Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

प्रगतिशील कश्मीरी महिलाओं को धमकाया कट्टरपंथियों ने

अफगानिस्तान में गार्ड ऑफ चेंज के बाद अब कश्मीर में हलचल शुरू हो गई है कि इसका असर अब घाटी में फैल सकता है।

कश्मीरी महिलाएं कभी भी धमकियों और दबावों के आगे नहीं झुकी हैं (wikimedia commons)

तालिबान का कब्जा अफगानिस्तान पर होने के कारण जो नई सरकार के अत्याचारों से बचने के लिए हजारों महिलाएं अफगानिस्तान देश छोड़कर भाग गई हैं। काबुल से नई दिल्ली पहुंची अफगानिस्तान की एक शोधकर्ता और कार्यकर्ता हुमेरा रिजई ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, "महिलाओं को मार डाला गया और पीटा गया (जब तालिबान ने पहले कब्जा कर लिया)। उन्होंने अपने सभी अधिकार छीन लिए। उनका कहना था महिलाओं ने पाने के लिए बहुत मेहनत की। 2000 से अपने पैरों पर वापस आ गए हैं जो फिर से खो गया है।"

तालिबान ने जब वर्ष 2000 में अफगानिस्तान देश पर शासन किया, तो महिलाओं के सभी अधिकार छीन लिए गए और उनके साथ एक इंसान जैसा व्यवहार नहीं किया गया। दुर्व्यवहार किया गया । अब, तालिबान 2021 में वापस आ गया है और अफगानिस्तान में महिलाओं को उनसे किसी बेहतर सौदे की उम्मीद नहीं है, क्योंकि वो जानते है कि तालिबान उनकी इज्जत नहीं करेगा।

तालिबान के साथ शुरू करने के लिए उन संगठनों में महिला कर्मचारियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिनके लिए वे काम कर रहे थे। शिक्षा की अवधारणा को मिटा दिया गया है और तालिबान के सांस्कृतिक आयोग के प्रमुख अहमदुल्ला वसीक ने घोषणा की है कि महिलाओं का खेल ना तो उचित है और ना ही आवश्यक है। इसलिए तालिबान एक धमाकेदार वापसी के साथ महिलाओं की हिट लिस्ट में है।

अफगानिस्तान में गार्ड ऑफ चेंज के बाद अब कश्मीर में हलचल शुरू हो गई है कि इसका असर अब घाटी में फैल सकता है, यह एक एसी जगह थी जो खुद ही 30 साल के विद्रोह और हिंसा से धीरे-धीरे उबर रहा है।

अफगानिस्तान में बदलाव ने कश्मीर में कुछ कट्टरपंथियों को यह विश्वास करने के लिए प्रेरित किया है कि तालिबान घाटी में आएगा और आतंकवादियों और अलगाववादियों को फिर से परेशानी पैदा करने में मदद करेगा। ये बेईमान तत्व सोशल मीडिया के माध्यम से महिलाओं को खुलेआम धमका रहे हैं और घर को इस मुकाम तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं कि उनका भी अफगानिस्तान में महिलाओं की तरह ही हश्र होगा। लेकिन कश्मीर की महिलाएं ना तो डरी हुई हैं और ना ही नफरत फैलाने वालों को गंभीरता से ले रही हैं।

अपने संकल्प और कड़ी मेहनत से दुनिया को साबित किया है कश्मीरी महिलाओं ने कि ,वे हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं। जम्मू-कश्मीर में पिछले तीस वर्षों के संघर्ष के दौरान, आतंकवादियों और अलगाववादियों ने महिलाओं को डराने और उन्हें दूसरी पहेली में बदलने का कोई मौका नहीं गंवाया, लेकिन कश्मीर में निष्पक्ष सेक्स कभी नहीं बंधा और आगे बढ़ता रहा।


kashmiri कश्मीरी लड़कियों ने हाल के दिनों में अपनी काबिलियत साबित की है (wikimedia commons)



इतिहास इस बात का गवाह है कि कश्मीरी महिलाएं कभी भी धमकियों और दबावों के आगे नहीं झुकी हैं। 1990 में जब कश्मीर में सशस्त्र विद्रोह शुरू हुआ, तो पाकिस्तान द्वारा प्रायोजित उग्रवादियों ने कामकाजी महिलाओं को निशाना बनाया और उन्हें उनके घरों की चार दीवारों के भीतर कैद करने का हर संभव प्रयास किया। महिलाओं को परदा पहनाने के लिए एसिड हमले किए गए और निजी संगठनों को महिलाओं को काम पर न रखने का फरमान जारी किया गया। लेकिन कश्मीर में महिलाएं उग्रवादियों और चरमपंथियों के खिलाफ खड़ी रहीं। वे दबाव के आगे नहीं झुकी।

कश्मीर में उग्रवाद के दिनों में डीईएम कार्यकर्ता पार्कों, रेस्तरां में छापेमारी के लिए बदनाम थे। लेकिन कश्मीर में महिलाएं कभी भी समूह की विचारधारा से प्रभावित नहीं हुईं। वे अपने जीवन के साथ आगे बढ़ते रहे और एक के बाद एक मील के पत्थर हासिल करते रहे। संघर्ष में रहने के बावजूद कश्मीरी महिलाओं ने शिक्षा, खेल, उद्यमिता, सिविल सेवा, चिकित्सा आदि सहित हर क्षेत्र में अपनी पहचान बनाई है।

कई युवा कलाकारों और लड़कियों सहित ने हाल के दिनों में अपनी काबिलियत साबित की है। ये कलाकार स्टेज शो में भाग ले रहे हैं, शादी के कार्यक्रमों और अन्य सांस्कृतिक कार्यक्रमों के दौरान प्रदर्शन कर रहे हैं। सोशल मीडिया पर उनकी परफॉर्मेंस के वीडियो वायरल हो गए हैं। ये नवोदित कलाकार कश्मीर के इतिहास में एक नया अध्याय लिख रहे हैं।

फुटबॉल और क्रिकेट खेल रही हैं, युवतियां चुनाव लड़ चुकी हैं, और फैशन शो और अन्य कार्यक्रमों में हिस्सा ले रही हैं। वे पुलिस बलों और अन्य सुरक्षा बलों के लिए भर्ती अभियान में भाग ले रहे हैं।

महिलाओं के साथ बदसलूकी का खौफनाक वीडियो जो की अफगानिस्तान में तालिबान द्वारा किया गया यह कश्मीर में वायरल हो गया है। सोशल मीडिया ने अफगानिस्तान पर कब्जा करने वाले चरमपंथियों का बर्बर चेहरा बेनकाब कर दिया है। देश छोड़कर भागी महिलाएं बयां कर रही हैं, खौफनाक दास्तां कश्मीर में कोई भी महिला नहीं चाहती कि ऐसे पुरुष घाटी में पहुंचें। न ही वे किसी कट्टरपंथी संगठन को फिर से उभरते हुए देखना चाहते हैं।

यहां तक कि अगर तालिबान का फैलाव कश्मीर तक पहुंच जाता है, तो भी महिलाएं इसे अस्वीकार कर देंगी और किसी को भी अपने जीवन को नियंत्रित करने की अनुमति नहीं देंगी। पाकिस्तान प्रायोजित अलगाववादी कश्मीर में अपने अधिकार को लागू करने की स्थिति में नहीं हैं क्योंकि उनका आकार छोटा कर दिया गया है। उनके हमदर्द भूमिगत हो गए हैं। अवैध हवाला चैनलों के जरिए कश्मीर में आने वाले पैसे को ब्लॉक कर दिया गया है। यहां तक कि अगर पाकिस्तान छद्म युद्ध से लड़ने के लिए तालिबान की मदद मांगता है - जो उसने जम्मू-कश्मीर में खो दिया है - तो इन चरमपंथियों को कश्मीर में कोई समर्थन मिलने की कोई संभावना नहीं है और महिलाएं उनका विरोध करने वाली पहली होंगी।

