Sunday, May 16, 2021
Home देश भारत ने LAC पर चीन के 1959 के दावे को 'मजबूती' दी

भारत ने LAC पर चीन के 1959 के दावे को ‘मजबूती’ दी

केंद्र ने हालांकि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ भारत-चीन के तनातनी को एक जीत के रूप में करार दिया है, लेकिन सेना के दिग्गज लेफ्टिनेंट जनरल एच.एस. पनाग(सेवानिवृत्त) ने इसे बीजिंग के 1959 के दावे को व्यावहारिक स्वीकृति बताया।


By : आरती टीकू सिंह

केंद्र ने हालांकि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के साथ भारत-चीन के तनातनी को एक जीत के रूप में करार दिया है, लेकिन सेना के दिग्गज लेफ्टिनेंट जनरल एच.एस. पनाग(सेवानिवृत्त) ने इसे बीजिंग के 1959 के दावे को व्यावहारिक स्वीकृति बताया।

आईएएनएस के साथ एक विशेष साक्षात्कार में, जनरल पनाग ने दावा किया कि पीछे हटने की प्रक्रिया चीन की 1959 के दावे के अनुसार ही है। हालांकि, उन्होंने कहा, यह ‘दीर्घकालिक शांति के लिए अच्छा कदम है।’ क्योंकि लद्दाख में पीछे हटना दोनों देशों के बीच सीमा विवादों के निपटारे की व्यापक योजना का एक हिस्सा है।

1959 में, चीन के तत्कालीन प्रधानमंत्री झोउ एनलाई ने तत्कालीन प्रधान मंत्री जवाहर लाल नेहरू को प्रस्ताव दिया था कि दोनों देश की सेनाएं पूर्व में मैकमोहन रेखा से 20 किलोमीटर दूर हो जाएं और उस रेखा तक चले जाए, जहां से दोनों सेनाएं पश्चिम में वास्तविक नियंत्रण रेखा मानती है। पनाग के अनुसार, मई में अपनी घुसपैठ के माध्यम से, चीन पहले ही डेपसांग और पैंगोंग त्सो के उत्तर में 1959 की दावा रेखा तक पहुंच चुका है।

उन्होंने कहा, “अगर हम उन क्षेत्रों को वापस लाने का प्रयास करते हैं, तो चीनी 1959 के क्लेम लाइन कंफिगेरेशन के द्वारा, कुछ क्षेत्रों को बंद कर सकते हैं और हमारे क्षेत्र के अधिक भाग को ले सकते हैं। उदाहरण के लिए, पैंगोंग त्सो के उत्तर में जहां से हमारे सभी मार्ग हॉट स्प्रिंग्स और गोगला की ओर जाते हैं, यहां से पैगॉन्ग के उत्तरी किनारे और कोंकाला पास की दूरी 100 किलोमीटर है। उन्होंने फिंगर 4 तक का क्षेत्र ले लिया है और अगर वे आगे और 30 से 40 किलोमीटर तक आते हैं तो, यह 100 किलोमीटर भी हमारा चला जाएगा।”

china
चीन लद्दाख के दक्षिणी हिस्से को हथियाना चाहता है  ।  ( Wikimedia Commons )

यह भी पढ़ें: सॉफ्ट हिन्दुत्व के सहारे कांग्रेस मिशन 2022 फतह करने की फिराक में जुटी

अनुभवी रक्षा विश्लेषक ने कहा कि लद्दाख के दक्षिणी हिस्से में, भारत ने 59 क्लेम लाइन को पार किया था और गश्त किया करते थे। लेकिन अब उन्होंने हमें गश्त लगाने से रोक दिया है। इसलिए अब वे 59 क्लेम लाइन तक पहुंच गए हैं और सेना के माध्यम से हम उसे खाली कराने की स्थिति में नहीं हैं। पनाग ने कुछ महीने पहले दावा किया था कि एलएसी को पार करके, चीनी ने सब कुछ हासिल कर लिया है और भारत ने सब कुछ खो दिया है। उन्होंने यह भी भविष्यवाणी की थी कि भारत कैलाश रेंज की कमांडिंग हाइट्स भी खो देगा।

पनान ने वर्तमान स्थिति पर कहा, “यह एक अच्छा दांव है अगर यह हमें अगले 30 वर्षों के लिए शांति की ओर ले जाता है। दोनों एशियाई दिग्गजों के बीच 27 साल बाद तनाव बढ़ गया , जब आखिरी बार वे 1993 में इस तरह के समझौते पर सहमत हुए थे। हमारे पास क्षमता होती तो, चीन ने ऐसा कभी नहीं किया होता। ऐसा इसलिए हुआ, क्योंकि वे हमारी कमजोरी जानते थे।” (आईएएनएस )

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी