Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
दुनिया

हिंद महासागर में निगरानी बढ़ाने को 21 देशों से मिलकर काम कर रही नौसेना

हिंद महासागर क्षेत्र में दुनिया के समुद्री व्यापार का 75 प्रतिशत हिस्सा कवर होता है और वैश्विक उपभोग का 50 प्रतिशत इसके माध्यम से गुजरता है।

नौसेना ने ‘मालाबार’ समुद्री अभ्यास जिसमे भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल थे। (Unsplash)

भारतीय नौसेना अपनी बढ़ती वैश्विक पहुंच का संकेत देते हुए 21 देशों और 22 बहु-राष्ट्रीय एजेंसियों के साथ हिंद महासागर क्षेत्र में समुद्री गतिविधियों से संबंधित सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान के लिए संयुक्त रूप से कार्य कर रही है।

भारतीय नौसेना हर समय हिंद महासागर क्षेत्र में 12,000 जहाजों और 300 मछली पकड़ने के जहाजों की निगरानी करती है। इसके अलावा, समुद्र में लगभग तीन लाख मछली पकड़ने वाले भारतीय जहाज चल रहे हैं और उनकी गतिविधियों पर भी नौसेना की नजर बनी रहती है।


हिंद महासागर क्षेत्र में दुनिया के समुद्री व्यापार का 75 प्रतिशत हिस्सा कवर होता है और वैश्विक उपभोग का 50 प्रतिशत इसके माध्यम से गुजरता है। यही वजह है कि कई देशों के सुरक्षा उपायों को इसमें शामिल किया गया है।अब भारतीय नौसेना अपने सूचना संलयन केंद्र (इन्फर्मेशन फ्यूशन सेंटर) के माध्यम से हिंद महासागर क्षेत्र में वास्तविक समय की जानकारी (रियल टाइम इन्फर्मेशन) प्राप्त करने में सक्षम है।

भारत जिन 21 देशों के साथ हिंद महासागर में सूचनाओं के त्वरित आदान-प्रदान के लिए एक सहयोग के तहत काम कर रही है, उनमें ऑस्ट्रेलिया, फ्रांस, इटली, जापान, मालदीव, अमेरिका, न्यूजीलैंड, मॉरीशस, म्यांमार और बांग्लादेश जैसे देश शामिल हैं। इसके साथ ही भारत 22 अन्य राष्ट्रीय एजेंसियों के साथ भी मिलकर क्षेत्र की गतिविधियों पर नजर रख रहा है।गुरुग्राम में स्थित इंटरनेशनल फ्यूशन सेंटर, दिसंबर 2018 में सदस्य देशों को समुद्री जानकारी प्रदान करने के लिए शुरू किया गया था।

यह भी पढ़ें : नई शिक्षा नीति में भी बरकरार रहेगा आरक्षण : शिक्षा मंत्री रमेश पोखरियाल निशंक

नौसेनाओं ने मालाबार’ समुद्री अभ्यास किया

तीन देशों फ्रांस, जापान और अमेरिका ने समुद्री गतिविधियों के बेहतर समन्वय और वास्तविक समय साझा करने के लिए अपने संपर्क अधिकारियों को केंद्र में भेज दिया है, जबकि कई और देशों की ओर से कोविड-19 महामारी खत्म होने के साथ ही अपने-अपने संपर्क अधिकारियों की तैनाती करने की उम्मीद है।

सूत्रों ने कहा कि भारतीय नौसेना को 36 देशों के साथ श्वेत नौवहन समझौते (व्हाइट शिपिंग एग्रीमेंट) के लिए आगे बढ़ना है, जिनमें से 22 पर हस्ताक्षर भी किए जा चुके हैं।

इस महीने की शुरुआत में क्वाड (चार देशों का समूह) की नौसेनाओं के बीच ‘मालाबार’ समुद्री अभ्यास किया गया था। इसमें भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया शामिल थे। हिंद महासागर क्षेत्र में निगरानी बढ़ाने और सुरक्षा मामलों को चाक-चौबंद करने के लिए चारों देशों की नौसेना ने बंगाल की खाड़ी और अरब सागर में दो चरणों में अभ्यास आयोजित किया गया था। (आईएएनएस)

Popular

आजाद भारत के सबसे अच्छे प्रधानमंत्री हैं मोदी - अमित शाह (Wikimedia commons)

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह(Amit Shah) ने बुधवार को 'डिलीवरिंग डेमोक्रेसी : सरकार के प्रमुख के रूप में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) के दो दशक' विषय पर रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी के तत्वाधान में तीन-दिवसीय राष्ट्रीय गोष्ठी का उद्घाटन किया। अमित शाह ने अपने संबोधन में कहा कि जीडीपी बढ़नी चाहिए, लेकिन इसका लाभार्थी गरीब और जरूरतमंद होना चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री(Narendra Modi) के सुधार हमेशा गरीबों की जरूरतों पर आधारित रहे हैं। इसके अलावा केंद्रीय गृह मंत्री ने प्रधानमंत्री मोदी को आजादी के बाद सबसे अच्छा प्रधानमंत्री बताते हुए कहा कि गरीबों के लिए घर पहले भी बनते थे, लेकिन मोदी ने नीति का पैमाना बदल दिया है।