Input By- IANS; Edited by: Pramil Sharma

Popular

गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है।(wikimedia commons)

67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में कई प्रतिभाशाली लोगों को पुरस्कारों से नवाजा गया एसे में बी प्राक ने 67वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कारों में अपने गीत 'तेरी मिट्टी' के लिए बेस्ट प्लेबैक सिंगर का खिताब जीता है। उन्होंने और भी विजेताओं के साथ इस पल को साझा किया है ये उनके लिए खास पल रहा। गायक ने अपनी बड़ी जीत के बारे में कहा, "यह साल बहुत अच्छा रहा है। लेकिन सबसे ज्यादा यह पुरस्कार जीतने का पल खास हैं। मैं बहुत खुश हूं। मुझे लगता है कि मैं बहुत खुशनसीब हूं कि हमने एक टीम के साथ ऐसा गीत बनाया जो हमारे राष्ट्र के लिए गौरव के साथ गूंजता है।"

साथ हि वह कहते हैं कि इस पल को वह कभी नहीं भूलेंगे। "आज का दिन मेरे करियर के लिए अनमोल दिन है उन्होंने कहा। हर कलाकार चाहता है कि उसकी सराहना की जाए और राष्ट्रीय पुरस्कार से बड़ा सम्मान कोई नहीं हो सकता।"

 \u092b\u093f\u0932\u094d\u092e \u0915\u0947\u0938\u0930\u0940 2019 की फिल्म केसरी का मुख्य आकर्षण था(wikimedia commons)

Keep Reading Show less

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से जारी की गई है रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

वैश्विक डिजिटल सुरक्षा कंपनी नॉर्टनलाइफ लॉक की तरफ से एक रिपोर्ट पेश करी गई है जिसमें कई अहम दावे किए गए हैं। रिपोर्ट में कहा गया है कि अकेले भारत में पिछले एक तिमाही में औसतन 187,118 ब्लॉक प्रतिदिन 17,214,900 से अधिक साइबर सुरक्षा खतरों को सफलतापूर्वक रोका गया।

इसके अलावा रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि तकनीकी सहायता (technical support) के घोटाले की प्रभावशीलता महामारी के दौरान बढ़ गई है, क्योंकि उपभोक्ताओं की हाइब्रिड वर्क शेड्यूल और पारिवारिक गतिविधियों को प्रबंधित करने के लिए अपने उपकरणों पर निर्भरता बढ़ गई है। साथ ही साथ रिपोर्ट में यह भी सचेत किया गया है कि आगामी छुट्टियों के मौसम के साथ-साथ खरीदारी और चैरिटी से संबंधित फिशिंग हमलों में तकनीकी सहायता घोटाले बढ़ने का अंदेशा है।

Keep Reading Show less

डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे पर रिचार्ज करने के लिए उपयोगकर्ताओं को देने होंगे शुल्क।(Wikimedia Commons)

भारत के टॉप डिजिटल भुगतान प्लेटफॉर्म फोनपे(PhonePe) ने अपनी एक घोषणा में कहा , "मोबाइल रिचार्ज के लिए फोनपे एक प्रयोग चला रहा है, जहां उपयोगकर्ताओं के एक छोटे से वर्ग से 51-100 रुपये के रिचार्ज के लिए 1 रुपये और 100 रुपये से अधिक के रिचार्ज के लिए 2 रुपये का प्रोसेसिंग शुल्क लिया जा रहा है।"

हालांकि , कंपनी ने यह स्पष्ट किया कि उसके पेमेंट ऐप(PhonePe) पर सभी यूपीआई मनी ट्रांसफर, ऑफलाइन और ऑनलाइन भुगतान (यूपीआई, वॉलेट, क्रेडिट और डेबिट कार्ड पर) सभी उपयोगकर्ताओं के लिए मुफ्त हैं और वे जारी रहेंगे। कंपनी ने कहा कि फोनपे इन लेनदेन के लिए कोई शुल्क नहीं लेता है, और भविष्य में भी ऐसा नहीं करेगा।

Keep reading... Show less