भारत में जन्मे संरचनात्मक जीवविज्ञानी वेंकी रामकृष्णन ब्रिटिश ऑर्डर ऑफ मेरिट से सम्मनित

शुक्रवार को किंग चार्ल्स तृतीय ने उन्हें सम्मानित किया। उन्हें इसके लिए सितंबर में चुना गया था।
वेंकी रामकृष्णन
वेंकी रामकृष्णनIANS

भारत (India) में जन्मे ब्रिटिश (British) और अमेरिकी संरचनात्मक जीवविज्ञानी और नोबेल पुरस्कार (Nobel Prize) विजेता वेंकी रामकृष्णन को ब्रिटिश ऑर्डर ऑफ मेरिट से सम्मनित किया गया है। तमिलनाडु (Tamil Nadu) में चिदंबरम के मंदिरों के शहर से आने वाले 70 वर्षीय वेंकटरामन वेंकी रामकृष्णन ने 30 से अधिक वर्षों तक जीवविज्ञानी के रूप में काम किया है, उनका अधिकांश शोध आणविक जीव विज्ञान में केंद्रीय समस्याओं पर केंद्रित है।

उन्हें राइबोसोम की उच्च-रिजॉल्यूशन परमाणु संरचना के लिए थॉमस स्टिट्ज और एडा योनाथ के साथ 2009 में नोबेल पुरस्कार से सम्मानित किया गया था, जिसने एंटीबायोटिक दवाओं के विकास में नई संभावनाएं खोलीं।

शुक्रवार को किंग चार्ल्स तृतीय ने उन्हें सम्मानित किया। उन्हें इसके लिए सितंबर में चुना गया था।

रामकृष्णन को 2012 में आणविक जीव विज्ञान (Life Science) की सेवाओं के लिए नाइटहुड (Knighthood) से सम्मानित किया गया था। वह लोकप्रिय पुस्तक जीन मशीन के लेखक भी हैं।

वेंकी रामकृष्णन
ट्यूशन फ़ीस हमेशा सस्ती होनी चाहिए, शिक्षा लाभ कमाने का व्यवसाय नहीं: सुप्रीम कोर्ट

रामकृष्णन यूएस नेशनल एकेडमी ऑफ साइंसेज, लियोपोल्डिना और ईएमबीओ के सदस्य होने के साथ-साथ भारतीय राष्ट्रीय विज्ञान अकादमी के विदेशी सदस्य भी हैं।

2017 में उन्हें अमेरिकन एकेडमी ऑफ अचीवमेंट का गोल्डन प्लेट अवार्ड मिला। ट्रिनिटी कॉलेज, कैम्ब्रिज (Cambridge) के छात्र रहे रामकृष्णन को 2015 में पांच साल के लिए रॉयल सोसाइटी के अध्यक्ष के रूप में चुना गया था। उन्होंने बड़ौदा विश्वविद्यालय, ओहियो विश्वविद्यालय और कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय में अध्ययन किया।

उन्हें 2010 में भारत सरकार ने पद्म विभूषण से सम्मानित किया था।

आईएएनएस/RS

Related Stories

No stories found.
hindi.newsgram.com