Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
हमारी पसंद
थोड़ा हट के

कोरोना महामारी के बीच भी रायपुर में बहती रही विकास की बयार

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पिछले एक साल में कुछ ऐसे विकास कार्य हुए हैं जिससे शहर की तस्वीर बदल गई और रायपुर अन्य प्रांतों की विकसित राजधानी की कतार में जा पहुंचा है।

रायपुर इंटरनेशनल एयरपोर्ट । ( Wikimedia commons)

छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पिछले एक साल में कुछ ऐसे विकास कार्य हुए हैं जिससे शहर की तस्वीर बदल गई और रायपुर अन्य प्रांतों की विकसित राजधानी की कतार में जा पहुंचा है। आज रायपुर के विकास मॉडल की चर्चा देश भर में हो रही है। पिछले एक साल में विकास के दर्जनों काम किए गए हैं जिसका श्रेय यहां के युवा महापौर एजाज ढेबर को जाता है। कोरोना महामारी के दौर में भी जब सबकुछ थमा हुआ था यहां विकास की रफ्तार नहीं रुकी। पिछले एक साल में किए गए विकास एवं सौंदर्यीकरण के काम से रायपुर की तस्वीर बदली नजर आती है।

इस बाबत पूछने पर महापौर ढेबर ने कहा, “हमारी इच्छा है कि रायपुर अन्य प्रांतों की विकसित राजधानियों में गिना जाए। इसके साथ ही शहर वासियों को नागरिक सुविधाओं में कोई दिक्कत न हो। हम इस दिशा में जी-जान से जुटे हुए हैं और आगे इसके और बेहतर परिणाम दिखेंगे।” छत्तीसगढ़ में भूपेश बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार को दो साल पूरे हो गए। वहीं राजधानी रायपुर के महापौर के रूप में शपथ लेने वाले एजाज ढेबर का एक साल का कार्यकाल 10 जनवरी को पूरा हो जाएगा। रायपुर के युवा एवं ऊजार्वान महापौर एजाज ढेबर ने शपथ ग्रहण समारोह से इतर संवाददाताओं से बातचीत में कहा था, “12 लाख लोगों ने जिस भरोसे के साथ हमें चुना है हम उस पर खरा उतरेंगे और एक साल में राजधानी को सुंदर एवं स्वच्छ बनाएंगे।”


रायपुर वासियों के जीवन को सुगम बनाने और नागरिक सुविधाओं में किसी तरह की कमी न हो इस लिए संकल्प के साथ महापौर ढेबर ने कोरोना काल में जहां सैकड़ों गरीबों व मजदूरों के लिए भोजन का प्रबंध किया वहीं विकास के काम को अमली जामा पहनाने के लिए वह कमर कसे रहे। उन्होंने अक्सर 10 से 12 घंटे काम किया और विकास कार्यों का जायजा लेने के साथ ही आवश्यक दिशा-निर्देश दिए जिससे काम तय समय पर पूरा किया जा सके।

यह भी पढ़ें : कोविड वैक्सीन को लेकर हुए सर्वे ने किए चौंका देने वाले खुलासे, दिखी भारतीयों की अनिश्चितता

रायपुर रेलवे स्टेशन । ( Wikimedia Commons )

बदल गया है रायपुर

शहर की पहचान और इतिहासिक बूढ़ा तालाब का सौंदर्यीकरण आज महापौर के काम की गवाही दे रहा है। जो पहले कभी गंदा तालाब था अब वहां प्रतिदिन करीब पांच हजार लोग सैर के लिए पहुंचते हैं। इसके साथ ही उन्होंने पिछले एक साल में शहर के प्रमुख स्थलों सिटी कोतवाली, घड़ी चौक, गोविंद चौक, जयस्तंभ चौक, ग्लोबल चौक, जवाहर मार्केट, मल्टीलेवल पार्किंग , स्मार्ट रोड का निर्माण एवं सौंदर्यीकरण तय समय में पूरा करवाया।

लागातार वाडरें, बाजारों एवं कालोनियों का दौरा कर वहां के लोगों की समस्याएं जानना और विकास कार्यों का निरीक्षण उनकी दिनचर्या में शामिल है। अन्य विकास कार्यों में ग्रीन कॉरीडोर, भैंसथान व्यावसायिक, साइकिल ट्रैक के साथ-साथ पहला इंटरनेशनल रनिंग ट्रैक, युवाओं के लिए पढ़ने की जगह, वाई-फाई, खेल के मैदान, 17 जगहों में आटोमैटिक स्मार्ट पाकिर्ंग, 24 घंटे पानी की व्यवस्था और पानी के लिए नई पाइपलाइन बिछाने का काम शामिल हैं।

महापौर एजाज ढेबर ने कहा, “मैं सदैव रायपुर वासियों की सेवा में समर्पित हूं। मैं नियमित रूप से शिकायतें सुनता रहता हूं। मैंने सभी 70 वाडरें के लोगों से महापौर स्वस्छता हेल्पलाइन नंबर पर शिकायतें दर्ज कराने की अपील है जिससे तत्काल शिकायतों पर कार्रवाई की जा सके।” उन्होंने कहा, “शहर के बीचोबीच स्थित ऐतिहासिक बूढ़ा तालाब (विवेकानंद सरोवर) की सफाई और सौंदर्यीकरण किया गया है। इसके बाद अब शहर के दूसरे तालाबों को भी संवारने का काम किया जा रहा है। शहर के अन्य तालाब भी अब बूढ़ा तालाब की तरह सुंदर नजर आएंगे। शहर में मौजूद तालाब राजधानी की धरोहर हैं। रायपुर के विकास के लिए तालाबों का संरक्षण जरूरी है।”(आईएएनएस)

