Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

क्या कोविड-19 सिर्फ हिंदु त्योहारों में ही सक्रिय होता है?

क्या पटाखा जलाना और पूजा करना ही कोविड-19 के बढ़ने का एकमात्र कारण है? जबकि पराली जलने से होने वाला प्रदूषण कितने ही लोगों की जान ले लेता है।

पटाखों की बिक्री और फोड़ने पर प्रतिबंध। (Pixabay)

भारत एक खूबसूरत देश है जो अपनी अलग संस्कृति, परंपरा, भाषा, रंग, वेशभूषा, धर्म और खानपान के लिए दुनिया भर में प्रसिद्ध है। भारत का संविधान भारत के सभी लोगों को एक समान देखता है। भारत का कानून सभी धर्म, जात आदि के लिए एक समान है, परंतु जब बात आती है, भारत के संविधान को जमीनी हकीकत पर लागू करने की तो भारत में सरकारें ऐसा करने में चूक जाती है, क्योंकिऐसा प्रतीत होता है कि कुछ सरकारों का झुकाव एक धर्म विशेष की ओर ज्यादा होता है ताकि वह अपनी वोट बैंक वाली राजनीति को बेरोकटोक चला सके।

उदाहरण के तौर पर : पश्चिम बंगाल की सरकार ने घोषणा की है कि पिछले साल की तरह इस साल भी लोगों को पांडाल में प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी जाएगी, लेकिन हम आपको बता दें यह वही राज्य है जहां महामारी के दूसरी चरण पर सभी राजनेताओं ने विधानसभा चुनाव के लिए रैलियां निकाली थी, जिसमें प्रचार के दौरान भारी मात्रा में भीड़ जमा हुई थी। उसके लिए कोई कोविड -19 प्रतिबंध नहीं देखा गया था। लेकिन दुर्गा पूजा के दौरान, राज्य को प्रतिबंधों का सामना करना पड़ेगा। इतना पक्षपात क्यों, यह विचार करने वाला विषय है।


राजस्थान ने भी 1 अक्टूबर से 31 जनवरी 2022 तक पटाखों की बिक्री और फोड़ने पर प्रतिबंध लगा दिया है। परंतु वही जब लोग नए साल पर पटाखे फोड़ते हैं तो उस पर कोई प्रतिबंध नहीं लगता। हमारी बात खीर की तरह मीठी नहीं है, लेकिन नीम की कड़वी है लेकिन सत्य है। बात अगर प्रदूषण की करें तो दिवाली पर पटाखे फोड़ने और नए साल, दोनों पर पटाखे फोड़ने पर भी प्रदूषण होता है लेकिन पटाखे की बिक्री और उसे फोड़ने पर प्रतिबंध सिर्फ दिवाली पर ही क्यों? क्या कोविड-19 सिर्फ हिंदु त्योहारों के लिए?


Stop Covid 19, Ban, Gatherings ,Festivals, Health Problem कोविड-19 को नियंत्रित करने का प्रयास। (Pixabay)


कई राज्यों ने इस तरह के उपदेश जारी किया था और अधिकारियों ने घोषणा की थी कि त्योहारों पर सभाओं ने सार्वजनिक स्वास्थ्य के लिए एक गंभीर खतरा पैदा कर दिया है। लेकिन इस तरह की चेतावनियों के बावजूद, त्योहारी सीजन के दौरान कोविड -19 मामलों में गिरावट देखी गई और केवल 2021 में, अप्रैल और मई में, महामारी की दूसरी लहर अपने चरम पर पहुंच गई।

इस बीच, दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है, दिल्ली सरकार ने दशहरे के दौरान पुतला जलाने पर भी प्रतिबंध लगा दिया है, भाजपा शासित राज्य हरियाणा ने राज्य के 14 जिलों में पटाखों पर प्रतिबंध लगा दिया है। जबकि प्रतिबंध एक बहाने के रूप में कोविड -19 का हवाला देते हुए लगाए गए हैं, परंतु किसी भी राज्य ने 'किसान विरोध' के कारण भीड़ को नियंत्रित करने या प्रतिबंधित करने के लिए कोई उपाय नहीं किया है।

यह भी पढ़ें: यूपी में किसकी बनेगी सरकार?

स्पष्ट रूप से, प्रतिबंध कोविड -19 के बारे में नहीं हैं। यदि राजनीतिक दलों ने वास्तव में महामारी पर अंकुश लगाने की परवाह की होती, तो वे पहले 'किसान विरोध' को समाप्त कर देते। यह भारत के धर्मनिरपेक्ष राज्य की अत्याचारी प्रकृति के बारे में है जो एक ऐसे समुदाय को गुलाम बनाना चाहता है जिसे वह नम्र मानता है।

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less