Monday, June 14, 2021
Home दुनिया भारत और नेपाल - टू नेशन विद वन पीपल

भारत और नेपाल – टू नेशन विद वन पीपल

दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाने के उद्देश्य से भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवने चार नवंबर से छह नवंबर तक नेपाल का दौरा करने वाले हैं।

भारत और नेपाल के बीच एक ही तरह के व्यक्तियों के साथ दो राष्ट्र (टू नेशन विद वन पीपल) के संबंधों का हवाला देते हुए दोनों ही देशों के विशेषज्ञों ने सीमा विवाद सहित अन्य मतभेदों को बातचीत के जरिए जल्द दूर कर संबंधों में सकारात्मक बदलाव लाने को कहा है। पूर्व भारतीय सेना अधिकारी और असम राइफल्स के पूर्व महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल शोकीन चौहान ने कहा, नेपाल और भारत का साझा इतिहास, साझा भूगोल, साझा संस्कृति और साझा पानी है।

सैन्य कूटनीति को द्विपक्षीय संबंधों का प्रमुख आधार करार देते हुए उन्होंने कहा कि 1950 में कम्युनिस्ट चीन ने जब नेपाल की संप्रभुता पर निशाना साधते हुए उससे ‘मेनलैंड में शामिल होने के लिए कहा तो भारतीय सेना ने नेपाली सेना को पुनगर्ठित करने में मदद की थी।

यह उस समय की बात है, जब कम्युनिस्ट चीन के माओत्से तुंग ने नेपाल की संप्रभुता को चुनौती देते हुए नेपाल को चीन की हथेली की पांच उंगलियों में से एक बताते हुए उसे अपने क्षेत्र में मिला लेने की धमकी दी थी।

सेवानिवृत लेफ्टिनेंट जनरल चौहान ने कहा ,आप भले ही किसी भी रूप में हैं, दोनों देशों की सेनाओं के बीच एक ही भावना है। नेपाल में 128,000 सैन्य पेंशनधारी हैं, जो देश की आबादी का बड़ा हिस्सा है।

यह भी पढ़ें – भारत-अमेरिका के बीच सैन्य वार्ता सफल, रक्षा संबंध मजबूत होंगे

दोनों देशों की समान नियति का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि नेपाल को भारत की सुरक्षा चिंताओं के प्रति संवेदनशील होने की आवश्यकता है और इन चिंताओं का समाधान किए जाने की भी जरूरत है। उन्होंने निष्कर्ष निकालते हुए कहा, हमें (दोनों देश) साथ रहने की जरूरत है।

वह 28 अक्टूबर को दिल्ली स्थित थिंक-टैंक लॉ एंड सोसायटी एलायंस एंड डिफेंस कैपिटल द्वारा ह्यनेपाल-भारत सामरिक समरूपता: साझेदारी को प्रगाढ बनाना विषय पर आयोजित एक वेबिनार में बोल रहे थे।

दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाने के उद्देश्य से भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवने चार नवंबर से छह नवंबर तक नेपाल का दौरा करने वाले हैं। वह नेपाल के अपने समकक्ष जनरल पूर्ण चंद्र थापा, राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी और प्रधानमंत्री के. पी. शर्मा ओली से मुलाकात करेंगे।

भारत-नेपाल संबंध के बारे में बात करते हुए, नेपाल के पूर्व मंत्री और नेपाली संघीय संसद के वर्तमान सदस्य, मिनेंद्र रिजाल ने कहा कि हालांकि नेपाल भारत और चीन दोनों की तुलना में एक छोटा राष्ट्र है, मगर वह अपने कूटनीतिक फैसलों के निहितार्थ से अच्छी तरह से अवगत है।

Minendra Rijal
नेपाली संघीय संसद के वर्तमान सदस्य, मिनेंद्र रिजाल। (Facebook)

उन्होंने स्वीकार किया कि भारत और नेपाल एक विशेष और गहरे और अथाह संबंध साझा करते हैं और बहुत कम देशों में इस तरह के संबंध हैं।

भारत के आर्थिक विकास के बारे में नेपाल के दृष्टिकोण को रखते हुए उन्होंने कहा, ह्लभारत की आबादी नेपाल से 40 गुना अधिक है और इसकी अर्थव्यवस्था नेपाल की अर्थव्यवस्था से 100 गुना बड़ी है। चीन की तुलना में भारत में औसत आयु बहुत कम है। इसलिए, आने वाले 20 से 25 वर्षों में भारत दुनिया की सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। हमें इन तथ्यों का पता है।

यह भी पढ़ें – कट्टरपंथी इस्लाम के खिलाफ फ्रांस का पुरजोर समर्थन कर रहा भारत

उन्होंने कहा कि भविष्य में नेपाल निश्चित रूप से भारत के लिए महत्वपूर्ण साझीदार बन सकता है। दोनों देशों द्वारा जल संसाधान के प्रबंधन के क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं। भारत नेपाल में पनबिजली से बहुत अधिक लाभ उठा सकता है। नेपाल की मदद से उत्तर भारत में पानी की कमी से निपटा जा सकता है।

नेपाली सेना के सेवानिवृत मेजर जनरल बिनोज बसनयत ने कहा कि रॉ प्रमुख और सेना प्रमुख की नेपाल यात्रा दोनों देशों के संबंधों के हिसाब से महत्वपूर्ण हैं। ये यात्रा दोनों देशों के बीच सैन्य संबंधों, सैन्य कूटनीति की जरूरत, भारत की सुरक्षा चिंताओं और चीन के बढ़ते प्रभाव जैसे मुद्दों के परिप्रेक्ष्य में महत्वपूर्ण है।

पूर्व सैन्य अधिकारी ने कहा कि कोई भी देश अपने भूगोल और पडोस के साथ सांस्कृतिक एकता को नहीं बदल सकता।

उन्होंने कहा, हम पुराने मित्र हैं लेकिन नई स्थिति में हैं। हमें एकसाथ बैठने की जरूरत है, जिससे यह सुनिश्चित किया जा सके कि आने वाले समय में दोनों देशों के लोगों के बीच अच्छे संबंध रहें हैं। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी