Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

इस प्रतियोगिता में भाग लेकर जीतें शानदार ईनाम।

आजादी के 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष पर Transparency: Pardarshita वेब सीरीज सभी युवा लेखकों और अपनी सोच को नई उड़ान देने वालों के लिए एक निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रही है।

Canva

Transparency: Pardarshita वेब सीरीज सभी युवा लेखकों और अपनी सोच को नई उड़ान देने वालों के लिए एक निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रही है।

डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा निर्मित डॉक्यूमेंट्री वेब सीरीज Transparency: Pardarshita, एक नया अध्याय आपके समक्ष प्रस्तुत करती है। इस डॉक्यूमेंट्री वेब सीरीज में गत दशक भारत में भ्रष्टाचार के खिलाफ चले संघर्ष और राजनीतिक पार्टी को जनता द्वारा दिए गए चंदे की असल कहानी को विस्तारपूर्वक बताया गया है। इस वेब सीरीज के माध्यम से जनता और समाज को आइना दिखाने का प्रयास किया गया है।

सूचना

आजादी के 75वीं वर्षगांठ के उपलक्ष पर Transparency: Pardarshita वेब सीरीज सभी युवा लेखकों और अपनी सोच को नई उड़ान देने वालों के लिए एक निबंध लेखन प्रतियोगिता का आयोजन करने जा रही है। हम उन सभी भविष्य के विचारकों को आमंत्रित करते हैं जिनमें समाज में वास्तविक सुधार लाने कि प्रतिभा और ललक है।


इस प्रतियोगिता में सभी लेखकों को Transparency: Pardarshita वेब सीरीज के दो मुख्य गीत, "बोल रे दिल्ली बोल" और "कितना चंदा जेब में आया" में से किसी भी एक गीत पर 500 शब्दों में एक स्वतंत्र रचना प्रस्तुत करनी है।

इस प्रतियोगिता के विजेता को पुरस्कार से सम्मानित किया जाएगा। पुरस्कार वितरण विधि इस तरह है:-

  • प्रथम: Rs 4000
  • द्वितीय: Rs 3000
  • तृतीय: Rs 2000
  • सांत्वना पुरस्कार: Rs 500/500


उक्त बताए गए गीतों को सुनने के लिए नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें:

Kailash Kher Song, Hindi Song | Bol Re Dilli Bol Song (बोल रे दिल्ली बोल)| Transparency: Pardarshita
और
Arvind Kejriwal Exposed By Udit Narayan | उदित नारायण केजरीवाल से, कितना चंदा जेब में आया?


इन गीतों के अंदर की कहानी जानने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें।


सभी जानकारियों को ध्यान से पढ़ें।

1. शब्द: सीमा: 500 शब्द

2. आयु: 18+

3. स्वीकार्य भाषा: हिंदी

4. प्रविष्टियां : 20 October रात 12 बजे तक स्वीकार की जाएंगी।

5. प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए यहाँ रजिस्टर करें: Registration Link

6. अधिक जानकारी के लिए संपर्क करें (केवल Whatsapp) : Jyoti Shukla: +91 8920044911 / Swati Mishra: +91 9958413263


ध्यानाकर्षण क्षेत्र

1. सभी भाग लेने वाले प्रतिभागियों को केवल ईमेल के माध्यम से सॉफ्ट कॉपी भेजना होगा।

2. यह प्रतियोगिता केवल हिन्दी भाषी लोगों के आयोजित की गई है।

3. किसी भी प्रकार की कविता या छंद को स्वीकार नहीं किया जाएगा। सभी प्रतिभागियों को न्यूनतम 500 शब्दों में निबंध लेखन अनिवार्य है।

4. ऐसे किसी भी आलेख को स्वीकार नहीं किया जाएगा जिस पर कॉपीराइट हो या वह कहीं से नकल की गई हो।

5. प्रतियोगिता की अवधि 20/ OCT/ 2021 के बाद कोई भी प्रतिलिपि स्वीकार नहीं किया जाएगा।

Popular

पूर्व मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह (wikimedia commons)

