Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें (IANS)

Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें (IANS)

डेटा

Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें

दुनिया भर में हर साल 28 जनवरी को डेटा गोपनीयता दिवस(Data Privacy Day) मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य लोगों को डेटा गोपनीयता पर ध्यान देने और व्यक्तिगत सूचना की रक्षा करने के लिए है।

न्यूज़ग्राम हिंदी: दुनिया भर में हर साल 28 जनवरी को डेटा गोपनीयता दिवस(Data Privacy Day) मनाया जाता है। इस दिन का उद्देश्य लोगों को डेटा गोपनीयता पर ध्यान देने और व्यक्तिगत सूचना की रक्षा करने, सुरक्षा जागरूकता बढ़ाने, और वैश्विक नागरिकों की डेटा संरक्षण जिम्मेदारी जागरूकता को बढ़ाने के लिए व्यावहारिक कार्रवाई करने के लिए प्रोत्साहित करना है। हालांकि, बिग डेटा, आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मोबाइल इंटरनेट जैसी उभरती तकनीकों के लगातार लोकप्रिय होने के साथ-साथ, लोगों की गोपनीय जानकारी लीक होने की समस्या भी सामने आ रही है।

चीनी डेटा सुरक्षा कानून, व्यक्तिगत सूचना संरक्षण कानून और महत्वपूर्ण सूचना व बुनियादी सुविधा का सुरक्षा संरक्षण विनियम के क्रमिक रूप से लागू होने के साथ-साथ डेटा सुरक्षा चीन में एक और महत्वपूर्ण कीवर्ड बन गया है और राष्ट्रीय आर्थिक व सामाजिक विकास का महत्वपूर्ण सूचक बन गया है।

<div class="paragraphs"><p>Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें (Wikimedia Commons)</p></div>

Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें (Wikimedia Commons)

डेटा



बिग डेटा के युग में व्यक्तिगत सूचना सुरक्षा को इन चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है। पहला, आधुनिक नेटवर्क सूचना प्रौद्योगिकी ने आधुनिक सामाजिक जीवन का अत्यधिक डिजिटलीकरण किया। और कुकी तकनीक और विभिन्न सेंसर स्वचालित रूप से व्यक्तिगत जानकारी को एकत्र और संग्रहीत कर सकते हैं। व्यक्तिगत जानकारी को बड़े पैमाने पर और स्वचालित रूप से एकत्र और संग्रहीत करना अधिक से अधिक सामान्य होता जा रहा है, जो लगभग हर जगह और हर समय मौजूद है। अपराधी अवैध रूप से प्राप्त व्यक्तिगत जानकारी का उपयोग करते हुए पीड़ितों पर सटीक धोखाधड़ी करते हैं या व्यक्तियों के संपत्ति अधिकारों का उल्लंघन करने वाले अन्य अवैध आपराधिक कार्य करते हैं। दूसरी ओर, बिग डेटा और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस तकनीक के विकास ने बड़े पैमाने पर डेटा के विश्लेषण और उपयोग को बहुत सरल बना दिया है, और व्यक्तिगत सूचना के दुरुपयोग की संभावना बहुत बढ़ गई है। विभिन्न नेटवर्क प्लेटफॉर्म भारी मात्रा में व्यक्तिगत जानकारी के विश्लेषण और उपयोग के माध्यम से लक्षित समूहों के लिए व्यक्तित्व चित्र बनाते हैं, सटीक मार्केटिंग लागू करते हैं, और यहां तक कि व्यवहारों का हेरफेर करते हैं, जिससे व्यक्तियों की गरिमा को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचता है और व्यक्तित्व के मुक्त विकास में बाधा पहुंचती है।

<div class="paragraphs"><p>Data Privacy Day: बिग डेटा के युग में, पारदर्शी न बनें (IANS)</p></div>
National Voter's Day: मतदान जैसा कुछ नहीं, मैं मतदान अवश्य करूंगा



डिजिटल युग में, डेटा सुरक्षा का महत्व दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है, और बुद्धिमान युग के आगमन के साथ साथ उद्यम डेटा सुरक्षा और व्यक्तिगत गोपनीयता सुरक्षा के सामने चुनौतियां अधिक से अधिक होती जाएंगी। डेटा सुरक्षा को नवीन प्रौद्योगिकी और सिद्धांतों का पालन करने वाले लोगों द्वारा संरक्षित करने की आवश्यकता है।

व्यक्तिगत जानकारी लीक होने के कारण होने वाली सुरक्षा समस्याएं सचमुच बिग डेटा के युग में पैदा हुई हैं। हालाँकि, हम ऐसी समस्याओं के कारण तकनीकी विकास के महत्व को नकार नहीं सकते। मानव विज्ञान और प्रौद्योगिकी का विकास और सुरक्षा एक-दूसरे के विरोधाभासी नहीं हैं। हालाँकि व्यक्तिगत जानकारी के लीक होने जैसी समस्याएं पैदा रही हैं, सामान्य तौर पर, प्रौद्योगिकी हमें सुरक्षित बना रही हैं। यह कहा जा सकता है कि प्रौद्योगिकी के विकास और बिग डेटा के उदय ने सामाजिक प्रशासन के बुद्धिमान स्तर को काफी हद तक उन्नत किया।

बिग डेटा वास्तव में हमारे समाज के विकास को बढ़ावा देने में भूमिका निभाता है। इसलिए हमें सकारात्मक और समावेशी दृष्टिकोण से प्रौद्योगिकी को देखना चाहिए और प्रौद्योगिकी का लगातार सुधार करना चाहिए।


--आईएएनएस/VS

logo
hindi.newsgram.com