Saturday, April 17, 2021
Home खेल अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते...

अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते हैं : गंभीर

दस साल पहले 2 अप्रैल 2011 को सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर ने विश्व कप फाइनल में किसी भारतीय बल्लेबाज द्वारा अब तक की बेहतरीन पारी खेली थी।

दस साल पहले 2 अप्रैल 2011 को सलामी बल्लेबाज गौतम गंभीर (Gautam Gambhir) ने विश्व कप फाइनल में किसी भारतीय बल्लेबाज द्वारा अब तक की बेहतरीन पारी खेली थी। मुम्बई में हुए फाइनल में श्रीलंका (Srilanka) के खिलाफ गम्भीर ने 97 रन बनाए और उनकी इस पारी की बदौलत भारत 28 साल बाद फिर से विश्व चैम्पियन (World Champion) बन सका।

गम्भीर के 97 रन उस समय आए थे जब भारत ने शुरुआती विकेट गंवा दिए थे। इसके बाद कप्तान महेंद्र सिंह धोनी (Mahendra Singh Dhoni) के नाबाद 91 रनों की बदौलत भारत ने 274 रनों का पीछा करते हुए जीत हासिल की थी।

भारत के कप्तान के रूप में कार्य कर चुके और 2007 टी20 विश्व कप (World Cup 2011) फाइनल में पाकिस्तान (Pakistan) के खिलाफ 75 रनों की अहम पारी खेलकर भारत को खिताब जीतने में मदद करने वाले गम्भीर अब राजनेता बन चुके हैं और दिल्ली से भाजपा के सांसद हैं। वह इन दिनों पश्चिम बंगाल में जारी विधानसभा चुनावों के लिए चुनाव प्रचार में व्यस्त हैं।

पश्चिम बंगाल (West Bengal) जाने से एक दिन पहले, गंभीर ने 2011 विश्व कप जीत पर आईएएनएस से बात की और इस बात पर भी चर्चा की कि हाल ही में आईसीसी टूर्नामेंट्स के लिहाज से टीम में क्या कमी रह गई।

virat kohli
गौतम गंभीर भारत के कप्तान के रूप में कार्य कर चुके हैं| (IANS)

इंटरव्यू के अंश :

प्रश्न: आप विश्व कप फाइनल के दिन को कैसे याद करते हैं?

गम्भीर : मैं वास्तव में पीछे मुड़कर नहीं देखता। मैं एक ऐसा लड़का हूं जो मानता है कि पीछे देखने का कोई मतलब नहीं है। आप क्या हासिल करना चाहते हैं, यह भविष्य की बात है। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट को 2011 से परे, आगे देखने की जरूरत है। उस खास दिन भी मैंने यही कहा था – कि जो काम किया गया था, वह किया जाना था। आगे देखने की बात थी। यह आज भी ठीक वैसा ही है।

प्रश्न: क्या आपको लगता है कि उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया है?

गम्भीर : जाहिर है, विश्व कप जीतकर, आप अपने देश को गौरवान्वित करते हैं। आप सभी को खुश करते हैं। लेकिन क्या उस पल ने भारतीय क्रिकेट को बदल दिया? खैर, मुझे ऐसा नहीं लगता। मुझे लगता है कि आप अपने देश के लिए हर जीत भारतीय क्रिकेट का चेहरा बदल देते हैं। तो, यह एक विशेष टूर्नामेंट नहीं है। ऐसे बहुत से लोग हैं जो अभी भी 1983 की बात कर रहे हैं; ऐसे लोग हैं जो 2007 और 2011 के बारे में बात करते हैं। लेकिन मुझे नहीं लगता कि उन क्षणों ने अकेले भारतीय क्रिकेट को बदल दिया। मुझे लगता है कि भारतीय क्रिकेट शायद कई खेलों और अधिक से अधिक सीरीज जीतने के बारे में है, और यह समझने की जरूरत है कि एक या दो टूर्नामेंट भारतीय क्रिकेट को नहीं बदल सकता।

प्रश्न: विराट (कोहली) (Virat Kohli) के साथ क्या बातचीत हुई थी, जब सहवाग और तेंदुलकर के जल्दी आउट होने के बाद (27/2) 274 रनों का पीछा करते हुए फाइनल में बल्लेबाजी के लिए आपके साथ शामिल हुए थे?

गम्भीर : फिर से वही बात। मैं पीछे मुड़कर नहीं देखता कि क्या हुआ था। यह (विकेटों का शुरूआती नुकसान) वास्तव में मेरे लिए मायने नहीं रखता था। हमें जो लक्ष्य हासिल करने की जरूरत थी, हमने उस पर ध्यान लगाया। इसलिए, हम उस चीज को नहीं देख रहे थे जो हमने खो दिया था, लेकिन हम देख रहे थे कि हमें कहां पहुंचने की जरूरत है। और हम लक्ष्य कैसे प्राप्त कर सकते हैं। अगर मुझे विश्व कप जीतने (विकेटों के शुरूआती नुकसान का सामना करने) का विश्वास नहीं था, तो मैं विश्व कप टीम का हिस्सा नहीं हो सकता। मेरे लिए, यह वास्तव में मायने नहीं रखता था अगर हम दो शुरूआती विकेट खो देते। यह टीम के लिए खेल जीतने के बारे में था।

यह भी पढ़ें :- धोनी खिलाड़ियों के खेल में सुधार लाते हैं : मोइन अली

प्रश्न : आपकी राय में, क्या 2011 की टीम इंडिया सर्वश्रेष्ठ थी?

एक: बिल्कुल नहीं। मैं इन बयानों पर विश्वास नहीं करता हूं – जब लोग या पूर्व क्रिकेटर पलटते हैं और कहते हैं, यह सबसे अच्छी भारतीय टीम है या वह सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम है। न तो 1983 की टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी, न ही 2007 और न ही 2011 की। न तो यह वर्तमान है, क्योंकि आप युगों की तुलना कभी नहीं कर सकते। आप बस इतना कर सकते हैं कि अपनी सर्वश्रेष्ठ टीम को पार्क में रखें और कोशिश करें और अधिक से अधिक गेम जीतें। ऐसा मेरा मानना है। मैं तुलना में विश्वास नहीं करता। आप कभी भी किसी भी दो टीमों की तुलना नहीं कर सकते। मुझे नहीं पता कि ये पूर्व क्रिकेटर ये बयान क्यों देते हैं। मैं यह नहीं कहूंगा कि 2011 विश्व कप विजेता टीम सर्वश्रेष्ठ भारतीय टीम थी जिसे पार्क में रखा गया था। मैं टीमों की तुलना करने में विश्वास नहीं करता।(आईएएनएसSM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,646FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

हाल की टिप्पणी