Saturday, May 8, 2021
Home दुनिया ऑस्ट्रेलियाई हंपबैक व्हेल की संख्या में वृद्धि हुई है लेकिन वैज्ञानिकों ने...

ऑस्ट्रेलियाई हंपबैक व्हेल की संख्या में वृद्धि हुई है लेकिन वैज्ञानिकों ने जलवायु परिवर्तन का खतरा जारी

ऑस्ट्रेलिया अब हम्पबैक व्हेल की बढ़ती संख्या के कारण लुप्तप्राय प्रजातियों की सूची से हंपबैक व्हेल को हटाने पर विचार कर रहा है।

By: Phil Mercer

समुद्री विशेषज्ञों का अनुमान है कि लगभग 40,000 हंपबैक व्हेल अब ऑस्ट्रेलियाई जल के माध्यम से सालाना लगभग आधी सदी पहले से पलायन कर रही हैं। ऑस्ट्रेलिया के पूर्वी और पश्चिमी तटों के साथ अंटार्कटिका से लेकर सबट्रॉपिकल पानी तक हंपबैक व्हेल की वार्षिक यात्रा के प्रवासों में से एक है। यह 10,000 किलोमीटर तक की यात्रा है और अप्रैल और नवंबर के बीच शुरू की जाती है। वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया है कि 40,000 हंपबैक व्हेल ऑस्ट्रेलियाई जल में सहवास और प्रजनन के लिए रही हैं। यह 1960 के दशक की शुरुआत में वाणिज्यिक व्हेलिंग की ऊंचाई से एक उल्लेखनीय वसूली है जब यह अनुमान लगाया गया था कि 1,500 से कम हंपबैक थे। वे मुख्य रूप से अपने तेल और बेलन, या “व्हेलबोन” के लिए मारे गए थे।

ऑस्ट्रेलिया के पर्यावरण विभाग का कहना है कि व्यापारिक शिकार की समाप्ति के बाद से कोई भी अन्य व्हेल प्रजाति उतनी मजबूती से उबर नहीं पाई है, जो 1978 में ऑस्ट्रेलिया में बंद हो गई थी। ऑस्ट्रेलिया अब उनकी बढ़ती संख्या के कारण लुप्तप्राय प्रजातियों की सूची से हंपबैक व्हेल को हटाने पर विचार कर रहा है। 16 मीटर तक बढ़ने वाली एक्रोबैटिक हंपबैक अभी भी ऑस्ट्रेलिया में संरक्षित होगी। हालांकि, संरक्षणवादियों का तर्क है कि क्रिल पर जलवायु परिवर्तन के प्रभाव की निगरानी करने के लिए उन्हें पर्यावरणीय सुरक्षा उपायों की अधिक आवश्यकता है जो कि व्हेल उनके भोजन का मुख्य स्रोत है। क्रिल समुद्र में अधिक कार्बन डाइऑक्साइड के जज्ब से प्रभावित होते हैं।

क्वींसलैंड के ग्रिफ़िथ विश्वविद्यालय में समुद्री विज्ञान के एक शोधकर्ता ओलाफ मेनेके का कहना है कि व्हेलों को पनपने के लिए सुनिश्चित करने के लिए सतर्कता की आवश्यकता है। मेनेके ने बताया कि “आम तौर पर बात करें तो, हाँ! यह एक बड़ी सफलता है कि हम्पबैक व्हेल वापस आ गई हैं। लेकिन जाहिर है कि हमें भविष्य में भी यह सवाल पूछने की जरूरत है कि यह भविष्य में कैसे जारी रहेगा, कैसे पहले से ही आबादी पर असर पड़ रहा है और भविष्य में हम कैसे बदलाव का पता लगाने जा रहे हैं।” 

humpback whale australia population
यह एक बड़ी सफलता है कि हम्पबैक व्हेल वापस आ गई हैं।(Pixabay)

वैज्ञानिकों का कहना है कि हम्पबैक व्हेल को अन्य खतरों का सामना करना पड़ता है जिसमें क्रिल, प्रदूषण, निवास स्थान का ह्रास और मछली पकड़ने के जाल में उलझना शामिल है। बछड़े भी हत्यारे व्हेल या शार्क द्वारा हमले का सामना करते हैं। हम्पबैक की रिकवरी ने ऑस्ट्रेलिया के व्हेल-देखने वाले उद्योग के तेजी से विकास में मदद की है।

यह भी पढ़ें: 2020 में जंगलों की कटाई में सबसे ज्यादा बढ़ोतरी हुई, पढ़िए यह रिपोर्ट!

जैसा कि उनकी संख्या बढ़ी है,हम्पबैक के बारे में बहुत कुछ, इसके गीत के लिए प्रसिद्ध एक प्रजाति, एक रहस्य बनी हुई है। उदाहरण के लिए, वैज्ञानिकों को ठीक से पता नहीं है, जहां ऑस्ट्रेलिया के ग्रेट बैरियर रीफ पर वे मेट और कैल्व करते हैं। हंपबैक व्हेल दुनिया के सभी महासागरों में रहती है। वे व्हेल की पीठ पर एक विशिष्ट कूबड़ से अपना सामान्य नाम लेते हैं।(VOA)

(हिंदी अनुवाद शान्तनू मिश्रा द्वारा)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,640FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी