Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

समाचार जगत में भी पुरुषों का बोलबाला, महिला वर्ग खामोश

रिपोर्ट जारी करने वाली महिला लुबा कासोवा ने VOA से बात करते हुए कहा कि न्यूज़रूम में शीर्ष स्थानों पर मुख्य रूप से पुरुषों का बोलबाला है, और निर्णय लेने की प्रक्रिया में भी महिला आवाज़ों की अनुपस्थिति साफ दिखती है।  

मोना खान, पाकिस्तान के इस्लामाबाद में आम जन का साक्षात्कार लेती हुईं। (VOA)

By – Keminni Amanor

मीडिया में महिलाओं के प्रतिनिधित्व पर किए एक नए अध्ययन का कहना है कि समाचार संगठनों को महिला दृष्टिकोण को शामिल करने के लिए और अधिक प्रयास करने चाहिए।


रिपोर्ट जारी करने वाली महिला लुबा कासोवा (Luba Kassova) ने VOA से बात करते हुए कहा कि न्यूज़ रूम में न्यायसम्य वातावरण को हासिल करने के लिए सबसे पहला कदम तो यही होना चाहिए कि पत्रकार न्यूज़ रूम में बिखरी असामनता को स्वीकार करें।

यह भी पढ़ें – मुस्लिम बहुल देश में मुस्लिमों पर ही किया जा रहा है अत्याचार

द मिसिंग पर्सपेक्टिव्स ऑफ वीमेन इन न्यूज़

“The missing perspective of women in news” रिपोर्ट में भारत के साथ-साथ केन्या, नाइजीरिया, दक्षिण अफ्रीका, ब्रिटेन और अमेरिका जैसे बड़े देशों को केंद्र बिंदु बनाया गया है। रिपोर्ट में चार संकेतक मुद्दों को ध्यान में रखा गया है : कार्यस्थल में विविधता, न्यूज़रूम लीडरशिप , समाचार कहानियों में महिलाओं का स्रोत के रूप में योगदान और खबरों में लैंगिक समानता के मुद्दों पर हो रही चर्चा। रिपोर्ट के अनुसार न्यूज़रूम में समानता के नाम पर, पिछले 10 वर्षों में मात्र थोड़ी बहुत ही प्रगति हुई है।

रिपोर्ट के लिए डेटाबेस तैयार करने के लिए 2,000 से अधिक लेख और तीन केस स्टडीज़ का अध्ययन किया गया, और लगभग 12,000 प्रकाशित कंटेंट्स को प्राथमिकता दी गयी और 56 मिलियन से अधिक वास्तविक कहानियों का विश्लेषण भी किया गया था।

रिपोर्ट के अनुसार न्यूज़रूम में समानता के नाम पर पिछले 10 वर्षों में मात्र थोड़ी बहुत ही प्रगति हुई है। (Pixabay)

शीर्ष स्थानों पर पुरुषों का बोलबाला है

लुबा कासोवा (Luba Kassova) ने कहा कि न्यूज़रूम में शीर्ष स्थानों पर मुख्य रूप से पुरुषों का बोलबाला है, और निर्णय लेने की प्रक्रिया में भी महिला आवाज़ों की अनुपस्थिति साफ दिखती है।  

अध्ययन में समाचार एकत्र करने की प्रक्रिया में असंतुलन पाया गया है। वहां भी पुरुष ही प्रधान है। रिपोर्ट की मानें तो 2005 और 2015 के बीच विश्व स्तर पर समाचार जगत में पांच विशेषज्ञों में से मात एक विशेषज्ञ महिला हुआ करती थी। वर्त्तमान की दशा पर नज़र डालें तो भारत में ऑनलाइन न्यूज़ में पुरुषों का ज़िक्र महिलाओं के ज़िक्र से छः गुना अधिक है।

शोधकर्ताओं ने पाया कि जीवनशैली से सम्बंधित खबरों में महिला वर्ग सबसे अच्छा कवरेज करती है, इस तथ्य के विपरीत उन्हें नीति निर्धारण या वर्तमान से जुड़ी ख़बरों की कवरेज के लिए अधिक कहा जाता है।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Women With PTSD And Depression Are On Higher Risk Of Early Death

दुनिया अपनी आधी आबादी के परिप्रेक्ष्य से वंचित है

केन्या के डेली नेशन के कार्यकारी संपादक, पामेला ने VOA से कहा कि महिला वर्ग को समान स्थिति में ना रख कर दुनिया अपनी आधी आबादी के परिप्रेक्ष्य से वंचित है।

कासोवा ने बताया कि अमेरिका और ब्रिटेन में मी टू आंदोलन के बाद भी खबरों में महिलाओं के मुद्दों को कोई ख़ास प्राथमिकता प्राप्त नहीं हुई है।

लुबा कासोवा (Luba Kassova) ने यह भी माना कि बदलाव तभी आएगा जब समाचार जगत इस बदलाव की ओर अपनी सीमाओं से बाहर आएगा और इस दिशा में अपने प्रयास करेगा। (VOA)

Popular

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (File Photo)

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री(Ravi Shastri) ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और 'पिछले पांच वर्षो में फॉर्मेट के राजदूत' होने के लिए प्रशंसा की। मुंबई(Mumbai) में सीरीज के फाइनल में विश्व टेस्ट चैंपियंस(WTC) पर 372 रन की जीत के बाद न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।


Keep Reading Show less

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep reading... Show less