Tuesday, October 20, 2020
Home दुनिया भारतीय युवती रिद्दी विश्वनाथन, ग्लोबल इंटरनेशनल एजुकेशन अवार्ड से सम्मानित

भारतीय युवती रिद्दी विश्वनाथन, ग्लोबल इंटरनेशनल एजुकेशन अवार्ड से सम्मानित

रिद्दी विश्वनाथन को उनके योगदान के लिए और यू के विश्वविद्यालयों में घृणा अपराध को संबोधित करने के लिए इस इंटरनेशनल पुरस्कार से सम्मानित किया गया।

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय से स्नातक भारतीय नागरिक रिद्दी विश्वनाथन को ग्लोबल इंटरनेशनल एजुकेशन अवार्ड 2020 से सम्मानित किया गया। विभिन्न छात्र समुदायों में उनके योगदान के लिए विशेष रूप से अभियान में उनकी महत्वपूर्ण भूमिका के लिए और यू के विश्वविद्यालयों में घृणा अपराध को संबोधित करने के लिए इस इंटरनेशनल पुरस्कार से सम्मानित किया गया। रिद्दी ने इस वर्ष के क्यूटिन यूनिवर्सिटी, ऑस्ट्रेलिया से थॉमसन चेंग के साथ ‘पायनियर एलुमनी ऑफ द ईयर पुरस्कार साझा किया।

रिद्दी विश्वनाथन एक 23 वर्षीय उद्यमी हैं, जिनका उद्देश्य डिजिटल पहल के माध्यम से स्नातक भर्ती में विविधता को बढ़ाना है। इससे पहले, रिद्दी ने ब्रिटेन में विभिन्न विविधता अधिकारी और मैनचेस्टर छात्र संघ विश्वविद्यालय में प्रथम पूर्णकालिक अंतर्राष्ट्रीय छात्र अधिकारी के रूप में नेतृत्व पदों पर कार्य किया है।

यह भी पढ़ें: किसानों की मदद के लिए बीएचयू ने फार्ड के साथ किया समझौता

उन्हें नेशनल यूनियन ऑफ स्टूडेंट्स (ठवर) यूके के लिए प्रवासी प्रतिनिधि 2019-20 के रूप में भी चुना गया है, जहां वह यूके में 192 देशों के 400,000 से अधिक विदेशी छात्रों का प्रतिनिधित्व करने वाली पहली भारतीय हैं।

मूलत पांडुचेरी निवासी रिद्दी उच्च शिक्षा के लिए इंग्लैंड गईं। हालांकि यहां उन्हें विभिन्न देशों के 4 लाख से अधिक छात्रों के नेतृत्व करने का अवसर प्राप्त हुआ। ऐसा करने वाली वह प्रथम भारतीय युवती हैं।

पायनियर अवार्डस एकमात्र वैश्विक पुरस्कार हैं जो पूरे अंतर्राष्ट्रीय शिक्षा उद्योग में नवाचार और उपलब्धि का जश्न मनाते हैं। इस वर्ष के पुरस्कारों में भौगोलिक और व्यावसायिक विविधता का प्रतिनिधित्व करने वाले एक प्रतिष्ठित जज पैनल के साथ कुल 18 श्रेणियां थीं।

पुरस्कार जीतने पर भारतीय मूल की रिद्दी विश्वनाथन ने आईएएनएस से कहा, “मैं वास्तव में मैनचेस्टर विश्वविद्यालय, अपने छात्रों के संघ, अपने परिवार और दोस्तों के प्रति हमेशा आभारी हूं कि उन्होंने हमेशा मुझे प्रोत्साहित किया। यह निश्चित रूप से मेरे लिए एक उत्सव का क्षण है, लेकिन जो चीज इसे कड़वा मीठा बनाती है। वह यह है कि जब हम अंतरराष्ट्रीय शिक्षा का जश्न मनाते हैं, तो विश्व स्तर पर महामारी के बावजूद, प्रवासी छात्रों को बढ़ती चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। जिसमें कुछ देशों में वीजा विद्रोह का खतरा भी शामिल है। हम वास्तव में अंतरराष्ट्रीय शिक्षा का जश्न मना सकते हैं, जब सभी छात्र अपने पासपोर्ट के रंग की परवाह किए बिना विश्व स्तर पर समान रूप से शिक्षा का उपयोग कर सकते हैं।”

यह भी पढ़ें: ऑक्सफोर्ड का वीर मनीष, बिहार के चुनावी अखाड़े में !

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय की अध्यक्ष और कुलपति नैंसी रोथवेल ने आईएएनएस से कहा, “मुझे यह सुनकर बेहद खुशी हुई कि रिद्दी ने यह पुरस्कार जीता है। जिस तरह से उसने विविध छात्र समुदायों के सभी कार्यों को संभाला है, मुझे लगता है कि वह इस पुरस्कार की पूरी तरह से हकदार हैं।”(आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

6,018FansLike
0FollowersFollow
167FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

हाल की टिप्पणी