Monday, June 14, 2021
Home देश रक्षा सुधार आने वाले समय में भारत को वैश्विक महाशक्ति बनाएंगे :...

रक्षा सुधार आने वाले समय में भारत को वैश्विक महाशक्ति बनाएंगे : राजनाथ सिंह

रक्षा क्षेत्र में सुधारों पर भरोसा जताते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ये सुधार आने वाले समय में भारत को वैश्विक महाशक्ति बनाएंगे।

रक्षा क्षेत्र में सुधारों पर भरोसा जताते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि ये सुधार आने वाले समय में भारत को वैश्विक महाशक्ति बनाएंगे। एक ई-बुकलेट के विमोचन के दौरान एक सभा को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि यह पुस्तिका रक्षा क्षेत्र को मजबूत और अधिक कुशल बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में सरकार के संकल्प का प्रतिबिंब है। ई-बुकलेट, जिसका शीर्षक 20 रिफॉर्म्स इन 2020 है, मंत्रालय द्वारा नीतिगत बदलाव, नवाचार और डिजिटल परिवर्तन के माध्यम से सशस्त्र बलों के अधिक सामंजस्य और आधुनिकीकरण के लिए वर्ष में किए गए रक्षा सुधारों का एक संक्षिप्त अवलोकन प्रदान करता है। उन्होंने कहा कि यह ई-बुकलेट नीति परिवर्तन, नवाचार और डिजिटलीकरण के माध्यम से सशस्त्र बलों में आधुनिकीकरण लाने के लिए रक्षा मंत्रालय द्वारा साल 2020 में किए गए सुधारों का एक संक्षिप्त अवलोकन है।

राजनाथ सिंह ने भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) की नियुक्ति और सैन्य मामलों के विभाग (डीएमए) के निर्माण का उल्लेख सरकार द्वारा लिए गए प्रमुख फैसलों में से एक के रूप में किया। सीडीएस का पद सशस्त्र बलों के बीच दक्षता और समन्वय बढ़ाने और दोहराव को कम करने के लिए बनाया गया है, जबकि बेहतर नागरिक-सैन्य एकीकरण सुनिश्चित करने के लिए डीएमए की स्थापना की गई है। बयान में यह भी कहा गया कि नई प्रौद्योगिकी के विकास की दिशा में यह एक अभूतपूर्व प्रयास है। इसके अलावा कहा गया कि निजी क्षेत्र के साथ बढ़ी हुई साझेदारी से रक्षा निर्यात में पर्याप्त वृद्धि हुई है।

यह भी पढ़ें: अमेरिका में ‘फ्रेंड्स ऑफ कश्मीर’ समूह का आतंकी समूहों व पाक सरकार से संबंध

उन्होंने कहा कि युवाओं द्वारा नवाचार को बढ़ावा देने के लिए, डीआरडीओ की पांच युवा वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं को 2020 में बेंगलुरू, मुंबई, चेन्नई, कोलकाता और हैदराबाद में लॉन्च किया गया है। डीआरडीओ ने डिजाइन और विकास में निजी क्षेत्र के साथ हाथ मिलाया है और उद्योग के डिजाइन, विकास और निर्माण के लिए 108 प्रणालियों और उप प्रणालियों की पहचान की है। पहली बार रक्षा मंत्रालय के कई संगठन डिजिटल हुए। गुणवत्ता आश्वासन महानिदेशालय (डीजीक्यूए) ने सुरक्षा खतरों को दूर करने के लिए मई 2020 में ऑनलाइन प्री-डिलीवरी निरीक्षण शुरू किया। इसके अलावा यह भी कहा गया कि 2020 में, रक्षा मंत्रालय ने सशस्त्र बलों में महिलाओं की भागीदारी बढ़ाने के लिए कुछ ऐतिहासिक निर्णय लिए।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी