Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते हैं : गंभीर

दस साल पहले 2 अप्रैल 2011 को सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने विश्व कप फाइनल में किसी भारतीय बल्लेबाज द्वारा अब तक की बेहतरीन पारी खेली थी।

दस साल पहले 2 अप्रैल 2011 को सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने विश्व कप फाइनल में किसी भारतीय बल्लेबाज द्वारा अब तक की बेहतरीन पारी खेली थी। मुम्बई में हुए फाइनल में श्रीलंका (Srilanka) के खिलाफ गम्भीर ने 97 रन बनाए और उनकी इस पारी की बदौलत भारत 28 साल बाद फिर से विश्व चैम्पियन (World Champion) बन सका।


गम्भीर के 97 रन उस समय आए थे जब भारत ने शुरुआती विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के नाबाद 91 रनों की बदौलत भारत ने 274 रनों का पीछा करते हुए जीत हासिल की थी।

भारत के कप्तान के रूप में कार्य कर चुके और 2007 टी20 विश्व कप (World Cup 2011) फाइनल में पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ 75 रनों की अहम पारी खेलकर भारत को खिताब जीतने में मदद करने वाले गम्भीर अब राजनेता बन चुके हैं और दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं। वह इन दिनों पश्चिम बंगाल में जारी विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं।

पश्चिम बंगाल (West Bengal) जाने से एक दिन पहले, गंभीर ने 2011 विश्व कप जीत पर आईएएनएस से बात की और इस बात पर भी चर्चा की कि हाल ही में आईसीसी टूर्नामेंट्स के लिहाज से टीम में क्या कमी रह गई।

गौतम गंभीर भारत के कप्तान के रूप में कार्य कर चुके हैं| (IANS)

इंटरव्यू के अंश :

प्रश्न: आप विश्व कप फाइनल के दिन को कैसे याद करते हैं?

गम्भीर : मैं वास्तव में पीछे मुड़कर नहीं देखता। मैं एक ऐसा लड़का हूं जो मानता है कि पीछे देखने का कोई मतलब नहीं है। आप क्या हासिल करना चाहते हैं, यह भविष्य की बात है। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट को 2011 से परे, आगे देखने की जरूरत है। उस खास दिन भी मैंने यही कहा था – कि जो काम किया गया था, वह किया जाना था। आगे देखने की बात थी। यह आज भी ठीक वैसा ही है।

प्रश्न: क्या आपको लगता है कि उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया है?

गम्भीर : जाहिर है, विश्व कप जीतकर, आप अपने देश को गौरवान्वित करते हैं। आप सभी को खुश करते हैं। लेकिन क्या उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया? खैर, मुझे ऐसा नहीं लगता। मुझे लगता है कि आप अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते हैं। तो, यह एक विशेष टूर्नामेंट नहीं है। ऐसे बहुत से लोग हैं जो अभी भी 1983 की बात कर रहे हैं; ऐसे लोग हैं जो 2007 और 2011 के बारे में बात करते हैं। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन क्षणों ने अकेले भारतीय क्रिकेट को बदल दिया। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट शायद कई खेलों और अधिक से अधिक सीरीज जीतने के बारे में है, और यह समझने की जरूरत है कि एक या दो टूर्नामेंट भारतीय क्रिकेट को नहीं बदल सकता।

प्रश्न: विराट (कोहली) (Virat Kohli) के साथ क्या बातचीत हुई थी, जब सहवाग और तेंदुलकर के जल्दी आउट होने के बाद (27/2) 274 रनों का पीछा करते हुए फाइनल में बल्लेबाजी के लिए आपके साथ शामिल हुए थे?

गम्भीर : फिर से वही बात। मैं पीछे मुड़कर नहीं देखता कि क्या हुआ था। यह (विकेटों का शुरूआती नुकसान) वास्तव में मेरे लिए मायने नहीं रखता था। हमें जो लक्ष्य हासिल करने की जरूरत थी, हमने उस पर ध्यान लगाया। इसलिए, हम उस चीज को नहीं देख रहे थे जो हमने खो दिया था, लेकिन हम देख रहे थे कि हमें कहां पहुंचने की जरूरत है। और हम लक्ष्य कैसे प्राप्त कर सकते हैं। अगर मुझे विश्व कप जीतने (विकेटों के शुरूआती नुकसान का सामना करने) का विश्वास नहीं था, तो मैं विश्व कप टीम का हिस्सा नहीं हो सकता। मेरे लिए, यह वास्तव में मायने नहीं रखता था अगर हम दो शुरूआती विकेट खो देते। यह टीम के लिए खेल जीतने के बारे में था।

यह भी पढ़ें :- धोनी खिलाड़ियों के खेल में सुधार लाते हैं : मोइन अली

प्रश्न : आपकी राय में, क्या 2011 की टीम इंडिया सर्वश्रेष्ठ थी?

एक: बिल्कुल नहीं। मैं इन बयानों पर विश्वास नहीं करता हूं – जब लोग या पूर्व क्रिकेटर पलटते हैं और कहते हैं, यह सबसे अच्छी भारतीय टीम है या वह सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम है। न तो 1983 की टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी, न ही 2007 और न ही 2011 की। न तो यह वर्तमान है, क्योंकि आप युगों की तुलना कभी नहीं कर सकते। आप बस इतना कर सकते हैं कि अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम को पार्क में रखें और कोशिश करें और अधिक से अधिक गेम जीतें। ऐसा मेरा मानना है। मैं तुलना में विश्वास नहीं करता। आप कभी भी किसी भी दो टीमों की तुलना नहीं कर सकते। मुझे नहीं पता कि ये पूर्व क्रिकेटर ये बयान क्यों देते हैं। मैं यह नहीं कहूंगा कि 2011 विश्व कप विजेता टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी जिसे पार्क में रखा गया था। मैं टीमों की तुलना करने में विश्वास नहीं करता।(आईएएनएसSM)

Popular

भारत, अमेरिका के विशेषज्ञों ने जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर चर्चा की ( Pixabay )

भारत(india) और अमेरिका(America) के विशेषज्ञों ने शनिवार को कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन एंड स्टोरेज (सीसीयूएस) के माध्यम से जलवायु परिवर्तन (Environment change) से निपटने के लिए विभिन्न तकनीकों पर चर्चा करते हुए कहा कि वे 17 सतत विकास लक्ष्यों (एसडीजी) में से पांच - जलवायु कार्रवाई, स्वच्छ ताकत, उद्योग, नवाचार और बुनियादी ढांचा, खपत और उत्पादन जैसे लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए साझेदारी की है। विज्ञान विभाग के सचिव एस.चंद्रशेखर ने कहा, "सख्त जलवायु व्यवस्था के तहत हम उत्सर्जन कटौती प्रौद्योगिकियों के पोर्टफोलियो के सही संतुलन की पहचान और अपनाने का एहसास कर सकते हैं। ग्लासगो में हाल ही में संपन्न सीओपी-26 में, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश के उल्लेखनीय प्रदर्शन के साथ-साथ महत्वाकांक्षाओं को सामने लाया। दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्थाओं में से एक होने के बावजूद हम जलवायु लक्ष्यों को पूरा करेंगे।"

विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी विभाग के कार्बन कैप्चर पर पहली कार्यशाला में अपने उद्घाटन भाषण में उन्होंने कहा, "पीएम ने हम सभी को 2070 तक शून्य कार्बन उत्सर्जन राष्ट्र बनने को कहा है।" उन्होंने सीसीयूएस के क्षेत्र में प्रौद्योगिकी के नेतृत्व वाले आरडी एंड डी की दिशा में विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग की हालिया पहलों के बारे में भी जानकारी दी।

Keep Reading Show less

वेल्लोर के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला ( Pixabay)

कोरोना के इस दौर में ऐप टेक्नॉलॉजी (App Technology) की पढ़ाई कई समस्याओं का समाधान कर रही है। ऐसा ही एक समाधान 10 वर्षीय छात्र कनिष्कर आर ने कर दिखाया है। कनिष्कर ने पेशे से वकील अपने पिता की मदद एक ऐप (App) बनाकर की। दस्तावेज संभालने में मददगार यह ऐप वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करता है। 10 वर्षीय कनिष्कर का यह ऐप अब उसके पिता ही नहीं बल्कि देश के कई अन्य वकील भी इस्तेमाल कर रहे हैं और यह एक उद्यम की शक्ल ले रहा है।

कनिष्कर अपने पिता को फाईलें संभालते देखता था, जो दिन पर दिन बढ़ती चली जा रही थीं। जल्द ही वह समझ गया कि उसके पिता की तरह ही अन्य वकील भी थे, जो इसी समस्या से पीड़ित थे। इसलिए जब कनिष्कर को पाठ्यक्रम अपने कोडिंग के प्रोजेक्ट के लिए विषय चुनने का समय आया, तो उसने कुछ ऐसा बनाने का निर्णय लिया, जो उसके पिता की मदद कर सके। वेल्लोर (Vellore) के इस 10 वर्षीय छात्र ने अपनी लगन से वकीलों के लिए ई-अटॉर्नी नामक एक ऐप बना डाला। इस ऐप का मुख्य उद्देश्य वकीलों और अधिवक्ताओं को अपने क्लाईंट के एवं काम से संबंधित दस्तावेज संभालने में मदद करना है। इस ऐप द्वारा यूजर्स साईन इन करके अपने काम को नियोजित कर सकते हैं और क्लाईंट से संबंधित दस्तावेज एवं केस की अन्य जानकारी स्टोर करके रख सकते हैं। इस ऐप के माध्यम से यूजर्स सीधे क्लाईंट्स से संपर्क भी कर सकते हैं। जिन क्लाईंट्स को उनके वकील द्वारा इस ऐप की एक्सेस दी जाती है, वो भी ऐप में स्टोर किए गए अपने केस के दस्तावेज देख सकते हैं।

Keep Reading Show less

डॉ. मुनीश रायजादा ने इस वेब सीरीज़ के माध्यम से आम आदमी पार्टी में हुए भ्रस्टाचार को सामने लाने का प्रयास किया है

आम आदमी पार्टी(AAP) पंजाब के लोकसभा चुनाव में अपनी बड़ी जीत की उम्मीद कर रही है वहीं पार्टी के एक पूर्व सदस्य ने राजनैतिक शैली में वेब सीरीज़ के रूप में 'इनसाइडर अकाउंट" निकला है जिसमे दावा किया गया है कि पार्टी अपने मूल सिद्धांतों से भटक गई है। 'ट्रांसपेरेंसी : पारदर्शिता का निर्माण शिकागो में कार्यरत चंडीगढ़ के चिकित्सक डॉ.मुनीश रायज़ादा द्वारा किया गया है। यूट्यूब(Youtube) पर उपलब्ध यह वेब सीरीज़ यह दर्शाती है कि कैसे एक पार्टी पारदर्शी होने के साथ साथ व्यवस्था परिवर्तन लाने के बजाय गैर-पारदर्शी औऱ राजनीतिक आदत का हिस्सा बन गई। यह वेब सीरीज अक्टूबर 2020 में पूरी होने के बाद ओटीटी प्लेटफॉर्म एमएक्स प्लयेर पर रिलीज हुई। डॉ.मुनीश रायज़ादा के अनुसार इस वेब सीरीज़ को सकारात्मक प्रतिक्रिया मिली।

डॉ.मुनीश रायजादा ने फोन पर आईएएनएस से बात करते हुए बताया कि, " मंच इस वेब सीरीज का प्रचार यह कहकर नहीं कर रहा था कि यह एक राजनीतिक वेब सीरीज है, और मैंने सोचा कि मैं इस वेब सीरीज को बड़े पैमाने में दर्शकों तक कैसे ले जा सकता हूँ फिर मैंने यूट्यूब के बारे में सोचा।" यह वेब सीरीज यूट्यूब पर 17 जनवरी को रिलीज़ किया गया।

Keep reading... Show less