Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
टेक्नोलॉजी

Facebook और दूसरे एप पर भारतीय सेना का लगाया प्रतिबंध सफल

पिछले साल जून से फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सहित 89 स्मार्टफोन एप्लिकेशन के उपयोग पर भारतीय सेना द्वारा लगाया गया प्रतिबंध अत्यधिक सफल रहा है।

By : आरती टीकू सिंह 

पिछले साल जून से फेसबुक और इंस्टाग्राम जैसे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म सहित 89 स्मार्टफोन एप्लिकेशन के उपयोग पर भारतीय सेना द्वारा लगाया गया प्रतिबंध अत्यधिक सफल रहा है। 13 लाख से अधिक जवानों वाली भारतीय सेना में केवल आठ कर्मियों को प्रतिबंध का उल्लंघन करते पाया गया है।


आधिकारिक सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि पिछले साल 15 जुलाई को लागू हुए प्रतिबंध का पालन करने के लिए कम से कम 730 सेना अधिकारियों को अधिकृत किया गया है। इन एप्स में सरकार द्वारा आम जनता के लिए प्रतिबंधित 59 चीनी एप शामिल हैं। हालांकि सेना ने व्हाट्सएप, फेसबुक, इंस्टाग्राम, एला, स्नैपचैट, पबजी, मैसेंजर, ट्रू कॉलर, एंटी-वायरस 360 सिक्योरिटी, टिंडर, टंबलर, रेडिट, हंगामा, सोंग्स.पीके, कैम स्कैनर, ओके क्यूपिड, टंबलर, डेली हंट और अन्य आम एप के उपयोग पर भी प्रतिबंध लगाया है। इनमें से अधिकांश एप अमेरिकी और चीनी हैं।

पिछले साल पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) के पास भारत और चीनी सेना के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सेना ने साइबर हमले, डिजिटल डेटा के अवैध उपयोग और संवेदनशील जानकारी को लीक होने से रोकने के लिए प्रतिबंध लगाया था। पिछले कुछ वर्षों में ऐसे मामले देखने को मिले हैं, जिनमें फेसबुक के माध्यम से भारतीय सेना के जवानों को हनीट्रैप में फंसाया गया और भारतीय सेना और सरकार से संबंधित संवेदनशील जानकारी लीक करने का प्रयास किया गया। एक अधिकारी ने कहा, “पांच साल पहले तक, हमारे कर्मियों के लिए सब कुछ खुला था। कोई भी कुछ भी एक्सेस कर सकता था।” 
 

सेना आधिकारिक कार्य के लिए व्हाट्सएप और फेसबुक के उपयोग पर कई निर्देश जारी करती थी।( Unsplash )

हालांकि सेना आधिकारिक कार्य के लिए व्हाट्सएप और निजी जीवन के लिए फेसबुक के उपयोग पर कई निर्देश जारी करती थी, लेकिन पिछले साल जून में इसने एप्स के उपयोग पर उल्लंघन के लिए कड़े नियम बना दिए। देशभर में प्रत्येक सैनिक और अधिकारी पर सख्ती से प्रतिबंध लागू किया गया है। उन्होंने प्रतिबंधित किए गए प्लेटफॉर्म्स से अपने अकाउंट को डिलीट कर दिया है और अपने फोन पर कोई भी एप्लिकेशन इंस्टॉल नहीं की है।

आधिकारिक सूत्रों ने आईएएनएस को बताया कि लगभग 730 अधिकृत अधिकारी इसी चीज की समीक्षा करने में लगे हुए हैं कि क्या सेना के जवान हर हाल में नियम का पालन कर रहे हैं या फिर किसी एप्स का इस्तेमाल किया जा रहा है। अनुपालन को लेकर प्रमाणपत्र जारी किया जाता है। अभी तक केवल आठ मामलों में नियमों का उल्लंघन पाया गया है। सूत्रों ने कहा कि उल्लंघन के लिए वही सजा दी जाती है, जो सेना में अनुशासनहीनता के लिए पारंपरिक दंड का प्रावधान है। सूत्रों ने कहा कि कुछ मामलों में कर्मियों को हफ्तेभर के लिए उनकी पीठ पर रेत की बोरियों को रखकर मैदान के चक्कर लगाने की सजा दी गई है।

यह भी पढ़ें: आंदोलनजीवी और फॉरेन डिस्ट्रक्टिव आइडियोलॉजी से देश बचे: मोदी 

सूत्रों ने कहा कि गंभीर मामलों में सजा भी कड़ी दी जा रही है, जिसमें निलंबन या सेवाओं को समाप्त करना शामिल है। एक अधिकारी ने कहा, “लेकिन भारतीय सेना एक उच्च अनुशासित संस्था है और प्रतिबंध अब तक काफी प्रभावी साबित हुए हैं।” हालांकि, सैन्य संस्थानों, अकादमियों और कार्यालयों के भीतर सेना को सामग्री की निगरानी के लिए अपने डेस्कटॉप पर इंटरनेट ब्राउजर पर फेसबुक जैसे प्लेटफार्मों तक पहुंचने की अनुमति है। सूत्रों ने कहा कि किसी भी कर्मी को अकाउंट बनाने या एप्स रखने की अनुमति नहीं है।

सेना के सूत्रों ने कहा कि सेना में हर कोई अब अपने परिवार और दोस्तों के साथ पुराने तरीके से ही जुड़ता है। एक अधिकारी ने कहा, “हम सभी निजी मैसेज और सोशल मीडिया के बजाय फोन पर बात करते हैं।” हालांकि सेना के जवानों और अधिकारियों के परिवारों पर यह प्रतिबंध नहीं है। एक अधिकारी ने कहा कि वे आम नागरिक हैं, इसलिए जो अन्य लोगों के समान अधिकार के हकदार हैं। सूत्रों ने कहा कि संदेश और विशेष जैसे कुछ इन-हाउस एप्लिकेशन हैं, जिनका इस्तेमाल सेना के जवान मैसेजिंग उद्देश्यों के लिए करते हैं। (आईएएनएस)
 

Popular

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (File Photo)

भारत के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री(Ravi Shastri) ने सोमवार को राष्ट्रीय टीम और कप्तान विराट कोहली(Virat Kohli) की टेस्ट क्रिकेट को अपनाने और 'पिछले पांच वर्षो में फॉर्मेट के राजदूत' होने के लिए प्रशंसा की। मुंबई(Mumbai) में सीरीज के फाइनल में विश्व टेस्ट चैंपियंस(WTC) पर 372 रन की जीत के बाद न्यूजीलैंड को हराकर टीम इंडिया ने आईसीसी रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल किया।


Keep Reading Show less

विशाल गर्ग (Twitter)

बेटर डॉट कॉम(Better.com) के भारतीय मूल(Indian Origin) के सीईओ विशाल गर्ग(Vishal Garg) तब से सुर्खियां बटोर रहे हैं, जब उन्होंने जूम कॉल पर 900 से अधिक कर्मचारियों, लगभग 9 प्रतिशत कर्मचारियों को अचानक निकाल दिया।

कथित तौर पर कर्मचारियों में से एक द्वारा रिकॉर्ड किए गए अब वायरल वीडियो में, गर्ग को पिछले बुधवार को यूएस-आधारित कंपनी के कर्मचारियों को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि उन्हें बाजार की दक्षता, प्रदर्शन और उत्पादकता पर निकाल दिया जा रहा है।

Keep Reading Show less

शिया वक़्फ़ बोर्ड के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिज़वी ने आज हिन्दू धर्म अपना लिया। (Twitter)

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड(Shia Waqf Board) के पूर्व अध्यक्ष वसीम रिजवी(Wasim Rizvi) ने सोमवार को हिंदू धर्म(Hindu Religion) (जिसे सनातन धर्म भी कहा जाता है) अपना लिया। एक दैनिक समाचार वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार, उन्होंने अनुष्ठान के तहत डासना देवी मंदिर में स्थापित शिव लिंग पर दूध चढ़ाया।

समारोह डासना देवी मंदिर के मुख्य पुजारी नरसिंहानंद सरस्वती की उपस्थिति में सुबह 10.30 बजे शुरू हुआ, वैदिक भजनों का जाप किया गया क्योंकि रिजवी ने इस्लाम छोड़ दिया और एक यज्ञ के बाद हिंदू धर्म में प्रवेश किया। वह त्यागी समुदाय से जुड़े रहेंगे। उनका नया नाम जितेंद्र नारायण सिंह त्यागी होगा।

Keep reading... Show less