएकांग्रेस को वोट बैंक की डकैती करने वाला राजनीतिक दल करार दे दिया। कांग्रेस नेता सुनील जाखड़ के बयान का हवाला देते हुए गौतम ने कहा कि कांग्रेस हमेशा से ही चुनाव से कुछ महीने पूर्व दलित को सीएम बना कर और चुनाव बाद उन्हे हटाकर किसी और को सीएम बनाकर दलितों के वोट की डकैती करती आई है।

यह भी पढ़ें : पंजाब में कैप्टन की पारी समाप्त

कांग्रेस पर हमला जारी रखते हुए भाजपा एससी मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष रह चुके दुष्यंत कुमार गौतम ने कहा कि कांग्रेस ने हमेशा दलितों के वोट पर राज किया लेकिन उन्होने कभी दलित नेताओं और महापुरूषों का सम्मान नहीं किया। साथ ही उन्होंने राष्ट्रपति के बारे में भी कहा । दुष्यंत गौतम ने कहा कि आज देश के सबसे बड़े पद ( राष्ट्रपति ) पर एक दलित बैठे हैं, देश में 3 दलित राज्यपाल हैं। आप को बता दे कि भाजपा दल में वर्तमान में 40 से ज्यादा सांसद दलित है । साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि 10 में से 2 मंत्री उत्तराखंड सरकार केदलित समाज से ही आते हैं।

Input: IANS; Edited By: Pramil Sharma

Popular

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से जारी की गई है रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से एक रिपोर्ट पेश करी गई है जिसमें कई अहम दावे किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अकेले भारत में पिछले एक तिमाही में औसतन 187,118 ब्लॉक प्रतिदिन 17,214,900 से अधिक साइबर सुरक्षा खतरों को सफलतापूर्वक रोका गया।

इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि तकनीकी सहायता (technical support) के घोटाले की प्रभावशीलता महामारी के दौरान बढ़ गई है, क्योंकि उपभोक्ताओं की हाइब्रिड वर्क शेड्यूल और पारिवारिक गतिविधियों को प्रबंधित करने के लिए अपने उपकरणों पर निर्भरता बढ़ गई है। साथ ही साथ रिपोर्ट में यह भी सचेत किया गया है कि आगामी छुट्टियों के मौसम के साथ-साथ खरीदारी और चैरिटी से संबंधित फिशिंग हमलों में तकनीकी सहायता घोटाले बढ़ने का अंदेशा है।

Keep Reading Show less

डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे पर रिचार्ज करने के लिए उपयोगकर्ताओं को देने होंगे शुल्क।(Wikimedia Commons)

भारत के टॉप डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे(PhonePe) ने अपनी एक घोषणा में कहा , "मोबाइल रिचार्ज के लिए फोनपे एक प्रयोग चला रहा है, जहां उपयोगकर्ताओं के एक छोटे से वर्ग से 51-100 रुपये के रिचार्ज के लिए 1 रुपये और 100 रुपये से अधिक के रिचार्ज के लिए 2 रुपये का प्रोसेसिंग शुल्क लिया जा रहा है।"

हालांकि , कंपनी ने यह स्पष्ट किया कि उसके पेमेंट ऐप(PhonePe) पर सभी यूपीआई मनी ट्रांसफर, ऑफलाइन और ऑनलाइन भुगतान (यूपीआई, वॉलेट, क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर) सभी उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ्त हैं और वे जारी रहेंगे। कंपनी ने कहा कि फोनपे इन लेनदेन के लिए कोई शुल्क नहीं लेता है, और भविष्य में भी ऐसा नहीं करेगा।

Keep reading... Show less