Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
होम

सुप्रीम कोर्ट के रोक लगाने के बाद भी हुआ पीड़ित का "टू फिंगर टेस्ट"

"टू फिंगर टेस्ट" एक बार फिर से चर्चा का विषय बना हुआ है।सुप्रीम कोर्ट द्वारा टू फिंगर टेस्ट पर रोक लगी हुई है परंतु इसके बावजूद यह सिलसिला आज भी जा रही है, जो एक बहुत दुखद घटना है।

रेप पीड़ित महिला की अत्यंत दयनीय स्थिति। (Pexels)

"टू फिंगर टेस्ट" एक बार फिर से चर्चा का विषय बना हुआ है। यह मामला भारतीय वायु सेना से जुड़ा हुआ है। जब भारतीय वायु सेना की एक महिला ऑफिसर ने अपने सहयोगी पायलट लेफ्टिनेंट पर रेप का आरोप लगाते हुए वायु सेना के अधिकारियों से शिकायत की। महिला का आरोप है कि इस मामले पर कोई कार्यवाही ना होने के कारण उसने पुलिस की सहायता ली और अपनी शिकायत पुलिस में दर्ज करवाई। इसके बाद आरोपी अमितेश हरमुख श को 10 सितंबर को हिरासत में लिया गया।

महिला ऑफिसर ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाते हुए कहा कि 10 सितंबर को उनके पैर में चोट लग गई थी, जिस कारण उन्होंने दर्द निवारण की दवा ली थी और उसके बाद उन्होंने अपने दोस्तों के साथ दो ड्रिंक पी थी, जिसमें से एक ग्लास आरोपी द्वारा परोसा गया। महिला अधिकारी ने दावा किया कि जब वह बेहोशी की हालत में थी, तब उसने आरोपी को कमरे में घुसते देखा और उसका यौन शोषण किया। महिला ऑफिसर ने आगे एक बड़ा खुलासा करते हुए कहा कि "उनकी रेप की पुष्टि के लिए उनका टू फिंगर टेस्ट कराया गया"।


Supreme Court , Ban Order , Illegal "टू फिंगर टेस्ट" एक बार फिर से चर्चा का विषय बना हुआ है।सुप्रीम कोर्ट द्वारा टू फिंगर टेस्ट पर रोक लगी हुई है। (Pexels)

सुप्रीम कोर्ट द्वारा टेस्ट पर प्रतिबंध

सुप्रीम कोर्ट ने 2013 में टू फिंगर टेस्ट पर प्रतिबंध लगा दिया था। कोर्ट ने लीलू और एनआर बनाम हरियाणा राज्य में कहा कि टू-फिंगर टेस्ट नहीं किया जाना चाहिए क्योंकि यह असंवैधानिक है। सुप्रीम कोर्ट ने इस टेस्ट को गैरकानूनी बताया। कोर्ट ने कहा इस टेस्ट को करने वाले डॉक्टरों का लाइसेंस रद्द कर दिया जाएगा। विडंबना यह है कि सुप्रीम कोर्ट के "बैन" करने के बावजूद भी यह टेस्ट किए जा रहा है। स्वास्थ्य मंत्री ने इस परीक्षण पर अपनी टिप्पणी देते हुए इसे अवैज्ञानिक बताया।

हाल ही में महाराष्ट्र स्वास्थ्य विज्ञान विश्वविद्यालय (एमयूएचएस) ने 'फोरेंसिक मेडिसिन एंड टॉक्सिकोलॉजी' विषय के लिए अपना पाठ्य विवरण बदल दिया है। इसमें 'कौमार्य के लक्षण' विषय को हटा दिया गया है जो मेडिकल द्वितीय वर्ष के छात्रों को पढ़ाया जाता है।

यह भी पढ़ें: 7 साल की दोस्ती के बाद गुरुग्राम में दो लड़कियों ने एक-दूसरे से की शादी

आखिर क्या है यह "टू फिंगर टेस्ट"

यह रेप पीड़ितों के ऊपर टेस्ट किया जाता है। जहां डॉक्टर पीड़ित के गुप्त भाग में दो उंगली डालकर उसकी कौमार्य का टेस्ट करते हैं। इससे यह पता लगाया जाता है कि महिला के साथ शारीरिक संबंध बने थे या नहीं और क्या वह सेक्शुअली एक्टिव थी या नहीं। परंतु "टू फिंगर टेस्ट" की यह प्रक्रिया अवैज्ञानिक मानी जाती है, क्योंकि यह टेस्ट कभी सटीक जानकारी नहीं देता। विशेषज्ञों का मानना है कि इससे यह पता लगा पाना मुश्किल है कि पीड़ित का रेप हुआ है या नहीं और उनका यह भी कहना है कि इस टेस्ट पीड़ित को ना केवल मानसिक बल्कि शारीरिक रूप से कमजोर बना देती है और यह काफी पीड़ादायक साबित भी होता है। हम आपको बता दें कि सुप्रीम कोर्ट द्वारा टू फिंगर टेस्ट पर रोक लगी हुई है परंतु बावजूद इसके यह सिलसिला आज भी चला आ रहा है, जो एक बहुत दुखद घटना है।

<iframe src="https://player.vimeo.com/video/394011624?h=dc696846f1" width="640" height="360" frameborder="0" allow="autoplay; fullscreen; picture-in-picture" allowfullscreen></iframe>

Popular

देश के जवानों की शहादत रोकने के लिए एमआईआईटी मेरठ की तरफ से एक बड़ा प्रयास किया गया है। (Wikimedia commons)

देश की सीमाओं की सुरक्षा करते वक्त हमारे देश के वीर सैनिक अक्सर शहीद हो जाते हैं इसलिए कभी ना कभी भारतीयों के मन में यह आता है कि हम अपने वीर जवानों की शहादत को कैसे रोक सकते? लेकिन इस क्षेत्र में अब हमें उम्मीद की किरण मिल गई है। दरअसल, हमारे जवानों की सुरक्षा के लिए मेरठ इंस्टीट्यूट आफ इंजनियरिंग टेक्नोलॉजी (एमआईईटी) इंजीनियरिंग कॉलेज, मेरठ के सहयोग से एक मानव रहित बॉर्डर सिक्योरिटी सिस्टम तैयार किया गया है। इस डिवाइस को मानव रहित सोलर मशीन गन नाम दिया गया है। यह सिस्टम बॉर्डर पर तैनात जवानों की सुरक्षा और सुरक्षित रहते हुए आतंकियों का सामना करने के लिए बनाया गया है। इसे तैयार करने वाले युवा वैज्ञानिक श्याम चौरसिया ने बताया कि यह अभी प्रोटोटाईप बनाया गया है। इसकी मारक क्षमता तकरीबन 500 मीटर तक होगी, जिसे और बढ़ाया भी जा सकता है।

यह मशीन गन इलेट्रॉनिक है। इसे संचालित करने के लिए किसी इंसान की जरुरत नहीं होगी। इसका इस्तेमाल अति दुर्गम बॉर्डर एरिया में आतंकियों का सामना करने के लिए किया जा सकेगा। इसमें लगे सेंसर कैमरे दुश्मनों पर दूर से नजर रख सकतें हैं। आस-पास किसी तरह की आहट होने पर यह मानव रहित गन जवानों को चौकन्ना करने के साथ खुद निर्णय लेकर दुश्मनों पर गोलियों की बौछार भी करने में सक्षम होगा। इस मानव रहित गन को ऑटोमेटिक और मैनुअल भी कर सकते हैं।

Keep Reading Show less

काउंटरप्वाइंट की रिसर्च में कहा गया है कि भारत सबसे तेजी से बढ़ने वाला बाजार बन गया है।(Wikimedia commons)

Keep Reading Show less

बॉलीवुड की सुपरस्टार जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह(wikimedia commons)

इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 2022 सीजन 10 टीमों का होगा और बॉलीवुड की सुपरस्टार जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह अन्य कई दिग्गजों के साथ दो नई टीमों के लिए बोली लगाने की जंग में शामिल होने के लिए पूरी तरह तैयार हैं। आईपीएल की संचालन संस्था ने अगले साल खिलाड़ियों की मेगा नीलामी से पहले दो नई टीमों के अधिकार हासिल करने के लिए बोलियां आमंत्रित की हैं। जैसे-जैसे घोषणा की तारीख नजदीक आती जा रही है, आईपीएल की दो नई टीमों को खरीदने की होड़ वाकई तेज होती जा रही है।

कुछ दिन पहले, अदानी समूह और आरपी-संजीव गोयनका समूह की ओर से नई टीमों के लिए बोली में शामिल होने की खबरें थीं, मगर अब ऐसा लगता है कि बोली लगाने वालों में अन्य कई दिग्गज शामिल हो सकते हैं।

आउटलुक इंडिया की एक रिपोर्ट के अनुसार, बॉलीवुड जोड़ी दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह एक टीम के मालिक होने की दौड़ में हो सकते हैं, जिससे पता चलता है कि टीमों के मालिक होने की दौड़ अब पहले से कहीं ज्यादा बड़ी हो चुकी है।

पूर्व ऑल-इंग्लैंड बैडमिंटन चैंपियन प्रकाश पादुकोण की बेटी दीपिका के जीन में खेल है। दूसरी ओर, रणवीर इंग्लिश प्रीमियर लीग से जुड़े रहे हैं और वर्तमान में भारत के लिए एनबीए के ब्रांड एंबेसडर हैं।

IPL इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) का 2022 सीजन 10 टीमों का होगा(wikimedia commons)

Keep reading... Show less