शाह(Amit Shah) ने कहा दो करोड़ लोगों को घर भी मुहैया कराया गया है और मैं आपको विश्वास दिलाता हूं कि 15 अगस्त 2022 तक हर गरीब के पास घर होगा। शौचालयों ने पूरे देश में महिलाओं को सशक्त बनाया है और हर घर में पानी उपलब्ध कराने से सभी भारतीयों के स्वास्थ्य में और सुधार होगा।गृह मंत्री(Amit Shah) ने कहा कि 2019 में मोदी सरकार दोबारा आई और 5 अगस्त 2019 को धारा 370 और 35ए को समाप्त करने का ऐतिहासिक निर्णय लिया गया। उन्होंने कहा कि सबको साथ लेकर और पूरे देश में बिना किसी दंगा फसाद के श्रीराम जन्मभूमि के निर्माण का फैसला हो गया और आज मंदिर निर्माण का काम चालू है।

Keep Reading Show less

नागरिक उड्डयन मंत्रालय की तरफ से चलाई जा रही है कृषि उड़ान 2.O योजना(Wikimedia commons)

नागरिक उड्डयन मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने बुधवार को कृषि उड़ान 2.0' योजना का शुभारंभ करने के लिए आयोजित एक कार्यक्रम में भाग लिया। कार्यक्रम को संबोधित करते हुए सिंधिया ने कहा कि 'कृषि उड़ान 2जेड.0' आपूर्ति श्रृंखला में बाधाओं को दूर कर किसानों की आय दोगुनी करने में मदद करेगी। यह योजना हवाई परिवहन द्वारा कृषि-उत्पाद की आवाजाही को सुविधाजनक बनाने और प्रोत्साहित करने का प्रस्ताव करती है।

सिंधिया(Jyotiraditya Scindia) ने कहा, "यह योजना कृषि क्षेत्र के लिए विकास के नए रास्ते खोलेगी और आपूर्ति श्रृंखला, रसद और कृषि उपज के परिवहन में बाधाओं को दूर करके किसानों की आय को दोगुना करने के लक्ष्य को प्राप्त करने में मदद करेगी। क्षेत्रों (कृषि और विमानन) के बीच अभिसरण तीन प्राथमिक कारणों से संभव है - भविष्य में विमान के लिए जैव ईंधन का विकासवादी संभावित उपयोग, कृषि क्षेत्र में ड्रोन का उपयोग और योजनाओं के माध्यम से कृषि उत्पादों का एकीकरण और मूल्य प्राप्ति।"

Keep Reading Show less

वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Pixabay)

कोरोना काल में जब सब कुछ बंद चल रहा था । झारखंड के पलामू टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) में कोरोना काल के दौरान सैलानियों और स्थानीय लोगों का प्रवेश रोका गया तो यहां जानवरों की आमद बढ़ गयी। इस वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है। आप को बता दे कि लगभग एक दशक के बाद यहां हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा की भी आमद हुई है। इसे लेकर परियोजना के पदाधिकारी उत्साहित हैं। पलामू टाइगर प्रोजेक्ट(Palamu Tiger Reserve) के फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष ने आईएएनएस से बातचीत में कहा कि लोगों का आवागमन कम होने जानवरों को ज्यादा सुरक्षित और अनुकूल स्पेस हासिल हुआ और इसी का नतीजा है कि अब इस परियोजना क्षेत्र में उनका परिवार पहले की तुलना में बड़ा हो गया है।

पिछले हफ्ते इस टाइगर रिजर्व(Palamu Tiger Reserve) के महुआडांड़ में हिरण की विलुप्तप्राय प्रजाति चौसिंगा के एक परिवार की आमद हुई है। फील्ड डायरेक्टर कुमार आशुतोष के मुताबिक एक जोड़ा नर-मादा चौसिंगा और उनका एक बच्चा ग्रामीण आबादी वाले इलाके में पहुंच गया था, जिसे हमारी टीम ने रेस्क्यू कर एक कैंप में रखा है। चार सिंगों वाला यह हिरण देश के सुरक्षित वन प्रक्षेत्रों में बहुत कम संख्या में है।

Palamu Tiger Reserve वन्य जीव अभयाण्य में अब हिरण, चीतल, तेंदुआ, लकड़बग्घा जैसे जानवरों का परिवार बढ़ गया है।(Unsplash)

Keep reading... Show less