Popular

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के सरसंघचालक मोहन भागवत के प्रमुख भाषणों के संग्रह पर आधारित पुस्तक ‘यशस्वी भारत’ का 19 दिसंबर को दिल्ली में विमोचन होगा। यह ऐसी पुस्तक है जिसे पढ़कर आरएसएस को समझने में आसानी होगी। इस किताब में मोहन भागवत के भिन्न-भिन्न स्थानों पर अलग-अलग विषयों पर दिए गए कुल 17 भाषणों का संग्रह है। खास बात है कि वर्ष 2018 के सितंबर में दिल्ली के विज्ञान भवन में दिए गए दो प्रमुख भाषणों और तीसरे दिन के प्रश्नोत्तरी को भी शामिल किया गया है। संघ के जानकारों का कहना है कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ को समझना इतना आसान नहीं है, फिर भी लोगों को इस पुस्तक से काफी कुछ जानकारी मिलेगी। साथ ही उन्हें यह भी स्पष्ट होगा कि विभिन्न विषयों पर संघ का क्या विचार है? 17 भाषणों के संकलन वाली पुस्तक का प्रकाशन नई दिल्ली स्थित प्रभात प्रकाशन ने किया है।

‘यशस्वी भारत’ पुस्तक में सरसंघचालक मोहन भागवत के भाषणों के माध्यम से विभिन्न मुद्दों पर संघ को बताया गया है। पुस्तक के प्रथम प्रकरण का शीर्षक है – ‘हिंदू, विविधता में एकता के उपासक’। इसमें कहा गया है कि ‘हम स्वस्थ समाज की बात करते हैं, तो उसका आशय संगठित समाज होता है। हम को दुर्बल नहीं रहना है, हम को एक होकर सबकी चिंता करनी है।’

Keep Reading Show less
ब्रिटिश भारतीय सैनिक हाइफा की गलियों में। (Wikimedia Commons)

भारत वर्ष में कई वीर वीरांगनाओं ने जन्म लिया। किसी ने राजा बन कर तो किसी ने सिपाही बन कर देश की सेवा की। किन्तु जिन भारत के सपूतों को विदेशों में मिसाल के तौर पर पढ़ाया जा रहा है आज स्वयं भारत की भावी पीढ़ी ने उन्हें भुला दिया है। वामपंथी विचारधारा और एक एजेंडे वाली सोच के भीतर हिंदुस्तान का उज्वल इतिहास कहीं ओझल सा हो गया है। भारत के वीरों ने हाइफा में भी कुछ ऐसे ही शौर्य को दिखाया था। ऐसी गौरवशाली घटनाओं को भारत के युवाओं से क्यों सालों तक छुपाया गया, और अगर छुपाया नहीं तो बताया क्यों नहीं गया। ‘दलपत सिंह शेखावत’ यह नाम आज भी कईयों से अनजान है।

कौन थे दलपत सिंह शेखावत?

अंग्रेजों ने प्रथम विश्व युद्ध में तुर्क और जर्मन से लड़ने के लिए मैसूर, जोधपुर और हैदराबाद की सेना को भेजा गया था। मगर हैदराबाद सेना में अधिकांश मुस्लिम होने की वजह से तुर्कों के खिलाफ लड़ने से रोक दिया। मैसूर और जोधपुर के सैनिकों को युद्ध का आदेश दिया गया। इस युद्ध में सेना का नेतृत्व मेजर दलपत सिंह शेखावत और अमन सिंह जोधा ने किया| दलपत सिंह राजस्थान के पाली जिले के देवली पाबूजी के निवासी थे और अपने पिता जागीरदार ठाकुर हरि सिंह के इकलौते पुत्र थे जिन्हें तत्कालीन जोधपुर नरेश ने अध्ययन के लिए ब्रिटेन भेजा था| वे महज 18 वर्ष की आयु में जोधपुर लांसर में घुड़सवार के रूप में शामिल हुए और बाद में वे सेना में मेजर बने |

Keep Reading Show less
सांकेतिक चित्र । ( Unsplash )

 तलाक से गुजरना बेहद चुनौतीपूर्ण है और अब एक नए अध्ययन (स्टडी) से पता चलता है कि यह मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव डाल सकता है। फ्रंटियर्स इन साइकोलॉजी नामक पत्रिका में प्रकाशित अध्ययन में पाया गया कि जिन लोगों का हाल ही में तलाक हुआ है वह अन्य लोगों की तुलना में कहीं अधिक मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य संबंधी परेशानियों से जूझ रहे हैं।

शोधकर्ता तलाक के मानसिक और शारीरिक प्रभावों की जांच तो कर रहे हैं, लेकिन वह अभी तक इन प्रभावों को सटीक रूप से चित्रित करने के अवसर को नहीं भुना पाए हैं।

Keep reading... Show less