Friday, May 7, 2021
Home देश दलहनों का उत्पादन बढ़ने से कम हुई आयात पर निर्भरता : कृषि...

दलहनों का उत्पादन बढ़ने से कम हुई आयात पर निर्भरता : कृषि मंत्री तोमर

केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि विगत वर्षो के दौरान देश में दहलनी फसलों के उत्पादन में बढ़ोतरी से दाल के आयात पर भारत की निर्भरता कम हुई है।


केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने बुधवार को कहा कि विगत वर्षो के दौरान देश में दहलनी फसलों के उत्पादन में बढ़ोतरी से दाल के आयात पर भारत की निर्भरता कम हुई है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के आह्वान के बाद दलहनों के आयात पर निर्भरता कम हुई है और इससे देश को प्रतिवर्ष 15000 करोड़ रुपये से अधिक की बचत हो रही है। कृषि मंत्री ने कहा कि भारत, दलहन उत्पादन में आत्मनिर्भरता के लक्ष्य की ओर बढ़ रहा है।

केंद्रीय मंत्री तोमर बुधवार को विश्व दलहन दिवस पर भारतीय दलहन अनुसंधान संस्थान (आईआईपीआर) द्वारा आयोजित कार्यक्रम में बतौर अतिथि बोल रहे थे।

इस मौके पर उन्होंने आईआईपीआर के क्षेत्रीय केंद्र भोपाल व बीकानेर में कार्यालय व प्रयोगशाला भवन का उद्घाटन भी किया, साथ ही आईआईपीआर के क्षेत्रीय केंद्र खोरधा (ओडिशा) की आधारशिला रखी।

इस अवसर पर ‘आत्मनिर्भरता एवं पोषण सुरक्षा विषय पर’ तीन दिवसीय राष्ट्रीय संगोष्ठी का भी किया गया है, जिसमें 700 से अधिक वैज्ञानिक, शोधकर्ता, नीति निर्माता , छात्र-छात्राएं एवं किसान बंधु शामिल हो रहे हैं, जो दलहन व पोषण सुरक्षा पर विस्तार से चर्चा करेंगे।

नरेंद्र सिंह तोमर केंद्र सरकार में ग्रामीण विकास, पंचायत राज तथा खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री भी हैं।
 

 
उन्होंने कहा, “विश्व खाद्य एवं कृषि संगठन ने लोगों के स्वास्थ्य पर दलहनी फसलों के अच्छे प्रभाव को देखते हुए विश्व दलहन दिवस मनाने का निर्णय लिया है, जिससे दुनिया का ध्यान दलहनी फसलों को बढ़ावा देने पर जाएगा और हमारे सामूहिक प्रयासों को बल मिलेगा।”

तोमर ने कहा कि देश में गेहूं व धान की खरीद तो एमएसपी (न्यूनतम समर्थन मूल्य) पर होती थी, लेकिन दलहन व तिलहन की खरीद की व्यवस्था नहीं थी, केंद्र सरकार ने किसानों को आय समर्थन के लिए इन्हें भी एमएसपी पर खरीदने की व्यवस्था की है।

उन्होंने कहा कि बीते छह साल में दालों के एमएसपी में 40 फीसदी से 73 फीसदी तक बढ़ोतरी की गई है, जिसका लाभ निश्चित ही किसानों को मिल रहा है।

यह भी पढ़ें: पांच साल के लिए बढ़ा रूस और अमेरिका के बीच परमाणु करार

उन्होंने कहा कि कुपोषण दूर करने के लिए भी दलहन पर और काम करने की जरूरत है। इसमें भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद की मुख्य भूमिका रही है, कृषि वैज्ञानिक अनेक किस्में देश को उपलब्ध करा रहे हैं, जिनसे उत्पादन व उत्पादकता बढ़ाने में मदद मिलेगी। 

NARENDRA MODI
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी । ( PIB ) 

केंद्रीय मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री (नरेंद्र मोदी) ने किसानों की आमदनी वर्ष 2022 तक दोगुनी करने का लक्ष्य रखा है और इस लक्ष्य को हासिल करने की दिशा में केंद्र व राज्य सरकारें और आईसीएआर के साथ-साथ किसान पूरी तन्मयता से काम कर रहे हैं, जिसका प्रतिफल मिलेगा।

किसानों को सुरक्षा कवच मिल सके और वे जोखिम से बेफिक्र हो सकें, इसलिए प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना परिवर्तित रूप में लागू की गई हैं।

तोमर ने कहा कि देश में 86 फीसदी छोटे व सीमांत किसान है, उनको खेती से तभी मुनाफा होगा, जब वे महंगी फसलों की ओर आकर्षित होंगे और नई टेक्नालॉजी से जुड़ेंगे, जिससे कृषि उपज की लागत कम होगी।
उन्होंने कहा कि बेहतर प्रजातियां एवं उच्च गुणवत्तायुक्त बीज अच्छी फसल का एक प्रमुख घटक है। इसे ध्यान में रखते हुए 150 दलहन बीज हब की स्थापना की गई है।

तोमर ने तिलहन के क्षेत्र में भी देश को आत्मनिर्भर बनाने की आवश्यकता पर बल दिया। उन्होंने कहा कि इस दिशा में भी चिंता करने की जरूरत है।

कार्यक्रम को कृषि एवं किसान कल्याण राज्यमंत्री कैलाश चौधरी तथा आईसीएआर के महानिदेशक डॉ. त्रिलोचन महापात्र ने भी संबोधित किया। इस मौके पर आईसीएआर के उप महानिदेशक (फसल विज्ञान) डॉ. तिलक राज शर्मा, सहायक महानिदेशक डॉ. संजीव गुप्ता, आईआईपीआर के निदेशक डॉ. एन.पी. सिंह एवं किसान, वैज्ञानिक व अन्य अधिकारी भी मौजूद थे। ( आईएएनएस )

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी