Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
इतिहास

क्या आइज़ैक न्यूटन ने गुरुत्वाकर्षण की खोज की या भारत के विद्वानों ने?

आइज़ैक न्यूटन द्वारा बताए गए ग्रुत्वकर्षण के सिद्धांतों को भारत के विद्वानों ने पहले से सुलझा लिया था, यह दावा है मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का।

वैज्ञानिक आइज़ैक न्यूटन।(फाइल फोटो)

दुनिया में कई महान वैज्ञानिक और शोधकर्ता हुए जिनके सिद्धांतों को आज भी पाठ्यक्रम में पढ़ाया जाता है और उन्ही के सिद्धांतों द्वारा ही कठिन से कठिन प्रश्न भी मिनटों में हल हो जाता है। मगर क्या ऐसा हो सकता कि इन सभी सिंद्धान्तों को खोजने के पीछे भारत के ऋषि-मुनियों और विद्वानों का हाथ रहा हो? ऐसा इसलिए क्योंकि जिन बुद्धिजवियों ने भारत में की विद्या पर प्रश्न उठाए थे उन्हें हमारे वेदों और शास्त्रों ने चुप करा दिया है। ॐ का अर्थ और उसके फायदे पहले ही हमारे शास्त्र बताते आए हैं जिसे विदेशी वैज्ञानिकों ने भी माना है। ऐसे कई खोज थे जिन्हें भारतीय विद्वानों द्वारा खोजा गया था। यदि हम कहें कि गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत के को भी भारत में ही खोजा गया था, तो आप यह सुनकर चौंक जाएंगे।

यह आधुनिक दुनिया के लिए जाना जाता है कि आइज़ैक न्यूटन(Isaac Newton) ने 16 वीं शताब्दी में सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण की खोज की थी, वह भी तब जब उन्होंने एक पेड़ से सेब गिरने पर विचार-विमर्श किया। लेकिन प्रसन्नोपनिषद (6000 ईसा पूर्व) ने उस बल का वर्णन किया है जो वस्तुओं को नीचे खींचता है और हमें बिना तैरते हुए धरती पर रखता है।  यह हम नहीं ऋषि व दार्शनिक विद्वान कणाद ने दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में वैशिका विद्यालय से वेदों और उपनिषदों पर आधारित यह बात कही थी।


भारत के विद्वानों ने किए हैं कई सिद्धांतों की खोज।(Wikimedia Commons)

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के नए शोध के अनुसार आइजैक न्यूटन(Isaac Newton) से सैकड़ों वर्ष पहले दक्षिण भारत के आधुनिक गणित के विद्वानों ने गुरुत्वाकर्षण के एक मुख्य सिद्धांत की खोज की थी। कई लोग यह भी विश्वास नहीं करेंगे कि 15 वीं शताब्दी में ईसाई मिशनरियों ने इस सूचना को ब्रिटेन तक पहुंचाने में मदद की थी।

द यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के डॉ. जॉर्ज वर्घेज जोसेफ का कहना है कि ‘केरल विद्यालय’ ने ‘अनंत श्रृंखला'(Infinite Series) की पहचान की थी, जो कि कैलकुलस के मूल घटकों में से एक है वह भी वर्ष 1350 में। इस खोज को गलत तरीके से आइजैक न्यूटन(Isaac Newton) और गॉटफ्रीड लीबनिट्ज(Gottfried Wilhelm Leibniz) द्वारा अपने पुस्तकों में लिखा गया था।

मैनचेस्टर और एक्सेटर के विश्वविद्यालयों से आई टीम ने केरल स्कूल से यह भी पता लगाया कि पाई श्रृंखला(Pi Series) के लिए क्या राशि है और इसका उपयोग उन्होंने पाई को 9, 10 और बाद में 17 दशमलव स्थानों की गणना के लिए किया।

यह भी पढ़ें: वह हमें राह दिखा कर चले गए, मगर उस पर चलना हमें है

इस बात के पुख्ता साक्ष्य हैं कि भारतीय अपनी खोजों पर गणितीय रूप से जानकार जेसुइट मिशनरियों(Jesuit missionaries) के पास गए जो पंद्रहवीं शताब्दी के दौरान भारत आए थे। और अंततः न्यूटन(Isaac Newton) को भी उन मिशनरियों ने यह बात बताई होगी।

डॉ. जॉर्ज कहते हैं: – “कुछ असाध्य कारणों से, पूर्व से पश्चिम तक ज्ञान के संचरण के लिए आवश्यक साक्ष्य का मानक पश्चिम से पूर्व के ज्ञान के लिए आवश्यक साक्ष्य के मानक से अधिक है।

निश्चित रूप से यह कल्पना करना कठिन है कि पश्चिम, भारत से ज्ञान और किताबें आयात करने की 500 साल पुरानी परंपरा को छोड़ देगा। लेकिन हमें ऐसे साक्ष्य मिले हैं जो इससे बहुत आगे निकलते हैं: उदाहरण के लिए, जानकारी इकट्ठा करने का भरपूर अवसर था क्योंकि उस समय यूरोपीय जेसुइट(Jesuit) क्षेत्र में मौजूद थे।

Popular

मोहम्मद खालिद (IANS)

मिलिए झारखंड(Jharkhand) के हजारीबाग निवासी मृतकों के अज्ञात मित्र मोहम्मद खालिद(Mohammad Khalid) से। करीब 20 साल पहले उनकी जिंदगी हमेशा के लिए बदल गई, जब उन्होंने सड़क किनारे एक मृत महिला को देखा। लोग गुजरते रहे लेकिन किसी ने ध्यान नहीं दिया।

हजारीबाग में पैथोलॉजी सेंटर चलाने वाले खालिद लाश को क्षत-विक्षत देखकर बेचैन हो गए। उन्होंने एक गाड़ी का प्रबंधन किया, एक कफन खरीदा, मृत शरीर को उठाया और एक श्मशान में ले गए, बिल्कुल अकेले, और उसे एक सम्मानजनक अंतिम संस्कार(Last Rites) दिया। इस घटना ने उन्हें लावारिस शवों का एक अच्छा सामरी बना दिया, और तब से उन्होंने लावारिस शवों को निपटाने के लिए इसे अपने जीवन का एक मिशन बना लिया है।

Keep Reading Show less

भारत आज स्टार्टअप की दुनिया में सबसे अग्रणी- मोदी। (Wikimedia Commons)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी(Narendra Modi) ने आज अपने "मन की बात"("Mann Ki Baat") कार्यक्रम में देशवासियों से बात करते हुए स्टार्टअप के महत्व पर ज़ोर दिया। प्रधानमंत्री ने कहा की जो युवा कभी नौकरी की तलाश में रहते थे वे आज नौकरी देने वाले बन गए हैं क्योंकि स्टार्टअप(Startup) भारत के विकास की कहानी में महत्वपूर्ण मोड़ बन गया है। उन्होंने आगे कहा की स्टार्ट के क्षेत्र में भारत अग्रणी है क्योंकि तक़रीबन 70 कंपनियों ने भारत में "यूनिकॉर्न" का दर्जा हासिल किया है। इससे वैश्विक स्तर पर भारत का कद और मज़बूत होगा।

उन्होंने आगे कहा की वर्ष 2015 में देश में मुश्किल से 9 या 10 यूनिकॉर्न हुआ करते थे लेकिन आज भारत यूनिकॉर्न(Unicorn) की दुनिया में भारत सबसे ऊँची उड़ान भर रहा है।

Keep Reading Show less