मिस्र में चल रहे सीओपी27 में हुआ महत्वपूर्ण समझौता

सीओपी27 के अध्यक्ष सामेह शौकरी ने शर्म अल-शेख अनुकूलन एजेंडा की घोषणा की, जो 2030 तक सबसे अधिक जलवायु-संवेदनशील समुदायों में रहने वाले लोगों के लिए लचीलापन बढ़ाएगा।
सीओपी27
सीओपी27IANS

लगभग 200 देशों के प्रतिनिधियों के बीच रविवार को मिस्र (Egypt) में दो सप्ताह तक चले संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन (सीओपी27) में महत्वपूर्ण समझौता हुआ। इसके तहत अमीर देश एक फंड बनाएंगे। इससे गरीब देशों को जलवायु परिवर्तन (climate change) से निपटने के लिए मुआवजा दिया जाएगा। फंड किस तरह से काम करेगा, इस पर एक साल तक बहस होगी। अगले सीओपी (COP) में पहले वैश्विक स्टॉकटेक को सूचित करेगा, और यह कमजोर देशों के बीच जलवायु लचीलापन में सुधार करेगा। सीओपी 27 में अनुकूलन निधि के लिए कुल 230 मिलियन डॉलर से अधिक की प्रतिज्ञा की गई थी। ये प्रतिज्ञाएं ठोस अनुकूलन समाधानों के माध्यम से कमजोर समुदायों को जलवायु परिवर्तन के अनुकूल बनाने में मदद करेंगी।

सीओपी27 (COP27) के अध्यक्ष सामेह शौकरी ने शर्म अल-शेख अनुकूलन एजेंडा की घोषणा की, जो 2030 तक सबसे अधिक जलवायु-संवेदनशील समुदायों में रहने वाले लोगों के लिए लचीलापन बढ़ाएगा। वित्त पर संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन (United Nations Climate Change) की स्थायी समिति से अनुरोध किया गया कि वह अगले वर्ष सीओपी28 (COP28) पर विचार के लिए दोहरीकरण अनुकूलन वित्त पर एक रिपोर्ट तैयार करे।

फैसला, जिसे शर्म अल-शेख कार्यान्वयन योजना के रूप में जाना जाता है, इस बात पर प्रकाश डालता है कि कम कार्बन वाली अर्थव्यवस्था (economy) में वैश्विक परिवर्तन के लिए प्रति वर्ष कम से कम 4-6 ट्रिलियन डॉलर के निवेश की आवश्यकता होती है। इस तरह के वित्त पोषण को वितरित करने के लिए वित्तीय प्रणाली और इसकी संरचनाओं और प्रक्रियाओं, संलग्न सरकारों, केंद्रीय बैंकों, वाणिज्यिक बैंकों, संस्थागत निवेशकों और अन्य के एक तेज और व्यापक परिवर्तन की आवश्यकता होगी।

बैठक में इस बात पर गंभीर चिंता व्यक्त की गई कि 2020 तक प्रति वर्ष संयुक्त रूप से 100 बिलियन जुटाने का विकसित देशों का लक्ष्य अभी तक पूरा नहीं हुआ है, विकसित देशों के साथ लक्ष्य को पूरा करने का आग्रह किया है, और बहुपक्षीय विकास बैंकों और अंतर्राष्ट्रीय वित्तीय संस्थानों ने जलवायु वित्त जुटाने का आह्वान किया है। सीओपी27 में, विकासशील देशों की जरूरतों और प्राथमिकताओं को ध्यान में रखते हुए 2024 में 'जलवायु वित्त पर नया सामूहिक मात्रात्मक लक्ष्य' स्थापित करने पर विचार-विमर्श किया गया।

सीओपी27
सीओपी27Wikimedia

स्टील ने कहा- हमें आश्वासन दिया गया है कि पीछे हटने के लिए कोई जगह नहीं है। यह प्रमुख राजनीतिक संकेत देता है जो इंगित करता है कि सभी जीवाश्म ईंधनों का चरणबद्ध रूप से पतन हो रहा है। सम्मेलन के पहले सप्ताह के दौरान दो दिनों में आयोजित विश्व नेताओं के शिखर सम्मेलन में छह उच्च-स्तरीय चर्चाएं आयोजित की गईं। चर्चाओं में खाद्य सुरक्षा, कमजोर समुदायों और उचित संक्रमण समेत अन्य विषयों के समाधानों पर प्रकाश डाला गया, ताकि जलवायु चुनौतियों से निपटने के लिए एक मार्ग तैयार किया जा सके और बड़े पैमाने पर जलवायु कार्रवाई को प्रभावी ढंग से वितरित करने के लिए वित्त, संसाधन और उपकरण कैसे प्रदान किए जा सकें।

सीओपी27 विचारों, समाधानों को साझा करने और साझेदारी बनाने के लिए 45,000 से अधिक प्रतिभागियों को एक साथ लाया। युवाओं और बच्चों सहित स्वदेशी लोगों, स्थानीय समुदायों, शहरों और नागरिक समाज ने प्रदर्शित किया कि जलवायु परिवर्तन उनके जीवन को कैसे प्रभावित करता है। रविवार को लिए गए फैसले भी सभी हितधारकों को जलवायु कार्रवाई में शामिल होने के लिए सशक्त बनाने के महत्वपूर्ण महत्व पर जोर देते हैं।

