Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

दिल्ली में फिर शिक्षकों के वेतन का संकट

दिल्ली सरकार द्वारा वित्त पोषित कॉलेजों में फिर शिक्षकों के वेतन का संकट। डूटा का कहना है कि बार-बार अनुदान रोकना और वेतन में देरी शिक्षकों पर अन्यायपूर्ण और क्रूर हमला है।

दिल्ली सरकार द्वारा वित्त पोषित कॉलेजों में फिर शिक्षकों के वेतन का संकट। (Wikimedia Commons)

दिल्ली सरकार द्वारा 100 प्रतिशत सहायता प्राप्त कॉलेजों में अनुदान के संबंध में बार-बार देरी हो रही है। इस कारण कर्मचारियों को कई महीने से वेतन नहीं मिल रहा है। डूटा का कहना है कि बार-बार अनुदान रोकना और वेतन में देरी शिक्षकों पर अन्यायपूर्ण और क्रूर हमला है। दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक अनुदान में देरी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

सीएम अरविंद केजरीवाल ने मार्च 2021 में प्रधानाध्यापकों को दिए 28 करोड़ रुपये जारी करने का अपना वादा भी पूरा नहीं किया है। इससे शिक्षकों को काफी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है। त्योहारों का मौसम नजदीक है लेकिन कर्मचारियों को अपनी दिन-प्रतिदिन की जरूरतों को पूरा करना भी मुश्किल हो गया है, डूटा अध्यक्ष राजीव रे ने कहा।


डूटा ने इन 12 डी यू कॉलेजों का मुद्दा 15 सितंबर 2021 को यूजीसी के साथ और 20 अक्टूबर को नवनियुक्त वी.सी, प्रोफेसर योगेश सिंह के साथ उठाया था। वीसी और यूजीसी से तत्काल हस्तक्षेप का अनुरोध किया गया है। डूटा ने यूजीसी से इन कॉलेजों के अधिग्रहण की भी मांग की है।

protesting against the Chief Minister of Delhi over the delay in grants दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षक अनुदान में देरी को लेकर दिल्ली के मुख्यमंत्री के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।


डूटा के अध्यक्ष राजीब रे के मुताबिक अन्यायपूर्ण- गैर अनुदान के खिलाफ डूटा आंदोलन को और तेज करेगा अगर वेतन तुरंत जारी नहीं किया जाता है तो।

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया से भी दिल्ली सरकार द्वारा पूरी तरह से वित्त पोषित 12 कॉलेजों के अनुदान जारी करने की मांग की गई है। दिल्ली सरकार के इनमें से कई कॉलेजों में दो महीने से अनुदान जारी नहीं किया गया है। इससे शिक्षकों व कर्मचारियों को आर्थिक तंगी का सामना करना पड़ रहा है। शिक्षक संगठनों ने दिल्ली सरकार से इन कॉलेजों को दिवाली त्योहार से पहले अनुदान जारी करने को कहा है ताकि शिक्षक और गैर-शिक्षण कर्मचारी दिवाली का त्योहार मना सकें।

दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों और गैर-शिक्षकों ने इस विषय पर दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया को पत्र लिखा है कि 'दिल्ली सरकार के पूरी तरह से वित्त पोषित 12 कॉलेजों में से कुछ शिक्षकों और कर्मचारियों को दो महीने से वेतन का भुगतान नहीं करने के कारण वित्तीय संकट का सामना कर रहे हैं।'

यह भी पढ़ें: आईआईटी दिल्ली को उपहार में मिला 1 मिलियन अमरीकी डालर

वहीं दूसरी ओर कोविड-19 के चलते शिक्षक और कर्मचारी पहले से ही आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं। उन्हें जो अनुदान मिलता है, उसमें केवल शिक्षकों और कर्मचारियों के वेतन का भुगतान किया जाता है, शेष शिक्षकों की पेंशन, चिकित्सा बिल, 7वें वेतन आयोग के बकाया आदि के बिल लंबित हैं।

दिल्ली विश्वविद्यालय के शिक्षकों का कहना है कि दिल्ली सरकार द्वारा वित्त पोषित 12 कॉलेजों को दिल्ली सरकार द्वारा दिए जा रहे अनुदान में केवल शिक्षकों और कर्मचारियों के वेतन का ही भुगतान किया जाता है। इन कॉलेजों में अतिथि शिक्षक, संविदा कर्मचारी भी हैं, जिन्हें 12 से 15 हजार रुपये प्रति माह मिलता है, लेकिन पिछले दो महीने से कुछ कॉलेजों को वेतन नहीं मिला है। ये मजदूर दिल्ली जैसे शहर और दूसरी तरफ कोविड-19 जैसी बीमारी में भी बिना वेतन के काम कर रहे हैं।

Input: IANS ; Edited By: Tanu Chauhan

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा से निलंबित।(Wikimedia Commons)

संसद के शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष के 12 सांसदों को राज्यसभा(Rajya Sabha) से निलंबित(Suspended) किया गया है। अब ये 12 सांसद संपूर्ण सत्र के दौरान सदन नहीं आ पाएंगे। निलंबित सांसद कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, भाकपा, माकपा और शिवसेना से हैं। अब आप लोग सोच रहे होंगे संसद का आज पहला दिन और इन सांसदो को पहले दिन ही क्यों निष्कासित कर दिया गया?

इस मामले की शुरुआत शीतकालीन सत्र से नहीं बल्कि मानसून सत्र से होती है। दरअसल, राज्यसभा(Rajya Sabha) ने 11 अगस्त को संसद के मानसून सत्र के दौरान सदन में हंगामा करने वाले 12 सांसदों को सोमवार को संसद के पूरे शीतकालीन सत्र के लिए निलंबित कर दिया। ये वही सांसद हैं, जिन्होंने पिछले सत्र में किसान आंदोलन(Farmer Protest) अन्य कई मुद्दों को लेकर संसद के उच्च सदन(Rajya Sabha) में खूब हंगामा किया था। इन सांसदों पर कार्रवाई की मांग की गई थी जिस पर राज्यसभा के सभापति एम. वेंकैया नायडू को फैसला लेना था।

Keep Reading Show less

मस्क ने कर्मचारियों से टेस्ला वाहनों की डिलीवरी की लागत में कटौती करने को कहा। [Wikimedia Commons]

टेस्ला के सीईओ एलन मस्क (Elon Musk) ने कर्मचारियों से आग्रह किया है कि वे चल रहे त्योहारी तिमाही में वाहनों की डिलीवरी में जल्दबाजी न करें, लेकिन लागत को कम करने पर ध्यान दें, क्योंकि वह नहीं चाहते हैं कि कंपनी 'शीघ्र शुल्क, ओवरटाइम और अस्थायी ठेकेदारों पर भारी खर्च करे ताकि कार चौथी तिमाही में पहुंचें।' टेस्ला आम तौर पर प्रत्येक तिमाही के अंत में ग्राहकों को कारों की डिलीवरी में तेजी लाई है।

सीएनबीसी द्वारा देखे गए कर्मचारियों के लिए एक ज्ञापन में, टेस्ला के सीईओ (Elon Musk) ने कहा कि ऐतिहासिक रूप से जो हुआ है वह यह है कि 'हम डिलीवरी को अधिकतम करने के लिए तिमाही के अंत में पागलों की तरह दौड़ते हैं, लेकिन फिर डिलीवरी अगली तिमाही के पहले कुछ हफ्तों में बड़े पैमाने पर गिर जाती है।'

Keep Reading Show less

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) [Wikimedia Commons]

बॉलीवुड स्टार आयुष्मान खुराना (Ayushmann Khurrana) ने लोकप्रिय स्पेनिश सीरीज 'मनी हाइस्ट' के लिए अपने प्यार को कबूल कर लिया है और सर्जियो माक्र्विना द्वारा निभाए गए अपने पसंदीदा चरित्र 'प्रोफेसर' को ट्रिब्यूट दिया है। एक मजेदार टेक में, स्टार ने प्रसिद्ध 'प्रोफेसर' चरित्र को ट्रिब्यूट दी, हैशटैग इंडियाबेलाचाओ फैन प्रतियोगिता की शुरूआत करते हुए प्रशंसकों को श्रृंखला के लिए अपने प्यार को दिखाने और साझा करने की अनुमति दी। आयुष्मान पियानो पर क्लासिक 'बेला चाओ' का अपना गायन भी गाते हुए दिखाई देते हैं।

Keep reading... Show less