Wednesday, September 23, 2020
Home इतिहास अफ्रीका के 'सिऐरा लियोन' में किए गए भारतीय सेना की 20 साल...

अफ्रीका के ‘सिऐरा लियोन’ में किए गए भारतीय सेना की 20 साल पुरानी ‘ऑपरेशन खुकरी’ की कहानी

कारगिल युद्ध में पाकिस्तान सेना को परास्त करने वाली 18 ग्रेनेडियर ने देश में ही नहीं बल्कि विदेशी धरती पर भी अपना शौर्य सिद्ध किया है। आफ्रिका के सिएरा लियोन में भारतीय सेना के 18 ग्रेनेडियर ने 20 साल पूर्व जो कार्य  किया था, उसे सुनकर हर भारतीय को भारतीय होने पर गर्व होगा।

कारगिल में युद्ध के दौरान, नेतृत्व कर चुके ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर ने ऑपरेशन खुकरी में आफ्रिका के सिऐरा लियोन से 240 लोगों को आतंकियों की कैद से आज़ाद करवाया था। प्राप्त जानकारी के अनुसार वर्ष 2000 में  अफ्रीका के सिएरा लियोन में विद्रोहियों ने खूब आतंक मचाया था।

ऑपरेशन का नाम ऑपरेशन खुकरी कैसे पड़ा

हालांकि, इस ऑपरेशन में भारतीय सेना समेत घाना, ब्रिटेन और नाइजीरिया की सेना ने भी हिस्सा लिया था, लेकिन इस ऑपरेशन को अंजाम, भारतीय सेना ने अपने दम पर ही दिया था। इस ऑपरेशन में गोरखा रेजीमेंट ने अहम भूमिका निभाई थी। गोरखा रेजीमेंट को सेना की सबसे खतरनाक रेजीमेंट में से एक माना जाता है। इस ऑपरेशन का नाम खुकरी इसलिए रखा गया था क्योंकि गोरखा रेजीमेंट के सिपाही अपने साथ हमेशा एक खुकरी रखते हैं।

सिएरा लियोन में विद्रोहियों ने यूनाइटेड नेशन पीस किपिंग फोर्स के 240 जवानों को बंदी बना लिया गया था। इनमें से 234 लोग भारतीय थे। बंदी बनाए गये भारतीयों को छुड़ाने की ज़िम्मेदारी, भारत सरकार ने ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर को सौंपी थी, और उन्हें 18 ग्रेनेडियर के दल के साथ सिएरा लियोन भेजा गया था।

ऑपरेशन खुकरी को  कैसे अंजाम दिया गया

रिवॉल्यूशनरी यूनाइटेड फ्रंट के विद्रोहियों द्वारा सिएरा लियोन में बंधक बनाए गए भारतीय शांति सैनिकों को संयुक्त राष्ट्र की ओर से अफ्रीका के सिएरा लियोन भेजा गया था। ये भारतीय सेना गोरखा रेजीमेंट के सैनिक थे और इन्हें ज़िम्मेदारी सौंपी गई थी कि वे रिवोल्यूशनरी यूनाइटेड फ्रंट के खिलाफ स्थानीय सरकार की मदद कर अफ्रीका के सिएरा लियोन में शांति बहाल करें। परन्तु आरयूएफ के विद्रोहियों ने यूएन के भेजे गए शांति सैनिकों के दल को बंदी बना लिया और उन्हे लगभग 75 दिनों तक बंदी बनाए रखा, जिसके बाद ऑपरेशन खुकरी को अंजाम दिया गया था।

ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर उस दौरान 18 ग्रेनेडियर दल के कप्तान के तौर पर नेतृत्व कर रहे थे। उनके पास 900 जवानों की यूनिट थी ।आपरेशन खुखरी 15 जुलाई 2000 को शुरु हुआ। दो दिनों तक चले इस ऑपरेशन के दौरान 16 जुलाई को जंगल में विद्रोहियों द्वारा अगवा किये गए भारतीयों समेत यूनाइटेड नेशन पीस किपिंग फोर्स के सभी जवानों को सकुशल छुड़ा लिया गया। इस पूरे ऑपरेशन में  एक जवान शहीद तथा दो जवान घायल हुए थे।

ऑपरेशन खुखरी के बाद  कुछ महीनों  तक सिएरा लियोन में रहे खुशाल ठाकुर

ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर ऑपरेशन खुखरी को अंजाम देने के बाद अपने यूनिट  के साथ सिएरा लियोन में कुछ महीनों तक रहे। उन्होंने इस दौरान वहां पर शांति बहाल करने तथा वहां की स्थिति को सामान्य करने के लिए काफी कार्य किये। उन्होंने वहाँ प्रशासन व जनता के बीच फैले डर को ख़त्म किया तथा लोगों को पुनः से खेती-बाड़ी की ओर प्रेरित भी किया। ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर बताते हैं कि इस ऑपरेशन के बाद तत्कालीन रक्षा मंत्री जॉर्ज फर्नांडिस, विमान से आम लेकर सिएरा लियोन पहुंचे थे और जवानों को भारतीय आम खिलाकर जीत का जश्न मनाया गया था।

ऑपरेशन खुखरी पर फ़िल्म बन रही है

विदेशी धरती पर सेना के बड़े बचाव अभियान ‘ऑपरेशन खुखरी’ पर शाह रुख़ ख़ान की कंपनी फ़िल्म बना सकती है, जिसमें कारगिल युद्ध के हीरो रहे ब्रिगेडियर खुशाल ठाकुर सहित इस अभियान में शामिल उन सभी जवानों की बहादुरी की गाथा को बड़े पर्दे पर दिखाया जाएगा।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

6,023FansLike
0FollowersFollow
162FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी