Saturday, June 12, 2021
Home संस्कृति बच्चों तक कैसे पहुंचाएं श्रीमद्भगवद्गीता का ज्ञान?

बच्चों तक कैसे पहुंचाएं श्रीमद्भगवद्गीता का ज्ञान?

श्रीमद्भगवद्गीता वह ज्ञान है जिसे अर्जित कर नास्तिक भी कर्म के पथ पर बिना किसी बाधा के चल पड़ता है। किन्तु सवाल यह की इस ज्ञान को बच्चों तक कैसे पहुंचाएं?

श्रीमद्भगवद्गीता वह ज्ञान है जिसे अर्जित कर नास्तिक भी कर्म के पथ पर बिना किसी बाधा के चल पड़ता है।भगवद्गीता के ज्ञान से पापी एवं लोभी भी हर प्रकार की बुराई छोड़कर अच्छे कर्मों का हाथ थाम लेते हैं। किन्तु हमें यह ध्यान रखना होगा कि इन सभी सद्गुणों को अर्जित करने के लिए गीता के ज्ञान को अपने मस्तिक्ष एवं हृदय में समाहित करना होगा। गीता के हर भाव से अपने कर्मों को परिचित कराना होगा जिसका आरम्भ यदि बाल्यावस्था से हो, तब वह और भी लाभदायक माना जाता है।

लोभ का इस्तेमाल गीता के ज्ञान में…

आज के आधुनिक युग में बच्चों और युवाओं में कर्म का लोभ कम और पैसे या इनाम का लोभ अधिक है। वह इनाम के लिए किसी भी प्रतियोगिता के लिए हाँ! कह सकते हैं। तो क्यों न इसी लोभ का प्रयोग ज्ञान चक्षु को बढ़ाने में किया जाए। माता-पिता एवं शिक्षण संस्थान समय-समय पर बच्चों में भगवत गीता के उच्चारण की प्रतियोगिता आयोजित कर सकते हैं। जिसमें जीतने वालों को इनाम और सभी भाग लेने वाले विद्यार्थियों को प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सकती है। इससे यह होगा कि बच्चों में इनाम जीतने की ललक बढ़ेगी और गीता के श्लोक को धीरे-धीरे कंठस्त कर लेंगे साथ ही गीता पढ़ते हुए उन सभी श्लोकों के सार का मतलब भी उन्हें पता चल जाएगा। माता-पिता अपने बच्चों से घर पर भी पैतरे का प्रयोग कर बच्चों में गीता के ज्ञान बच्चों तक पहुँचाने में कर सकते हैं। और कुछ समय बाद स्वयं बच्चे में भगवद्गीता के विषय में और जानने की ललक जागृत हो जाएगी, तब लोभ नहीं केवल लाभ होगा।

इन उपायों को कुछ शिक्षण संस्थान प्रयोग में भी ला चुके हैं और इससे उन्हें अधिक से अधिक बच्चों तक गीता के ज्ञान को पहुँचाने में सहायता प्राप्त हुई है। पिछले कुछ वर्षों से हरियाणा सरकार गीता महोत्सव के जरिए इसी प्रकार से गीता के ज्ञान का प्रचार एवं प्रसार करने का प्रयास कर रही है।

bhagwat geeta books for children
श्रीमद्भगवद्गीता का ज्ञान विश्व के सम्पूर्ण रहस्य का सत्य है।(Wikimedia Commons)

माता-पिता के द्वारा बच्चों में धर्म के विषय में जागरुकता लाना…

“धर्मो रक्षति रक्षतः”; आज के धर्मनिरपेक्ष समाज में इस कथन के भाव को अवास्तविक रूप से प्रस्तुत किया जाता है, और इसे हिंसा या घृणा से जोड़ा जाता है। जबकि, यह भाव वास्तविक रूप से न ही किसी से घृणा करने को कहा जा रहा है और न ही हिंसा फैलाने को, बल्कि इस भाव का अर्थ है कि यदि हम अपने धर्म की रक्षा करेंगे तो धर्म हमारी रक्षा करेगा। धर्म की रक्षा तलवार या घृणा फैलाकर नहीं अपितु हर जन में धर्म के सद्भाव को जागृत करना होगा।

इसी भाव का प्रयोग माता-पिता या घर के बड़े-बुजुर्ग, बच्चों में धर्म के विषय में सकारात्मक भावना को उतपन्न करने में कर सकते हैं। अधिकांश घरों में दादा जी या दादी अपने पोते-पोतियों को गायत्री मंत्र का उच्चारण करवाते हैं, यदि इसके साथ वे गीता के ज्ञान को भी उन तक पहुंचाएंगे तो और अधिक लाभ होगा। साथ ही वह माता-पिता जिन्हें भगवत गीता के विषय में कोई ज्ञान नहीं है वह भी अपने बच्चों के साथ मिलकर उस परम ज्ञान को अर्जित कर सकेंगे।

यह भी पढ़ें: क्या भगवान हनुमान जी का जन्म तिरूमला के पर्वतों में हुआ था?

नियमतता ही नियम है, इस सिद्धांत को अपनाना होगा…

श्रीमद्भगवद्गीता को अपने जीवन का अभिन्न-अंश बनाना होगा। हर दिन, नियमित रूप से आधा या एक घंटा बच्चों के साथ भगवत गीता के ज्ञान और श्लोकोच्चारण को समर्पित करें। कुछ समय बाद यह कर्म भी आपके दिनचर्या का हिस्सा बन जाएगा। गीता के श्लोक एक या दो बार से नहीं कंठस्त होंगे उसके लिए आपको नियमित अभ्यास की आवश्यकता होती है और जब आप इस दिनचर्या को स्वयं पर लागू करेंगे तब बच्चों में भी इसके प्रति उत्साह एवं विचार उत्पन्न होगा।

पुस्तकों के जरिए बच्चों तक गीता को पहुँचाएं…

आज के आधुनिक युग में जहाँ छोटे से छोटा चीज ऑनलाइन उपलब्ध है वहाँ से आप कुछ ऐसी किताबें भी मंगवा सकते हैं तो आपके बच्चों को बड़े ही रोचक रूप से गीता का ज्ञान देंगे। अब तो किताबों को भी ऑनलाइन पढ़ा जा सकता है, अमेज़न किंडल आपको यह सुविधा भी प्रदान करता है। इस सुविधा का प्रयोग बच्चों तक गीता का ज्ञान पहुँचाने में कर सकते हैं।

ज्ञान, बच्चे और बड़े दोनों के लिए एक खजाने की तरह है। आप जितना उसे पाने की कोशिश करते हैं आपको उतना ही लाभ प्राप्त होता है। लाभ एवं लोभ में केवल एक मात्रा अंतर है किन्तु ज्ञान इस अंतर को सम्पूर्ण रूप से खत्म कर देता है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी