चीनी अंतरिक्ष स्टेशन पूरी मानव जाति का समान अंतरिक्ष घर बनेगा

1992 से 2022 तक अंतरिक्ष घर बनाने के लिए चीन ने अभूतपूर्व 30 साल गुजारे हैं।
चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का तीसरा मॉड्यूल-मंगथ्येन प्रायोगिक मॉड्यूल लांच
चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का तीसरा मॉड्यूल-मंगथ्येन प्रायोगिक मॉड्यूल लांचIANS

पेइचिंग समयानुसार 31 अक्तूबर को दोपहर बाद तीन बजकर 37 मिनट पर चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का तीसरा मॉड्यूल-मंगथ्येन प्रायोगिक मॉड्यूल लांच किया गया। लगभग 8 मिनट के बाद मंगथ्येन प्रायोगिक मॉड्यूल सफलतापूर्वक रॉकेट से अलग हुआ और निर्धारित कक्षा में प्रवेश किया। लांच मिशन सफल रहा। यह इस बात का द्योतक है कि चीनी अंतरिक्ष स्टेशन (China's Space Station) दो मॉड्यूल से तीन मॉड्यूल में बदलेगा और टी आकार का रूप दिखाएगा।

अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण चीन के एयरोस्पेस में मील का पत्थर माना जाता है। 1992 से 2022 तक अंतरिक्ष घर बनाने के लिए चीन ने अभूतपूर्व 30 साल गुजारे हैं। चीन ने क्रमश: अंतरिक्ष जाने, अंतरिक्ष में वॉक करने आदि कई कुंजीभूत तकनीकों में महारत हासिल कीं और अंतरिक्ष स्टेशन के निर्माण के लिए विश्वसनीय तकनीक आधार तैयार किया। खास तौर पर इधर के 10 वर्षों में चीन का एयरोस्पेस विकास के तेज ट्रैक में प्रवेश कर चुका है। चीन ने कुल 274 लांच मिशन पूरे किये, जिन्होंने चीन को शक्तिशाली अंतरिक्ष देशों की पंक्ति में प्रवेश करने में मदद दी।

चीन
चीनWikimedia

एयरोस्पेस क्षेत्र का विकास चीन के वैज्ञानिक और तकनीकी विकास की एक झलक है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 20वीं राष्ट्रीय कांग्रेस की रिपोर्ट ने बताया कि बीते 10 वर्षों में चीन के कई कुंजीभूत क्षेत्रों में उल्लेखनीय उपलब्धियां हासिल कीं, जिन में सुपर कंप्यूटर (super-computer), उपग्रह नेविगेशन, क्वांटम जानकारी, परमाणु ऊर्जा प्रौद्योगिकी (nuclear energy technology), नयी ऊर्जी तकनीक, जैव चिकित्सा आदि शामिल हैं।

अहम बात यह है कि चीन के मानवयुक्त अंतरिक्ष यान व्यवसाय ने हमेशा शांतिपूर्ण प्रयोग, समानता और आपसी लाभ, समान विकास के सिद्धांत पर कायम रहकर फ्रांस (France), जर्मनी (Germany), इटली (Italy), रूस (Russia), पाकिस्तान (Pakistan), यूएन बाहरी अंतरिक्ष एजेंसी और यूरोपीय अंतरिक्ष एजेंसी आदि कई अंतरिक्ष संस्थाओं और संगठनों के साथ सहयोग समझौते पर हस्ताक्षर किए, उन के साथ विविधतापूर्ण सहयोग परियोजनाओं को अंजाम दिया और प्रचुर उपलब्धियां हासिल की हैं।

चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का तीसरा मॉड्यूल-मंगथ्येन प्रायोगिक मॉड्यूल लांच
तेल खरीदने को लेकर भारत का कोई नैतिक टकराव नहीं: हरदीप पुरी

चीनी अंतरिक्ष स्टेशन यूएन के सभी सदस्य देशों के लिए खुला है। अभी तक 17 देशों और 23 इकाइयों के 9 प्रॉजेक्ट चीनी अंतरिक्ष स्टेशन की वैज्ञानिक प्रयोगों के लिए चयनित परियोजनाएं चुनी गयी हैं।

अंतरिक्ष पूरी मानव जाति का है, इसलिए इसे मानव जाति को लाभ देना चाहिए। चीनी अंतरिक्ष स्टेशन का निर्माण पूरा होने के बाद वह 10 सालों के प्रयोग और विकास चरण में प्रवेश होगा। इस साल के अंत से पहले चीन थ्येनचो-5 मालवाहक यान और शनचो-15 समानव अंतरिक्ष यान का प्रक्षेपण करेगा। विश्वास है कि निकट भविष्य में चीनी अंतरिक्ष स्टेशन पूरी मानव जाति का समान अंतरिक्ष घर बनेगा, जहां चीनी और विदेशी अंतरिक्ष यात्री एक साथ काम करेंगे, ब्रह्मांड के रहस्यों का अन्वेषण करेंगे और मानव जाति के अंतरिक्ष के शांतिपूर्ण प्रयोग के लिए योगदान प्रदान करेंगे।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com