Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

कश्मीर में 3 घंटे से भी कम समय में  3 लोगों की हत्या

हाल ही में मंगलवार को कश्मीर में 3 घंटे से भी कम समय में तीन नागरिकों की हत्या आतंकवादी द्वारा कर दी गई। जम्मू-कश्मीर विकास के पथ पर अग्रसर है और इस बीच यह होने वाली हत्याएं एक संदेश के तौर पर देखी जा रही हैं।

कश्मीर में 3 घंटे से भी कम समय में 3 लोगों की हत्या।(Canva)

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अनुच्छेद 370 हटाने के बाद से जम्मू कश्मीर को भारत का एक अलग राज्य घोषित कर दिया गया साथ ही आतंकवादी रैंक में शामिल होने वाले कश्मीरी युवाओं में 40% से अधिक की गिरावट देखी गई। लेकिन यह बात आतंकी संगठनों को हजम नहीं हुई और उन्होंने एक बार फिर से जम्मू कश्मीर में आतंकी हमले करने शुरू कर दिए। इस साजिश के दौरान की गई हत्या कोई आम हत्या नहीं बल्बल्कि एक सोची-समझी साजिश के तहत की गई हत्या थी।

हाल ही में मंगलवार को कश्मीर में 3 घंटे से भी कम समय में तीन नागरिकों की हत्या आतंकवादी द्वारा कर दी गई। जम्मू-कश्मीर विकास के पथ पर अग्रसर है और इस बीच यह होने वाली हत्याएं एक संदेश के तौर पर देखी जा रही हैं। हम कश्मीर में निर्दोष नागरिकों की सुरक्षा के सामने हजारों कश्मीरी पंडितों को वापस लाने का इरादा रखते हैं, जिसमें भारतीय सेना अपना पूरा योगदान दे रही हैं। कश्मीर में लगभग 31 साल पहले मंगलवार की तरह आतंकी कृतियों के माध्यम से लोगों को अपने घरों से बाहर कर दिया गया था। अलग-अलग अनुमान के मुताबिक 5 से 7 लाख कश्मीरी पंडितों ने अपना घर बार छोड़ दिया था और वह जम्मू शहर और देश के दूसरे हिस्सों में शरणार्थी बन गए थे।


माखन लाल बिंदरू उन सभी लोगों के लिए एक सम्मानित और भरोसेमंद व्यक्ति थे, जिन्होंने श्रीनगर शहर के इकबाल पार्क के पास उनकी दुकान 'बिंदरू मेडिकेट' से दवाइयां खरीदीं थी। जब 1990 के दशक की शुरुआत में उनके रिश्तेदारों और दोस्तों सहित बिंदरू का अधिकांश समुदाय घाटी से बाहर चला गया, मगर वह यहीं पर डटे रहे। उन्होंने अपनी दुकान पर दवाई बेचना चालू रखें जो उस समय श्रीनगर में हरि सिंह हाई स्ट्रीट के शीर्ष छोर स्थित थी। बिंदरू की दुकान से कुछ ही दूरी पर भारतीय सुरक्षा बल का बनकर था। आतंकवाद जब चरम पर रहा, उस दौरान आतंकवादियों ने एक दर्जन से अधिक बार ग्रेनेड फेंके और बंकर पर फायरिंग की। ऐसी नाजुक परिस्थितियों के बावजूद बिंदरू अटल रहे। वह एक आम कश्मीरी थे, जो एक सामान्य जीवन जी रहे थे। लंबे समय से कश्मीर में रहते हुए उनके लिए यह सब सामान्य हो गया था और उन्हें यह विश्वास हो गया था कि डरने की कोई बात नहीं है। उन्होंने अपना व्यापार श्रीनगर के इकबाल पार्क के बाहर एक बड़ी दुकान में स्थानांतरित कर दिया। उनकी पत्नी ने पीक आवर्स के दौरान जरूरतमंदों को दवा देने में उनकी मदद करना शुरू कर दिया।


NO to Terrorism, Jammu and Kashmir, Die, Kashmiri Youth, Encounter कश्मीर में आतंकी हमला। (WIKIMEDIA COMMONS)

उनके डॉक्टर बेटे ने भी उसी दुकान की पहली मंजिल में एक क्लिनिक स्थापित किया था, जहां वह मरीजों का इलाज करते थे। मंगलवार की शाम बिंदरू अपने काउंटर के पीछे थे और दुकान पर मुश्किल से एक ग्राहक रहा होगा, जब अचानक से आतंकियों ने दुकान में घुसकर उन पर नजदीक से फायरिंग कर दी। अस्पताल के डॉक्टरों ने अपने बयान में कहा कि उन्हें चार गोलियां लगी थीं और अस्पताल ले जाते समय उनकी मौत हो गई थी। बिंदरू की हत्या कोई साधारण बदला लेने वाली हत्या नहीं थी। आतंकवाद कि यह निर्दय घटना ऐसे समय में हुआ थीथी, जब भारत सरकार ने कश्मीरी पंडितों की संपत्तियों को पुन: प्राप्त करने के लिए एक महत्वाकांक्षी योजना की घोषणा की थी, जिन्होंने घाटी से भागते समय इन संपत्तियों को मुसीबत में बेच दिया था। कश्मीरी पंडितों ने इसका पिछले 30 वर्षों से इंतजार किया है और पिछले 30 वर्षों के दौरान प्रवासी पंडितों को घाटी में वापस लाने के लिए जमीनी स्तर पर सरकार काम होता हुआ दिखाई दे रही है।

एक निर्दोष कश्मीरी पंडित की हत्या करके, जिसने पलायन न करके वहीं बसे रहने का फैसला किया था, आतंकवादियों का इरादा समुदाय को एक शक्तिशाली संदेश भेजने का है। प्रवासी समुदाय के पहले से ही डगमगाए विश्वास को सरकार कैसे फिर से शुरू करती है, यह देखना होगा। मंगलवार को दूसरी नागरिक की हत्या बिहार के एक रेहड़ी-पटरी वाले की थी। वह गरीब व्यक्ति श्रीनगर के लाल बाजार इलाके में सड़क किनारे भेलपुरी बेचता था। उसे आतंकवादियों ने अनुच्छेद 370 और 35ए के रद्द होने के बाद बाहरी लोगों को कश्मीर में बसने की अनुमति नहीं देने के नापाक मंसूबे पर जोर देने के लिए मार डाला।

यह भी पढ़ें: भारत चीन सीमा पर बसे हुए गांव चिंता का विषय

तीसरी हत्या उत्तरी कश्मीर के बांदीपोरा जिले में हुई। बिंदरू की हत्या के तीन घंटे से भी कम समय में आतंकियों ने शाह मोहल्ला के मुहम्मद शफी लोन को मार गिराया था। लोन एक टैक्सी ड्राइवर था, जिसे हाल ही में सूमो टैक्सी ड्राइवर्स यूनियन का अध्यक्ष चुना गया था। क्षेत्र में ऐसी भी बातें की जा रही हैं कि कुछ साल पहले लोन के घर पर एक मुठभेड़ हुई थी, जिसमें कुछ आतंकवादी मारे गए थे। कहा जा रहा है कि आतंकवादियों को लोन पर शक था कि उन्होंने सुरक्षा बलों को आतंकवादियों की मौजूदगी की सूचना दी थी। अफवाह विश्वसनीय हो या न हो, इस बात में शायद ही कोई संदेह हो कि आतंकी ने लोन को क्यों मारा। केवल संदेह के आधार पर हत्या करना कश्मीर में आतंकवादी हत्याओं की पहचान रही है। इन संदेश हत्याओं की पृष्ठभूमि में, यह स्पष्ट है कि जब तक घाटी में रहने वाले लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित नहीं की जाती, तब तक कश्मीरी पंडित प्रवासियों को वापस लाने का प्रयास भी जल्दबाजी में उठाया गया कदम माना जाएगा।

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

देश के जवानों की शहादत रोकने के लिए एमआईआईटी मेरठ की तरफ से एक बड़ा प्रयास किया गया है। (Wikimedia commons)

देश की सीमाओं की सुरक्षा करते वक्त हमारे देश के वीर सैनिक अक्सर शहीद हो जाते हैं इसलिए कभी ना कभी भारतीयों के मन में यह आता है कि हम अपने वीर जवानों की शहादत को कैसे रोक सकते? लेकिन इस क्षेत्र में अब हमें उम्मीद की किरण मिल गई है। दरअसल, हमारे जवानों की सुरक्षा के लिए मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजनियरिंग टेक्नोलॉजी (एमआईईटी) इंजीनियरिंग कॉलेज, मेरठ के सहयोग से एक मानव रहित बॉर्डर सिक्योरिटी सिस्टम तैयार किया गया है। इस डिवाइस को मानव रहित सोलर मशीन गन नाम दिया गया है। यह सिस्टम बॉर्डर पर तैनात जवानों की सुरक्षा और सुरक्षित रहते हुए आतंकियों का सामना करने के लिए बनाया गया है। इसे तैयार करने वाले युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया ने बताया कि यह अभी प्रोटोटाईप बनाया गया है। इसकी मारक क्षमता तकरीबन 500 मीटर तक होगी, जिसे और बढ़ाया भी जा सकता है।

यह मशीन गन इलेट्रॉनिक है। इसे संचालित करने के लिए किसी इंसान की जरुरत नहीं होगी। इसका इस्तेमाल अति दुर्गम बॉर्डर एरिया में आतंकियों का सामना करने के लिए किया जा सकेगा। इसमें लगे सेंसर कैमरे दुश्मनों पर दूर से नजर रख सकतें हैं। आस-पास किसी तरह की आहट होने पर यह मानव रहित गन जवानों को चौकन्ना करने के साथ खुद निर्णय लेकर दुश्मनों पर गोलियों की बौछार भी करने में सक्षम होगा। इस मानव रहित गन को ऑटोमेटिक और मैनुअल भी कर सकते हैं।

Keep Reading Show less

काउंटरप्वाइंट की रिसर्च में कहा गया है कि भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार बन गया है।(Wikimedia commons)

Keep Reading Show less

बॉलीवुड की सुपरस्टार जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह(wikimedia commons)

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 2022 सीजन 10 टीमों का होगा और बॉलीवुड की सुपरस्टार जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह अन्य कई दिग्गजों के साथ दो नई टीमों के लिए बोली लगाने की जंग में शामिल होने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। आईपीएल की संचालन संस्था ने अगले साल खिलाड़ियों की मेगा नीलामी से पहले दो नई टीमों के अधिकार हासिल करने के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं। जैसे-जैसे घोषणा की तारीख नजदीक आती जा रही है, आईपीएल की दो नई टीमों को खरीदने की होड़ वाकई तेज होती जा रही है।

कुछ दिन पहले, अदानी समूह और आरपी-संजीव गोयनका समूह की ओर से नई टीमों के लिए बोली में शामिल होने की खबरें थीं, मगर अब ऐसा लगता है कि बोली लगाने वालों में अन्य कई दिग्गज शामिल हो सकते हैं।

आउटलुक इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, बॉलीवुड जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह एक टीम के मालिक होने की दौड़ में हो सकते हैं, जिससे पता चलता है कि टीमों के मालिक होने की दौड़ अब पहले से कहीं ज्यादा बड़ी हो चुकी है।

पूर्व ऑल-इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियन प्रकाश पादुकोण की बेटी दीपिका के जीन में खेल है। दूसरी ओर, रणवीर इंग्लिश प्रीमियर लीग से जुड़े रहे हैं और वर्तमान में भारत के लिए एनबीए के ब्रांड एंबेसडर हैं।

IPL इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 2022 सीजन 10 टीमों का होगा(wikimedia commons)

Keep reading... Show less