Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

ऐप्स से उंगलियों पर मौसम की जानकारी लेना कितना बेहतर?

इस साल की शुरूआत में जब चक्रवात 'तौकते' और 'यास' ने पश्चिमी और पूर्वी तटीय राज्यों में दस्तक दी, तो दो चक्रवातों के रास्ते में नहीं रहने वाले लोगों सहित कई लोगों ने या तो एक स्क्रीनशॉट साझा किया

इस साल की शुरूआत में जब चक्रवात ‘तौकते’ और ‘यास’ ने पश्चिमी और पूर्वी तटीय राज्यों में दस्तक दी(UNSPLASH)

 इस साल की शुरूआत में जब चक्रवात ‘तौकते’ और ‘यास’ ने पश्चिमी और पूर्वी तटीय राज्यों में दस्तक दी, तो दो चक्रवातों के रास्ते में नहीं रहने वाले लोगों सहित कई लोगों ने या तो एक स्क्रीनशॉट साझा किया जिसमें एक लिंक देखा जा सकता था जो विंडीडॉटकॉम ऐप पर तेज हवा की धाराओं को प्रदर्शित करता नजर आ रहा था।

आसानी से समझ में आने वाली इमेजरी ने इसे व्हाट्सएप पर लगभग वायरल कर दिया और युवा या बूढ़े समान रूप से, लोग आश्चर्यचकित थे और चक्रवात की तीव्रता पर थरथरा रहे थे। स्मार्टफोन ने वास्तव में कई लोगों के जीवन को बदल दिया है, लेकिन यह मौसम के ऐप्स हैं जो वास्तविक में लोगों के जीवन में अंतर ला रहे हैं।


मौसम से संबंधित बहुत सारे मोबाइल एप्लिकेशन (आम बोलचाल में ऐप) उपयोग में हैं, उनमें से कुछ सरकार से हैं और कुछ निजी कंपनियों से हैं। कुछ सबसे आम ऐप्स की सूची – भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) ‘मौसम’ (सामान्य मौसम सूचना ऐप), ‘दामिनी’ (बिजली अलर्ट के लिए) और ‘मेघदूत’ (किसानों के लिए); स्काईमेट का ‘स्काईमेट वेदर’, ‘मुंबई रेन’ और ‘केरल रेन’; अक्कूवेदर, याहूवेदर, ‘इंडियावेदर’, ‘वेदरबग’, ‘रेनअलार्म’ और बीबीसी का ‘बीबीसी वेदर’ और फिर कुछ राज्य सरकार के हैं जिसमें महाराष्ट्र का ‘महावेध’ और तमिलनाडु का ‘एन स्मार्ट’ ऐप शामिल है।

इन ऐप्स पर उपलब्ध लगभग सभी जानकारी मूल्यवान है और भी इससे संबंधित बहुत कुछ वेबसाइटों पर उपलब्ध है। लेकिन न केवल शहरी क्षेत्रों में बल्कि पेरी-शहरी क्षेत्रों में भी स्मार्ट फोन के प्रसार के साथ, ऐप्स का उपयोग बढ़ गया है। दुर्भाग्य से, अधिकांश सरकारी ऐप डेटा से समृद्ध होने पर भी सौंदर्यशास्त्र की उपेक्षा करते हैं। आज की दुनिया में वेबसाइटों/ऐप्स की सफलता में सौंदर्यशास्त्र एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक है।

एक वेबसाइट और एक ऐप ‘चेन्नईरेन्स’ चलाने वाले एक निजी ब्लॉगर के श्रीकांत ने आईएएनएस को बताया, “आदर्श रूप से, एक ऐप में पर्याप्त बैंडविड्थ और कई स्रोतों से समृद्ध डेटा होना चाहिए और कुछ ऐसा होना चाहिए जो आसान समझ के लिए प्रस्तुत किया गया हो। स्मार्टफोन के उपयोगकर्ता आज रुचि रखते हैं या देखते हैं कि वे एक निश्चित जानकारी तक जितनी जल्दी हो सके कैसे पहुंच सकते हैं। वे जो चाहते हैं उसे खोजते समय वे बहुत अधिक अवांछित जानकारी में रुचि नहीं रखते हैं। स्मार्ट फोन उपयोगकर्ता कुछ क्लिक से ज्यादा पसंद नहीं करते हैं। आईएमडी ऐप्स अधिक अव्यवस्था जोड़ते हैं।”

श्रीकांत और उनकी टीम आईएमडी – रडार, सैटेलाइट इमेज और मॉडल डेटा से डेटा लेते हैं। लेकिन, उनका दावा है कि जिस तरह से वे रडार छवियों को प्रस्तुत करते हैं और आईएमडी इसे करता है, उसमें अंतर है।

वो कहते हैं, “हमारा अखिल भारतीय रडार छवि अनुभाग आईएमडी की अपनी रडार छवियों से सभी रडार छवियों का मोजेक है। जो समझने में बहुत आसान है, इसे गूगल मानचित्र पर मढ़ा गया है जिससे लोग इससे बेहतर तरीके से संबंधित हो सकें। लेकिन, आईएमडी के ऐप में यह सुविधा नहीं है हालांकि आईएमडी की वेबसाइट में है।”

2015 में चेन्नई रेन्स का पहला ऐप था और समय-समय पर बेहतर संस्करण लेकर आया है।

उन्होंने बताया कि ऐप्स पर प्रसारित की जाने वाली जानकारी को इतना आसान बनाने की आवश्यकता है, इसका लक्ष्य होना चाहिए, अगर इसे ऐसा कहा जा सकता है, तो सबसे कम आम भाजक उपयोगकर्ता। (और) इसलिए, एक अच्छी वेबसाइट होने की गारंटी नहीं है कि उसी मालिक द्वारा ऐप अच्छा होगा।

वो कहते हैं, “मोबाइल ऐप्स एक पूरी तरह से अलग बॉल गेम हैं। यह सिर्फ एक वेबसाइट को ऐप में कॉपी नहीं कर रहा है। आईएमडी के साथ समस्या यह है कि इसके ऐप्स मोबाइल ऐप के रूप में नहीं बल्कि वेबसाइट के मोबाइल संस्करण के रूप में बनाए जाते हैं। यही कारण है कि आईएमडी के मोबाइल ऐप सौंदर्य की ²ष्टि से आकर्षक नहीं हैं।”

एक अन्य उदाहरण ‘वेदरबग’ नामक एक निजी ऐप है जो नेटवर्क से डेटा लेता है और बिजली की चेतावनी देता है। आईएमडी के अपने बिजली के सेंसर हैं जो ‘दामिनी’ ऐप को फीड करते हैं। लेकिन अगर कोई दो ऐप्स को देखता है, तो किसी को प्रेजेंटेशन कैसे किया जाता है, इस संदर्भ में पीढ़ीगत अंतर का एहसास होता है।

स्मार्टफोन का सबसे बड़ा फायदा यह है कि कंटेंट मिनटों में होता है, पुराने समय के विपरीत जब अलर्ट दिन में केवल दो या तीन बार आते थे। स्मार्टफोन का उपयोगकर्ता अनुकूलित जानकारी चाहता है न कि कुछ सामान्य, उदाहरण के लिए, एक राज्य में बारिश होगी।

एक प्रमुख निजी खिलाड़ी स्काईमेट के पास 10 मिनट से लेकर कभी-कभी एक घंटे पहले तक कहीं भी बारिश या बिजली गिरने की चेतावनी देने के लिए एक अधिसूचना प्रणाली है। पूरे भारत में इसके अपने 6500-ऑफ वेदर स्टेशन हैं। यह देश भर में स्काईमेट के अपने इंस्ट्रूमेंटेशन के आधार पर वर्षा के पूवार्नुमान, प्रति घंटा, और नाउकास्ट (लोगों को यह बताने में मदद करता है कि अगले एक से तीन घंटों में क्या होने वाला है)।

लेकिन, स्काईमेट के पास जो कुछ भी है, स्काईमेट के संस्थापक और निदेशक जतिन सिंह ने कहा कि, “क्या हमारे नक्शे, समाचार, वीडियो और अन्य ²श्य कंटेंट जैसे रडार इमेजिंग आदि हैं। ‘मुंबई रेन्स’ में उच्च-रिजॉल्यूशन उपग्रह चित्र भी हैं।”

यह स्वीकार करते हुए कि उनकी वेबसाइट ‘स्काईमेट वेदर’ ऐप से अधिक लोकप्रिय है, स्काईमेट के जतिन सिंह ने आईएएनएस से कहा, ‘दामिनी’ एक अच्छा ऐप है, लेकिन स्थान के आधार पर चेतावनियों को खोजने के प्रावधान का अभाव है।”

उदाहरण के लिए, दिल्ली में बैठकर, किसी को बिहार में जगह खोजने में सक्षम होना चाहिए।

वर्मा ने कहा, “जगह और कंटेंट महत्वपूर्ण हैं, लेकिन प्रस्तुति ही मायने रखती है। यह बताते हुए कि विजुअलाइजेशन को आसान आत्मसात करने के लिए सौंदर्य आधारित होना चाहिए, यह आम लोगों की भाषा में होना चाहिए, क्लाइमेट रेजिलिएंट ऑब्जविर्ंग सिस्टम्स प्रमोशन काउंसिल (सीआरओपीसी) के अध्यक्ष कर्नल संजय वर्मा ने ‘टीएन स्मार्ट’ का उदाहरण दिया, न केवल अलर्ट को धक्का दिया, वहां एक पॉपअप संदेश है, लेकिन इसमें एक आईवीआर (वॉयस अलर्ट) भी है। कुछ मामलों में एक या दो मिनट की चेतावनी आपदा से बचने के लिए पर्याप्त समय है।”

दो अन्य ऐप जिनमें बहुत मजबूत अलार्म सिस्टम है, वे हैं ‘वेदर बग’ और ‘रेन अलार्म’, दोनों ही रडार आउटपुट पर आधारित हैं।

सीआरओपीसी आईएमडी के साथ संयुक्त रूप से एक ‘लाइटनिंग रेजिलिएंट इंडिया कैंपेन’ चला रहा है। वर्मा ने बताया कि कैसे पहले से ही बहुमुखी दामिनी ऐप आउटपुट को और अधिक परिष्कृत करने के लिए परिवर्तनों को शामिल कर सकता है।

उन्होंने कहा, “डॉपलर वेदर रडार (डीडब्ल्यूआर) और शॉर्ट-रेंज एक्स-बैंड रडार के संयोजन की आवश्यकता है जो एचएफ (उच्च आवृत्ति) डिटेक्टरों और इलेक्ट्रिक फील्ड मीटर के साथ लगाए गए हैं, पूवार्नुमान को बेहतर ढंग से परिष्कृत किया जाएगा और सभी मापदंडों को कवर किया जाएगा।”

यही कारण है कि समग्र सॉफ्टवेयर विकास चक्र में यूजर इंटरफेस परीक्षण/विकास भी एक बहुत ही महत्वपूर्ण घटक हैं।

महाराष्ट्र में किसानों के लिए मराठी में अभियान चलाने वाले राहुल पाटिल ने कहा, उदाहरण के लिए, “जैसा कि शुरूआत में बताया गया है, विंडी प्रस्तुति के लिए सबसे अच्छा उदाहरण है। बहुसंख्यक ऐप्स उस स्थान पर आधारित होते हैं जहां उपयोगकर्ता मौजूद होता है और इनमें से अधिकतर ऐप्स एंड-यूजर के लिए जटिल होते हैं। लेकिन मुझे लगता है कि विंडी बहुत आसान ग्राफिकल प्रतिनिधित्व देता है।”

आईएमडी जीएमएचएएस – ग्लोबल मल्टी-हैजर्ड अलर्ट सिस्टम को चेतावनी देता है, जिसके माध्यम से कोई भी इसका उपयोग कर सकता है। आईएमडी की वेबसाइट में आरएसएस/एपीआई फीड भी है, जिसका उपयोग कोई भी निजी उपयोगकर्ता कर सकता है। इसके अलावा, आईएमडी ने अपने ऐप में और इसी तरह एप्पल के साथ आईएमडी से उत्पन्न चेतावनियों को प्रसारित करने के लिए गूगल के साथ सहयोग किया है।

यह भी पढ़े : ‘जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने में भारत की उल्लेखनीय प्रगति’ .

आईएमडी के महानिदेशक (मौसम विज्ञान) डॉ मृत्युंजय महापात्रा ने कहा कि, “हम मुद्दों से अवगत हैं, और हम पहले से ही मौजूदा ‘मौसम’ और ‘दामिनी’ मोबाइल ऐप को बेहतर बनाने की योजना बना रहे हैं।”

महापात्रा ने कहा कि, “आईएमडी ऐप्स के नए संस्करण छह महीने में आने की उम्मीद है।”

–(आईएएनएस-PS)

Popular

पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने स्लीपर सेल्स के ज़रिये दिल्ली में लगवाई आईईडी- रिपोर्ट (Wikimedia Commons)

एक सूत्र ने कहा कि आरडीएक्स-आधारित इम्प्रोवाइज्ड एक्सप्लोसिव डिवाइस (IED), जो 14 जनवरी को पूर्वी दिल्ली के गाजीपुर फूल बाजार में पाया गया था और उसमें "एबीसीडी स्विच" और एक प्रोग्राम करने योग्य टाइमर डिवाइस होने का संदेह था।

कश्मीर और अफगानिस्तान में सक्रिय जिहादी आतंकवादियों द्वारा लगाए गए आईईडी में बड़े पैमाने पर इस्तेमाल किए जाने वाले इन स्विच का पाकिस्तान(Pakistan) सबसे बड़ा निर्माता है। सूत्र ने कहा कि इन फोर-वे स्विच और टाइमर का उपयोग करके विस्फोट का समय कुछ मिनटों से लेकर छह महीने तक के लिए सेट किया जा सकता है।

Keep Reading Show less

राष्ट्रपति भवन (Wikimedia Commons)

दक्षिणी दिल्ली नगर निगम(South Delhi Municipal Corporation) में भाजपा के मुनिरका वार्ड से पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द(Ramnath Kovind) को एक पत्र लिखकर राष्ट्रपति भवन(Rashtrapati Bhavan) में स्थित मुगल गार्डन का नाम बदल कर पूर्व राष्ट्रपति मिसाइल मैन डाक्टर अब्दुल कलाम वाटिका(Abdul Kalam Vatika) के नाम पर रखने की मांग की है। निगम पार्षद भगत सिंह टोकस ने राष्ट्रपति को भेजे अपने पत्र में लिखा है, मुगल काल में मुगलों द्वारा पूरे भारत में जिस प्रकार से आक्रमण किए गए और देश को लूटा था। वहीं देशभर में मुगल आक्रांताओं के नाम से लोगों में रोष हैं। जिन्होंने भारत की संस्कृति को खत्म करने का प्रयास किया उनको प्रचारित न किया जाए।

rastrapati bhavan, mughal garden राष्ट्रपति भवन स्थित मुगल गार्डन (Wikimedia Commons)

Keep Reading Show less

शोधकर्ताओं ने कोविड के खिलाफ लड़ने में कारगर हिमालयी पौधे की खोज। ( Pixabay )

कोविड के खिलाफ नियमित टीकाकरण के अलावा दुनिया भर में अन्य प्रकार की दवाईयों पर अनेक संस्थायें रिसर्च कर रही हैं जो मानव शरीर पर इस विषाणु के आक्रमण को रोक सकती है। इसी क्रम में भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं को एक बड़ी सफलता मिली है। भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी के शोधकर्ताओं ने एक हिमालयी पौधे की पंखुड़ियों में फाइटोकेमिकल्स की खोज की है जो कोविड संक्रमण के इलाज में करगर साबित हो सकती है।

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी) मंडी में स्कूल ऑफ बेसिक साइंस के बायोएक्स सेंटर के एसोसिएट प्रोफेसर डॉ. श्याम कुमार मसाकापल्ली के तर्ज पर एक वक्तव्य में कहा की, अलग अलग तरह के चिकित्सीय एजेंटों में पौधों से प्राप्त रसायनों फाइटोकेमिकल्स को उनकी क्रियात्मक गतिविधि और कम विषाक्तता के कारण विशेष रूप से आशाजनक माना जाता है। टीम ने हिमालयी बुरांश पौधे की पंखुड़ियों में इन रसायनों का पता लगया है। पौधे का वैज्ञानिक नाम रोडोडेंड्रोन अर्बोरियम है जिसे वहाँ के स्थानीय लोग अलग अलग तरह की बीमारियों में इसका इस्तेमाल करते हैं।

Keep reading... Show less