Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

क्या कनाडा, भारत विरोधी और खालिस्तान का समर्थक बनता जा रहा है?

कनाडा, भारत के लिए खालिस्तानी प्रोपगेंडा का केंद्र बना हुआ है और इसलिए कनाडा में खालिस्तान के बढ़ते प्रभाव ने भारत की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया है।

खालिस्तान आतंकी, भारत और कनाडा (Canada) दोनों राष्ट्रों के बीच हमेशा से उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरा बना हुआ है। (Unsplash)

खालिस्तान आतंकी, भारत और कनाडा (Canada) दोनों राष्ट्रों के बीच हमेशा से उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरा बना हुआ है। खालिस्तान आतंकवादियों ने ही 35 साल पहले एयर इंडिया के विमान पर बम विस्फोट किया था, जो की हवाई यात्रा के इतिहास में अब तक का सबसे बड़ा हमला था। जिसमें 304 से भी ज्यादा लोग मारे गए थे। आप सोच रहे होंगे क्यों फिर एक बार खालिस्तान की बात की जा रही है? आखिर मुद्दा क्या है?

यह जान लेना आवश्यक है कि, भारत और कनाडा के बीच सिखों के जनसंख्या का अंतर ज्यादा नहीं है। जिस वजह से कनाडा भारत के लिए खालिस्तानी प्रोपगेंडा का केंद्र बना हुआ है और इसलिए कनाडा में खालिस्तान (Khalistan) के बढ़ते प्रभाव ने भारत की सुरक्षा को खतरे में डाल दिया है। अभी हाल ही में Terry Milewski CBC कनाडा के प्रसिद्ध पत्रकार ने खालिस्तान परियोजना के 50 वर्षों के लिए अपनी नई पुस्तक Blood for Blood का विमोचन किया है। इस पुस्तक को एयर इंडिया बमबारी की दर्दनाक तिथि 21 जून से पहले प्रकाशित किया गया था।


Terry को उनकी गहन जांच रिपोर्ट और एयर इंडिया बम विस्फोट पर वृत्तचित्र (सिनेमा के रूप में दिखाना) के लिए जाना जाता है। उन्होंने बताया था कि कैसे कनाडा के राजनेताओं और खुफिया एजेंसियों ने उपलब्ध सबूतों से आंखें मूंद ली थी और आरोपियों को बरी कर दिया गया था। टेरी की पुस्तक के प्रकाशन की खबर जैसे ही ट्विटर पर पोस्ट की गई की कुछ ही अंतराल में खालिस्तानी समर्थक गाली – गलोच करने लगे। अपने आपत्तिजनक ट्वीट्स से प्रसिद्द पत्रकार पर हमला करने लगे। इसके अतिरिक्त जिन लोगों ने भी टेरी को बधाइयां दी उन्हें भी खालिस्तान समर्थकों द्वारा ट्रोल किया गया।

खालिस्तान को लिबरल सरकार का समर्थन पहले से ही प्राप्त था। लेकिन NDP के जगमीत सिंह (Jagmeet Singh) से मिले समर्थन के कारण हाल के वर्षों में इंडो-कनाडियन लोगों के साथ बातचीत में बेहद आक्रामक और यहां तक की हिंसक प्रवृत्ति के भी हो गए हैं। जगमीत सिंह एक वकील, मानवाधिकार कार्यकर्ता और कनाडा की न्यू डेमोक्रेसी पार्टी के नेता हैं।

खालिस्तान आतंकी, भारत और कनाडा (Canada) दोनों राष्ट्रों के बीच हमेशा से उनकी राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए एक खतरा बना हुआ है। (NewsGramHindi, साभार : Wikimedia Commons)

भारतीय कनाडाई (Indo – Canadian), जो भारत विरोधी, हिन्दू विरोधी ट्वीट्स का विरोध करते हैं। उन्हें इन खालिस्तानियों द्वारा परेशान किया जाता है और कई हद तक हिंसक घटनाएं भी देखने को मिलती हैं। ऐसी ही एक घटना Feb 2021 के अंत में देखने को मिली थी। इंडो – कनाडियन जो बड़े पैमाने पर गैर राजनीतिक नागरिक हैं, उनके द्वारा कनाडा में लगभग 5 लाख एस्ट्रा जैनेका वैक्सीन भेजने के लिए भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को धन्यवाद देने के लिए ब्रैम्पटन ओंटारियो सीए में एक इंडो कनाडियन कार रैली का आयोजन किया गया था। इस रैली में बच्चे, बड़े उनका पूरा परिवार सब शामिल थे। लेकिन जिस उत्सुकता से साथ यह रैली शुरू हुई थी, खालिस्तानियों की आक्रामकता के चलते यह उस दिन का सबसे बुरा दिन था। खालिस्तान समर्थकों की भीड़ ने रैली पर हमला कर इंडो – कनाडियाई लोगों को अपने कब्जे में ले लिया। लोगों में हिंसा और डर का माहौल कायम कर दिया गया था।

क्यों कनाडा के तथाकथित लोग भारत – विरोधी नारों को उजागर कर रहे हैं? वहां के इंडो – कनाडियन लोगों को परेशान कर रहे हैं? यहां तक कि वहां के स्कूल अपने बच्चों को भारत के खिलाफ नफरत सीखा रहे हैं।

यह भी पढ़ें :- 'इस्लाम संविधान को नहीं मानता है!'

हम सभी जानते हैं कि हाल ही में भारत ने तीन कृषि कानून विधेयक पेश किए हैं, जिसे 2020 में संसद के मानसून सत्र के दौरान पारित कर दिया गया था। इस विधेयक का उद्देश्य कृषि उपज की बिक्री संबंधित मौजूद कानूनों से छुटकारा दिलाना है और यह सुनिश्चित करना है कि किसानों को उपज का उचित मूल्य मिले। जिस वक्त यह विधेयक पास हुआ था, तब कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने अपने खालिस्तान वोट बैंक के दबाव में, भारत के नए कृषि कानूनों के विरोध में भारत की आलोचना की थी। और हमनें देखा था कि तथाकथित खालिस्तानियों ने भी भारत में हिंसा को जन्म दिया था और लाल किले पर खालिस्तानी झंडा भी फहराया था।

जिस राह पर कनाडा और वहां के खालिस्तानी आतंकवादी चल रहे हैं ऐसी स्थिति में भारत सरकार को कनाडा में पनप रहे “ब्रेक इंडिया" खालिस्तान गुटों के खिलाफ गंभीर संज्ञान लेना होगा। क्योंकि खालिस्तान आतंकवादी भारतीय कनाडियन जो भारत का समर्थन करते हैं, उन्हें और उनके परिवारों को खतरा पहुंचा रहे हैं। उनके अंदर एक डर का माहौल पैदा कर रहे हैं। उस रैली का एक हिस्सा रहे एक भारतीय कनाडाई ने कहा कि “कनाडा में रहने के 20 वर्षों में, मैं अपनी सुरक्षा को लेकर इतना भयभीत कभी नहीं हुआ।"

जब तक भारतीय सेना, पाकिस्तान (Pakistan) जो खालिस्तान को समर्थन दे रहा है। उनके लिए एक मास्टर माइंड और न्यूक्लियस बना हुआ है तब तक ये भारत विरोधी ताकतें विदेशी धरती पर पनपती और फलती – फूलती रहेंगी।

न्यूज़ग्राम के साथ Facebook, Twitter और Instagram पर भी जुड़ें!

Popular

झांसी की रानी लक्ष्मीबाई, एक श्रेष्ठ वीरांगना को यह देश कोटी – कोटी नमन करता है। (Wikimedia Commons)

भारतीय मध्ययुगीन इतिहास जहां अनेक वीर पुरुषों के वीरतापूर्ण कार्यों से भरा पड़ा है। वहीं स्त्री जाति के वीरतापूर्ण कार्यकलापों से यह अक्सर अछूता रहा है। सर्वत्र नारी को दयनीय, लाचार और मानसिक रूप से दास प्रवृति को ही दिखाया गया है। उस काल में यह गौरव से कम नहीं की रानी लक्ष्मीबाई ने भारतीय नारियों की इस दासतापूर्ण मानसिकता को ध्वस्त कर दिखाया था। इसलिए आज भी रानी लक्ष्मीबाई का नाम गर्व से लिया जाता है। एक ऐसी महिला स्वतंत्रता सेनानी जिन्होंने अंग्रजों से लोहा लिया था| आज उनके द्वारा किए गए संघर्ष सभी भारतीयों के हृदय में एक नवीन उत्साह का संचार कर देता है।

आइए आज उनके द्वारा देश की आन-बान-शान को बचाने के लिए किए गए संघर्ष को याद करें। उस युद्ध की बात करें जब उनकी तलवार ने अंग्रेजों के छक्के छुड़ा दिए थे और अंग्रजों के रक्त से अपने अस्तित्व को पूरा किया था।

Keep Reading Show less

चंदा बंद सत्याग्रह जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। (File Photo)

सत्याग्रह का सामन्य अर्थ होता है "सत्य का आग्रह।" सर्वप्रथम इसका प्रयोग महात्मा गांधी द्वारा किया गया था। उन्होंने भारत में कई आंदोलन चलाए, जिनमें चंपारण, बारदोली, खेड़ा सत्याग्रह आदि प्रमुख। हैं। सत्याग्रह स्वराज प्राप्त करने और सामाजिक संघर्षों को मिटाने का एक नैतिक और राजनीतिक अस्त्र है। आज हम ऐसे ही एक सत्याग्रह की बात करेंगे जिसे गांधी जी से प्रेणा लेकर शुरू किया गया था।

"चंदा बंद सत्याग्रह" जिसे No List No Donation के नाम से भी जाना जाता है। यह आम आदमी पार्टी के विरुद्ध एक अमरीकी डॉक्टर वह NRI सेल के सह-संयोजक डॉ. मुनीश रायजादा द्वारा साल 2016 में शुरू किया गया था। डॉ. मुनीश जब आम आदमी पार्टी से जुड़े थे, तब उन्हें पार्टी के NRI सेल का सह-संयोजक नियुक्त किया गया था।

Keep Reading Show less

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया।

मोपला हिंदु नरसंहार या मालाबार विद्रोह 100 साल पहले 20 अगस्त 1921 को शुरू हुई एक ऐसी घटना थी, जिसमें निर्दयतापूर्वक सैकड़ों हिन्दू महिला, पुरुष और बच्चों की हत्या कर दी गई थी। महिलाओं का बलात्कार किया गया था। बड़े पैमाने पर हिन्दुओं को जबरन इस्लाम धर्म में परिवर्तित करा दिया गया था।

आपको बता दें कि मालाबार (केरल में स्थित है) हिन्दू नरसंहार को इतिहास से पूरी तरह मिटा दिया गया। आज हम मोपला हिन्दू नरसंहार, 1921 में हिन्दुओं के साथ हुई उसी दर्दनाक घटना की बात करेंगे। आपको बताएंगे की कैसे मोपला हिन्दू नरसंहार (Mopla Hindu Genocide) के खलनायकों को अंग्रेजों से लोहा लेने वाले नायकों के रूप में चिन्हित कर दिया गया।

Keep reading... Show less