हाल ही में कांग्रेस की पंजाब इकाई के प्रमुख के रूप में नियुक्त किए गए नवजोत सिंह सिद्धू के साथ जारी राजनीतिक खींचतान के बीच कैप्टन अमरिंदर सिंह ने शनिवार को पंजाब के मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया। राजभवन के गेट पर 79 वर्षीय अमरिंदर सिंह ने कहा कि वह खुद को अपमानित महसूस कर रहे हैं। बात यह है कि यह एक महीने में तीसरी बार हो रहा है कि विधायकों को बैठक के लिए बुलाया जा रहा है, मेरे नेतृत्व पर सवाल खड़े हो रहे हैं।

अमरिंदर सिंह का यह फैसला कांग्रेस के लिए मुसीबत बन सकता है क्योंकि पंजाब के चुनाव में 6 महीने से भी काम के समय रह गया है। अमरिंदर सिंह ने कहा कि "मैंने आज सुबह कांग्रेस अध्यक्ष (सोनिया गांधी) को फोन किया और उनसे कहा कि मैं इस्तीफा देने जा रहा हूं। उन्होंने कहा कि भविष्य की रणनीति उनके समर्थकों से चर्चा के बाद तय की जाएगी।

Keep Reading Show less

कश्मीरी महिलाएं कभी भी धमकियों और दबावों के आगे नहीं झुकी हैं (wikimedia commons)

तालिबान का कब्जा अफगानिस्तान पर होने के कारण जो नई सरकार के अत्याचारों से बचने के लिए हजारों महिलाएं अफगानिस्तान देश छोड़कर भाग गई हैं। काबुल से नई दिल्ली पहुंची अफगानिस्तान की एक शोधकर्ता और कार्यकर्ता हुमेरा रिजई ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, "महिलाओं को मार डाला गया और पीटा गया (जब तालिबान ने पहले कब्जा कर लिया)। उन्होंने अपने सभी अधिकार छीन लिए। उनका कहना था महिलाओं ने पाने के लिए बहुत मेहनत की। 2000 से अपने पैरों पर वापस आ गए हैं जो फिर से खो गया है।"

तालिबान ने जब वर्ष 2000 में अफगानिस्तान देश पर शासन किया, तो महिलाओं के सभी अधिकार छीन लिए गए और उनके साथ एक इंसान जैसा व्यवहार नहीं किया गया। दुर्व्यवहार किया गया । अब, तालिबान 2021 में वापस आ गया है और अफगानिस्तान में महिलाओं को उनसे किसी बेहतर सौदे की उम्मीद नहीं है, क्योंकि वो जानते है कि तालिबान उनकी इज्जत नहीं करेगा।

तालिबान के साथ शुरू करने के लिए उन संगठनों में महिला कर्मचारियों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगा दिया है, जिनके लिए वे काम कर रहे थे। शिक्षा की अवधारणा को मिटा दिया गया है और तालिबान के सांस्कृतिक आयोग के प्रमुख अहमदुल्ला वसीक ने घोषणा की है कि महिलाओं का खेल ना तो उचित है और ना ही आवश्यक है। इसलिए तालिबान एक धमाकेदार वापसी के साथ महिलाओं की हिट लिस्ट में है।

अफगानिस्तान में गार्ड ऑफ चेंज के बाद अब कश्मीर में हलचल शुरू हो गई है कि इसका असर अब घाटी में फैल सकता है, यह एक एसी जगह थी जो खुद ही 30 साल के विद्रोह और हिंसा से धीरे-धीरे उबर रहा है।

अफगानिस्तान में बदलाव ने कश्मीर में कुछ कट्टरपंथियों को यह विश्वास करने के लिए प्रेरित किया है कि तालिबान घाटी में आएगा और आतंकवादियों और अलगाववादियों को फिर से परेशानी पैदा करने में मदद करेगा। ये बेईमान तत्व सोशल मीडिया के माध्यम से महिलाओं को खुलेआम धमका रहे हैं और घर को इस मुकाम तक पहुंचाने की कोशिश कर रहे हैं कि उनका भी अफगानिस्तान में महिलाओं की तरह ही हश्र होगा। लेकिन कश्मीर की महिलाएं ना तो डरी हुई हैं और ना ही नफरत फैलाने वालों को गंभीरता से ले रही हैं।

