Tuesday, May 11, 2021
Home इतिहास क्या आइज़ैक न्यूटन ने गुरुत्वाकर्षण की खोज की या भारत के विद्वानों...

क्या आइज़ैक न्यूटन ने गुरुत्वाकर्षण की खोज की या भारत के विद्वानों ने?

आइज़ैक न्यूटन द्वारा बताए गए ग्रुत्वकर्षण के सिद्धांतों को भारत के विद्वानों ने पहले से सुलझा लिया था, यह दावा है मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के शोधकर्ताओं का।

दुनिया में कई महान वैज्ञानिक और शोधकर्ता हुए जिनके सिद्धांतों को आज भी पाठ्यक्रम में पढ़ाया जाता है और उन्ही के सिद्धांतों द्वारा ही कठिन से कठिन प्रश्न भी मिनटों में हल हो जाता है। मगर क्या ऐसा हो सकता कि इन सभी सिंद्धान्तों को खोजने के पीछे भारत के ऋषि-मुनियों और विद्वानों का हाथ रहा हो? ऐसा इसलिए क्योंकि जिन बुद्धिजवियों ने भारत में की विद्या पर प्रश्न उठाए थे उन्हें हमारे वेदों और शास्त्रों ने चुप करा दिया है। ॐ का अर्थ और उसके फायदे पहले ही हमारे शास्त्र बताते आए हैं जिसे विदेशी वैज्ञानिकों ने भी माना है। ऐसे कई खोज थे जिन्हें भारतीय विद्वानों द्वारा खोजा गया था। यदि हम कहें कि गुरुत्वाकर्षण के सिद्धांत के को भी भारत में ही खोजा गया था, तो आप यह सुनकर चौंक जाएंगे।

यह आधुनिक दुनिया के लिए जाना जाता है कि आइज़ैक न्यूटन(Isaac Newton) ने 16 वीं शताब्दी में सार्वभौमिक गुरुत्वाकर्षण की खोज की थी, वह भी तब जब उन्होंने एक पेड़ से सेब गिरने पर विचार-विमर्श किया। लेकिन प्रसन्नोपनिषद (6000 ईसा पूर्व) ने उस बल का वर्णन किया है जो वस्तुओं को नीचे खींचता है और हमें बिना तैरते हुए धरती पर रखता है।  यह हम नहीं ऋषि व दार्शनिक विद्वान कणाद ने दूसरी शताब्दी ईसा पूर्व में वैशिका विद्यालय से वेदों और उपनिषदों पर आधारित यह बात कही थी।

ऋषि मुनि

भारत के विद्वानों ने किए हैं कई सिद्धांतों की खोज।(Wikimedia Commons)

मैनचेस्टर विश्वविद्यालय के नए शोध के अनुसार आइजैक न्यूटन(Isaac Newton) से सैकड़ों वर्ष पहले दक्षिण भारत के आधुनिक गणित के विद्वानों ने गुरुत्वाकर्षण के एक मुख्य सिद्धांत की खोज की थी। कई लोग यह भी विश्वास नहीं करेंगे कि 15 वीं शताब्दी में ईसाई मिशनरियों ने इस सूचना को ब्रिटेन तक पहुंचाने में मदद की थी।

द यूनिवर्सिटी ऑफ मैनचेस्टर के डॉ. जॉर्ज वर्घेज जोसेफ का कहना है कि ‘केरल विद्यालय’ ने ‘अनंत श्रृंखला'(Infinite Series) की पहचान की थी, जो कि कैलकुलस के मूल घटकों में से एक है वह भी वर्ष 1350 में। इस खोज को गलत तरीके से आइजैक न्यूटन(Isaac Newton) और गॉटफ्रीड लीबनिट्ज(Gottfried Wilhelm Leibniz) द्वारा अपने पुस्तकों में लिखा गया था।

मैनचेस्टर और एक्सेटर के विश्वविद्यालयों से आई टीम ने केरल स्कूल से यह भी पता लगाया कि पाई श्रृंखला(Pi Series) के लिए क्या राशि है और इसका उपयोग उन्होंने पाई को 9, 10 और बाद में 17 दशमलव स्थानों की गणना के लिए किया।

यह भी पढ़ें: वह हमें राह दिखा कर चले गए, मगर उस पर चलना हमें है

इस बात के पुख्ता साक्ष्य हैं कि भारतीय अपनी खोजों पर गणितीय रूप से जानकार जेसुइट मिशनरियों(Jesuit missionaries) के पास गए जो पंद्रहवीं शताब्दी के दौरान भारत आए थे। और अंततः न्यूटन(Isaac Newton) को भी उन मिशनरियों ने यह बात बताई होगी।

डॉ. जॉर्ज कहते हैं: – “कुछ असाध्य कारणों से, पूर्व से पश्चिम तक ज्ञान के संचरण के लिए आवश्यक साक्ष्य का मानक पश्चिम से पूर्व के ज्ञान के लिए आवश्यक साक्ष्य के मानक से अधिक है।

निश्चित रूप से यह कल्पना करना कठिन है कि पश्चिम, भारत से ज्ञान और किताबें आयात करने की 500 साल पुरानी परंपरा को छोड़ देगा। लेकिन हमें ऐसे साक्ष्य मिले हैं जो इससे बहुत आगे निकलते हैं: उदाहरण के लिए, जानकारी इकट्ठा करने का भरपूर अवसर था क्योंकि उस समय यूरोपीय जेसुइट(Jesuit) क्षेत्र में मौजूद थे।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,639FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी