Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
खेल

कहाँ हैं 2017 में FIFA U-17 World Cup में हिस्सा लेने वाले भारतीय टीम के खिलाड़ी?

विश्व कप को तीन साल हो चुके हैं और 21 में सिर्फ एक खिलाड़ी- कप्तान अमरजीत सिंह कियाम ने ही राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई है जबकि बाकी के खिलाड़ी राष्ट्रीय और राज्य स्तर की लीग में ही खेल रहे हैं।

फीफा अंडर-17 विश्व कप में भारतीय टीम सभी मैच हार गई थी। (Twitter)

By – रोहित मुंडेयुर

भारत में 2017 में हुए फीफा अंडर-17 विश्व कप (FIFA U-17 World Cup) में हिस्सा लेने वाली भारतीय टीम के खिलाड़ियों से सभी को काफी उम्मीदें थीं। कई लोगों का मानना था कि यह युवा खिलाड़ी काफी आगे जाएंगे।


भारत ने उस अंडर-17 विश्व कप के सभी मैच हारे थे। उस टीम के सदस्य जैक्सन सिंह ने इतिहास रचा था क्योंकि वह भारत की तरफ से किसी भी स्तर पर फीफा विश्व कप में गोल करने वाले इकलौते भारतीय खिलाड़ी थे। उन्होंने कोलंबिया के खिलाफ गोल किया था। यह मैच कोलंबिया ने 2-1 से जीता था। जैक्सन इस समय आईएसएल में केरला ब्लास्टर्स के लिए खेल रहे हैं। इस टीम में उनके साथ केपी राहुल हैं जो विश्व कप टीम का हिस्सा थे।

यह भी पढ़ें – जब विदेशी क्रिकेटर्स भारतीय महिलाओं के प्रेम में दिल हार बैठे

सभी को एक साथ रखने के लिए निकाला रास्ता

अखिल भारतीय फुटबाल महासंघ (एआईएफएफ-AIFF) ने अंडर-17 विश्व कप के सभी खिलाड़ियों को एक साथ रखने के लिए एक रास्ता बनाया। एआईएफएफ (AIFF) ने इंडियन एरोज की एक डेवलपमेंट टीम बनाई, ताकि इन सभी को एक साथ रखा जा सके। टीम आई-लीग में खेलती है। उस समय विंगर कमल थाटल इस टीम के इकलौते ऐसे खिलाड़ी रहे जिसने आईएसएल का रूख किया और एटीके से करार किया। इंडियन एरोज तो आई-लीग में रही लेकिन तब से खिलाड़ी इससे बाहर निकल लिए। अधिकतर लोग इसमें से आईएसएल की अलग-अलग टीमों में खेले हैं।

अंडर-17 विश्व कप (FIFA U-17 World Cup) में भारत की टीम के सहायक कोच रहे ह्यूगो माटिर्ंस ने आईएएनएस से कहा, “मुझे लगता है कि क्लब इन खिलाड़ियों के विकास के लिए सबसे सही जगह है। अगर उन्हें क्लब स्तर पर मौके नहीं मिलते हैं तो वह राष्ट्रीय टीम में नहीं खेल पाएंगे। इस उम्र में जरूरी है कि वह मैच खेलें। इंडियन एरोज का विचार काफी अच्छा था इससे उन्हें सीनियर स्तर पर खेलना का अनुभव मिला।”

2017 में हुए फीफा अंडर-17 विश्व कप में हिस्सा लेने वाली भारतीय टीम। (Twitter)

भारत के पूर्व खिलाड़ी गौरामांगी सिंह ने आईएएनएस से कहा, “युवा स्तर से सीनियर टीम में आना आसान नहीं है। यह किसी भी फुटबालर के करियर का काफी अहम फेज है।”

पूर्व गोलकीपर ब्राहम्मानंद संखवाल्कर ने इन युवा खिलाड़ियों को व्यस्त रखने का एक विचार सुझाया है। उन्होंने कहा, “एक ऐसा सिस्टम होना चाहिए जहां यह अंडरएज खिलाड़ियों को कोरिया, जापान जैसे देशों के उनकी ही आयुवर्ग के खिलाड़ियों के साथ खेलने का मौका मिले ताकि वह अच्छे खिलाड़ियों के साथ खेल सकें। अभी भारत के युवा खिलाड़ी आईएसएल में खेल रहे हैं लेकिन उन्हें पूरे साल हर सप्ताह खेलना चाहिए।”

यह भी पढ़ें – जानें कब खेला गया था पहला पिंक बॉल टेस्ट मैच और गुलाबी गेंद का इतिहास