अपने संकल्प और कड़ी मेहनत से दुनिया को साबित किया है कश्मीरी महिलाओं ने कि ,वे हर क्षेत्र में पुरुषों के साथ प्रतिस्पर्धा कर सकती हैं। जम्मू-कश्मीर में पिछले तीस वर्षों के संघर्ष के दौरान, आतंकवादियों और अलगाववादियों ने महिलाओं को डराने और उन्हें दूसरी पहेली में बदलने का कोई मौका नहीं गंवाया, लेकिन कश्मीर में निष्पक्ष सेक्स कभी नहीं बंधा और आगे बढ़ता रहा।

Keep Reading Show less

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने तारीफ की (wikimedia commons )

हमारा देश भारत अनेकता में एकता वाला देश है । हमारे यंहा कई धर्म जाती के लोग एक साथ रहते है , जो इसे दुनिया में सबसे अलग श्रेणी में ला कर खड़ा करता है । योगी आदित्यनाथ उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री हैं । उन्होंने एक बयान में कहा कि नई थ्योरी में पता चला है कि पूरे देश का डीएनए एक है। यहां आर्य-द्रविण का विवाद झूठा और बेबुनियाद रहा है। भारत का डीएनए एक है इसलिए भारत एक है। साथ ही उन्होंने कहा की दुनिया की तमाम जातियां अपने मूल में ही धीरे धीरे समाप्त होती जा रही हैं , जबकि हमारे भारत देश में फलफूल रही हैं। भारत ने ही पूरी दुनिया को वसुधैव कुटुंबकम का भाव दिया है इसलिए हमारा देश श्रेष्ठ है। आप को बता दे कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ शनिवार को युगपुरुष ब्रह्मलीन महंत दिग्विजयनाथ की व राष्ट्रसंत ब्रह्मलीन महंत अवेद्यनाथ की पुण्यतिथि पर आयोजित एक श्रद्धांजलि समारोह का शुरुआत करने गये थे। आयोजन के पहले दिन मुख्यमंत्री ने कहा कि कोई भी ऐसा भारतीय नहीं होगा जिसे अपने पवित्र ग्रन्थों वेद, पुराण, उपनिषद, रामायण, महाभारत आदि की जानकारी न हो। हर भारतीय परम्परागत रूप से इन कथाओं ,कहनियोंको सुनते हुए, समझते हए और उनसे प्रेरित होते हुए आगे बढ़ता है।

साथ ही मुख्यमंत्री ने कहा कि हमारे यंहा के कोई भी वेद पुराण हो या ग्रंथ हो इनमे कही भी नहीं कहा गया की हम बहार से आये थे । हमारे ऐतिहासिक ग्रन्थों में जो आर्य शब्द है वह श्रेष्ठ के लिए और अनार्य शब्द का प्रयोग दुराचारी के लिए कहा गया है। मुख्यमंत्री योगी ने रामायण का उदाहरण भी दिया योगी ने कहा कि रामायण में माता सीता ने प्रभु श्रीराम की आर्यपुत्र कहकर संबोधित किया है। लेकिन , कुटिल अंग्रेजों ने और कई वामपंथी इतिहासकारों के माध्यम से हमारे इतिहास की किताबो में यह लिखवाया गया कि आर्य बाहर से आए थे । ऐसे ज्ञान से नागरिकों को सच केसे मालूम चलेगा और ईसका परिणाम देश लंबे समय से भुगतता रहा है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बात करते हुए योगी ने कहा कि , आज इसी वजह से मोदी जी को एक भारत-श्रेष्ठ भारत का आह्वान करना पड़ा। आज मोदी जी के विरोध के पीछे एक ही बात है। साथ ही वो विपक्ष पर जम के बरसे। उन्होंने मोदी जी के बारे में आगे कहा कि उनके नेतृत्व में अयोध्या में पांच सौ वर्ष पुराने विवाद का समाधान हुआ है। यह विवाद खत्म होने से जिनके खाने-कमाने का जरिया बंद हो गया है तो उन्हें अच्छा कैसे लगेगा।

Keep reading... Show less