Saturday, August 15, 2020
Home इतिहास जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के दौरे पर गयी थी। ये इन्दिरा गांधी का निजी दौरा नहीं बल्कि भारत के प्रधानमंत्री के तौर पर राजनयिक दौरा था, तो स्वाभाविक है की उनके साथ उनका एक प्रतिनिधि मण्डल भी साथ गया था। उसी प्रतिनिधि मण्डल में मौजूद शक्स नटवर सिंह की लिखी हुई किताब ‘वन लाइफ इज़ नॉट इनफ़’ के हवाले से हम ये कहानी आपको बता रहे हैं।

नटवर सिंह उस वक़्त एक बड़े आईएफ़एस(इंडियन फ़ॉरेन सर्विस) अधिकारी थे। 1969 में इन्दिरा गांधी सरकार के प्रधानमंत्री सचिवालय में उनकी अहम भूमिका थी। हालांकि 1984 में उन्होंने आईएफ़एस के पद से इस्तीफा दे कर काँग्रेस पार्टी जॉइन कर लिया था। सालों बाद 2004 में वे विदेश मंत्री भी बने। नटवर सिंग उन चुनिन्दा लोगों में से एक हैं जिन्हे उस दौर के नेहरू-गांधी परिवार का बेहद करीबी माना जाता था।

अपनी किताब ‘वन लाइफ इज़ नॉट इनफ़’ में नटवर सिंह 1969 के काबुल दौरे को याद करते हुए लिखते हैं की एक दोपहर प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी अपने खाली वक़्त में कहीं सैर पर जाना चाहती थी। उस सैर पर नटवर सिंह भी उनके साथ मौजूद थे। काबुल से कुछ दूर निकलते ही प्रधानमंत्री इन्दिरा को चंद पेड़ो से घिरी हुई एक टूटी-फूटी इमारत नज़र आई, जिसे देख कर उन्होने साथ चल रहे अफगान के सुरक्षा अधिकारी से पूछ दिया की, ये कौन सी इमारत है। सुरक्षा अधिकारी ने जवाब में बताया की वो ‘बाग-ए-बाबर’ है अर्थात बाबर का मकबरा।

नटवर सिंह लिखते हैं की प्रोटोकॉल को तोड़ कर इन्दिरा गांधी ने बाबर के मकबरे पर जाने का फैसला ले लिया। हालांकि प्रधानमंत्री के इस निर्णय से सुरक्षा अधिकारियों को आपत्ति थी लेकिन उस वक़्त अफ़ग़ानिस्तान में मेहमान, भारत की प्रधानमंत्री को मना करना शायद उन्हे उचित नहीं लगा होगा। तो गाड़ी बाग-ए बाबर की ओर मोड़ ली गयी।

नटवर सिंह आगे लिखते हैं की बाबर के मकबरे के सामने इन्दिरा गांधी अपना सर झुकाए खड़ी रही, और उनके बगल मे ही वो खुद भी खड़े रहे। नटवर सिंह ने इन्दिरा गांधी से कहा की ये उनके लिए बहुत ही सम्मान की बात है की उन्हे भारत की महारानी(इन्दिरा गांधी) के साथ बाबर को श्रद्धांजलि देने का सौभाग्य प्राप्त हुआ है।

नटवर सिंह की किताब ‘वन लाइफ इज़ नॉट इनफ़’ का 143वां पन्ना।

इतिहास गवाह है की बाबर एक क्रूर मुग़ल आक्रमणकारी था जिसने भारत पर कब्जा करने के बाद हिंदुओं पर निरंतर अत्याचार किया। बाबर के शासन में हिंदुओं के अनगिनत मंदिरों को तोड़ा गया, हिन्दू महिलाओं का बलात्कार किया गया, उनके धर्म परिवर्तन कराए गए।
लेकिन प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी, अफ़ग़ानिस्तान में सारे प्रोटोकॉल तोड़ कर भी मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को श्रद्धांजलि अर्पित करने जाती है, आखिर क्यूँ?

POST AUTHOR

Kumar Sarthak
•लेखक •घोर राजनीतिज्ञ• विश्लेषक• बकैत

जुड़े रहें

5,783FansLike
0FollowersFollow
152FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

रियाज़ नाइकू को ‘शिक्षक’ बताने वाले मीडिया संस्थानो के ‘आतंकी सोच’ का पूरा सच

कौन है रियाज़ नायकू? कश्मीर के आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिद्दीन का आतंकी कमांडर बुरहान वाणी 2016 में ...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया..” के सदाबहार गायक जसपाल सिंह की कहानी

“कौन दिशा में लेके चला रे बटोहिया” इस गाने को किसने नहीं सुना होगा। अगर आप 80’ के दशक से हैं...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

रामायण की अफीम से तुलना करने वाले प्रशांत भूषण लगातार हिन्दू धर्म को करते आयें हैं बदनाम

रामायण पर घटिया टिप्पणी करने वाले वकील प्रशांत भूषण पर इस शुक्रवार सुप्रीम कोर्ट द्वारा करारा तमाचा जड़ा गया। सुप्रीम कोर्ट...

हाल की टिप्पणी