अमरजीत सिंह कियाम

विश्व कप को तीन साल हो चुके हैं और 21 में सिर्फ एक खिलाड़ी- कप्तान अमरजीत सिंह कियाम ने ही राष्ट्रीय टीम में जगह बनाई है जबकि बाकी के खिलाड़ी राष्ट्रीय और राज्य स्तर की लीग में ही खेल रहे हैं। अमरजीत ने भारत के लिए पांच मैच खेले हैं। उन्होंने अपना पहला मैच पिछले साल जून में खेला था जबकि बाकी के 20 खिलाड़ियों ने आई-लीग और आईएसएल से आगे तक का सफर तय नहीं किया है।

अमरजीत सिंह कियाम। (Amarjit singh, Facebook)

अमरजीत ने पिछले साल पांच जुलाई को किंग्स कप में कारकुआ के खिलाफ पदार्पण किया। वह प्रणॉय हल्दार के सब्सीट्यूट के तौर पर आए थे। क्लब स्तर पर उन्होंने और उनकी टीम के कई साथियों ने इंडियन एरोज से खेला, लेकिन अब कई आईएसएल में आ गए हैं।

संजीव स्टालिन

अंडर-17 टीम के डिफेंस में अहम योगदान निभाने वाले संजीव स्टालिन 2019-20 तक आई-लीग में एरोज की रक्षापंक्ति की कमान संभाल रहे थे। फरवरी में उन्होंने पुर्तगाल के क्लब सीडी एवेस के साथ करार किया। कोविड-19 के कारण हालांकि क्लब संकट में फंस गया और बीमा संबंधी भुगतान न करने पर अपनी सभी सुविधाएं खो बैठा। उन्होंने बाद में पुर्तगाल के तीसरी श्रेणी के क्लब सेटार्नेंनसे के साथ अगस्त में करार किया लेकिन वह अभी तक क्लब के लिए खेल नहीं पाए हैं।

अनवर अली

सेंटर बैक अनवर अली अंडर-17 टीम के दूसरे ऐसे खिलाड़ी बन सकते थे जो राष्ट्रीय टीम के लिए खेलते लेकिन दिल की बीमारी के कारण वह यह मौका छोड़ बैठे। अली किंग्स कप, इंटरकोंटिनेनटल कप और विश्व कप क्वालीफायर्स की संभावित टीम का हिस्सा थे। वह एक भी मैच नहीं खेले और फिर बीमारी के बाद एआईएफएफ ने उन्हें फुटबाल में करियर बनाने से मना कर दिया। अली ने दिल्ली हाई कोर्ट में एआईएफएफ की सिफारिश के खिलाफ याचिका डाली और उन्हें फौरी तौर पर खेलने की अनुमति मिल गई , लेकिन एआईएफएफ के अंतिम फैसल के बाद वह नहीं खेल पाए। उन्होंने आखिरी बार चार दिसंबर को हिमाचल लीग में कदम रखा था।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Open-Air Hockey Rink With The stunning backdrop of the Himalayas In Spiti Valley

धीरज सिंह

गोलकीपर धीरज सिंह ने अपने खेल से काफी प्रभावित किया था। उन्हें स्कॉटिश प्रीमियरशिप क्लब मदरवेल ने ट्रायल्स के लिए बुलाया था और तीन साल का करार भी करने को तैयार था लेकिन धीरज को वर्क परमिट नहीं मिल सका और वह वापस आ गए। धीरज ने फिर आईएसएल क्लब केरला ब्लास्टर्स के साथ करार किया और 2018-19 सीजन में 13 मैच खेले। अगले सीजन उन्होंने एटीके के साथ करार किया और इस सीजन भी वह क्लब के साथ हैं।

प्रभसुखन गिल और सन्नी धालीवाल

अंडर-17 टीम के अन्य दो गोलकीपर प्रभसुखन गिल और सन्नी धालीवाल थे। अमरजीत के जाने के बाद से गिल एरोज की प्राथमिकता थे और 2018-19 सीजन तक टीम के साथ थे। इसके बाद उन्होंने बेंगलुरू एफसी का दामन थामा और गुरप्रीत सिंह संधू के सानिध्य में रहे। इस सीजन वह केरला ब्लास्टर्स में आ गए। क्लब के साथ अभी तक उन्हें अपना पहला मैच खेलना है। धालीवाल जो भारतीय मूल के कनाडियन खिलाड़ी थे वह वापस कानाडा लौट गए और टोरोंटो एफसी के लिए खेले। अब वह अमेरिका के जॉर्ज मेसन पैट्रियोट्स के लिए खेल रहे हैं।

यह 2017 फीफा अंडर-17 विश्व कप (FIFA U-17 World Cup) में हिस्सा लेने वाली भारतीय टीम के मुख्य खिलाड़ी थे जिन्होंने सभी का ध्यान खींचा था। (आईएएनएस)

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less