ये परिणाम सभी पक्षों को भागीदारी में असंतुलन को दूर करने के लिए एक साथ काम करने और सभी स्तरों पर अधिक से अधिक समावेशी जलवायु कार्रवाई करने के लिए आवश्यक उपकरण प्रदान करने की अनुमति देंगे। सीओपी27 में विशेष रूप से युवा लोगों को अधिक प्रमुखता दी गई, संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन के कार्यकारी सचिव ने सरकारों से आग्रह किया कि वे न केवल युवा लोगों द्वारा प्रस्तुत समाधानों को सुनें, बल्कि उन समाधानों को निर्णय और नीति निर्माण में शामिल करें।

औपचारिक वार्ताओं के समानांतर, सीओपी27 में ग्लोबल क्लाइमेट एक्शन स्पेस ने सरकारों, व्यवसायों और नागरिक समाज को अपने वास्तविक दुनिया के जलवायु समाधानों को सहयोग करने और प्रदर्शित करने के लिए एक मंच प्रदान किया। यहां 50 से अधिक कार्यक्रम दो सप्ताह तक आयोजित किए गए। इसमें उत्सर्जन में कटौती और जलवायु लचीलापन बनाने और वित्त जुटाने पर महत्वपूर्ण कार्य करने के लिए अफ्रीकी नेतृत्व वाली कई प्रमुख पहल शामिल थीं।

स्टिल ने कहा- हमारे आगे मील के पत्थर की एक श्रृंखला है। हमें सभी प्रक्रियाओं के माध्यम से, संकल्प के साथ, एक साथ आगे बढ़ना चाहिए, चाहे वह राष्ट्रीय, क्षेत्रीय, या जी20 (G-20) जैसे अन्य हों। हर एक मील का पत्थर मायने रखता है। परिवर्तन के लिए अगला कदम पहले वैश्विक स्टॉकटेक के संयुक्त अरब अमीरात (United Arab Emirates) के नेतृत्व के साथ आने वाला है। पहली बार हम पेरिस समझौते (Paris Agreement) के कार्यान्वयन का जायजा लेंगे। यह स्वतंत्र रूप से हमारे द्वारा की गई प्रगति का मूल्यांकन करेगा। यह सूचित करेगा कि जलवायु संकट को टालने के लिए हर किसी को, हर एक दिन, दुनिया में हर जगह क्या करने की जरूरत है।

सीओपी27
भारत में त्योहारी महीने में 76 हजार करोड़ रुपये की हुई ऑनलाइन बिक्री

स्टिल ने समापन सत्र में प्रतिनिधियों को याद दिलाया कि दुनिया जलवायु कार्रवाई के लिए एक महत्वपूर्ण दशक में है। संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन की एक गंभीर रिपोर्ट ने उनकी टिप्पणियों के साथ-साथ दो सप्ताह के सम्मेलन में चर्चाओं को रेखांकित किया। रिपोर्ट के अनुसार, राष्ट्रीय सरकारों द्वारा वर्तमान प्रतिज्ञाओं के कार्यान्वयन ने दुनिया को सदी के अंत तक 2.5 डिग्री सेल्सियस गर्म दुनिया के लिए ट्रैक पर रखा है। जलवायु परिवर्तन पर संयुक्त राष्ट्र के अंतर सरकारी पैनल ने संकेत दिया है कि ग्लोबल वामिर्ंग (Global Warming) को 1.5 डिग्री तक सीमित करने के लिए 2030 तक ग्रीनहाउस गैस (greenhouse gas) उत्सर्जन में 45 प्रतिशत की कमी आनी चाहिए।

सीओपी27 ने शमन पर काम को काफी उन्नत किया। शर्म अल शेख में शमन कार्य कार्यक्रम शुरू किया गया था, जिसका उद्देश्य शमन महत्वाकांक्षा और कार्यान्वयन को तत्काल बढ़ाना था। कार्य सीओपी27 के तुरंत बाद शुरू होगा और 2030 तक जारी रहेगा, जिसमें हर साल कम से कम दो वैश्विक संवाद होंगे। सरकारों से यह भी अनुरोध किया गया कि वह 2023 के अंत तक अपनी राष्ट्रीय जलवायु योजनाओं में 2030 के लक्ष्यों पर फिर से विचार करें और उन्हें मजबूत करें, साथ ही कोयले की ऊर्जा को चरणबद्ध तरीके से कम करने और अक्षम जीवाश्म ईंधन सब्सिडी को समाप्त करने के प्रयासों में तेजी लाएं।

फैसले के मुताबिक अभूतपूर्व वैश्विक ऊर्जा संकट कार्रवाई के इस महत्वपूर्ण दशक के दौरान नवीकरणीय ऊर्जा के लिए स्वच्छ और न्यायपूर्ण संक्रमण को तेज कर ऊर्जा प्रणालियों को तेजी से बदलने की आवश्यकता को रेखांकित करता है। प्रतिनिधियों ने पहले वैश्विक स्टॉकटेक की दूसरी तकनीकी वार्ता को पूरा किया, जो पेरिस समझौते के तहत महत्वाकांक्षा बढ़ाने का तंत्र है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव अगले साल सीओपी28 में स्टॉकटेक के समापन से पहले 2023 में 'जलवायु महत्वाकांक्षा शिखर सम्मेलन' बुलाएंगे।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com