Sunday, May 16, 2021
Home दुनिया क्या बुर्के पर प्रतिबंध लगाना जरूरी ?

क्या बुर्के पर प्रतिबंध लगाना जरूरी ?

यूरोप (Europe) के कई देशों ने, महिलाओं के बुर्का पहनने पर पाबंदी लगा दी है। बताया जा रहा है कि, यह प्रतिबंध सुरक्षा कारणों की वजह से लगाया जा रहा है।

 By : Swati Mishra

यूरोप (Europe) के कई देशों ने , महिलाओं के बुर्का (Burqa) पहनने पर पाबंदी लगा दी है। बताया जा रहा है कि , यह प्रतिबंध सुरक्षा (Saftey) कारणों की वजह से लगाया जा रहा है। बुर्का बैन (Burqa Ban) कुछ वक्त पहले तक केवल दक्षिणपंथी लोगों में देखने को मिल रहा था लेकिन अब यह वैश्विक स्तर पर भी नज़र आने लगा है।

सबसे पहले यूरोपीय देशों में , फ्रांस (France) ने मुस्लिम (Muslim) महिलाओं के बुर्का (Burqa) पहनने पर न केवल प्रतिबंध लगाया बल्कि नियम को ना मानने वालों पर जुर्माने का भी प्रबंध किया है। इसी अंतराल में ‘बेल्जियम’ (Belgium) सरकार ने भी 2011 में मुस्लिम (Muslim) महिलाओं के बुर्का पहनने पर रोक लगा दी है। इसके तहत उन्होंने सख्त कानून भी बनाए जिसमें बुर्का (Burqa) पहनने पर 7 दिन की जेल या 1300 यूरो तक का प्रावधान किया गया है। इसकी तरह अन्य देशों ने भी जिनमें ‘डेनमार्क’ (Denmark) में भी बुर्के और नकाब को लेकर , सार्वजनिक क्षेत्रों पर बैन लगा दिया गया है। ‘हॉलैंड’ (Holand) में भी 2015 में बुर्के (Burqa) पर बैन लगाया गया लेकिन वहां ये नियम कुछ ही जगहों पर लागू होते हैं। ‘स्विट्जरलैंड’ (Switzerland) में 2016 में बुर्के पर प्रतिबंध लगाया गया, जिसमें नियमों का उल्लघंन करने वालों पर 9200 यूरो तक का जुर्माना लगाया जाता है। ‘जर्मनी’ (Germany) में 2017 से बुर्के (Burqa) और नकाब जैसे चीज़ों पर रोक लगा दी गई है लेकिन वहां सरकारी नौकरी और सेना पर यह नियम लागू नहीं होते हैं। ‘स्पेन’ (Spain) के कुछ क्षेत्रों में बुर्के (Burqa) पर पाबंदी है। अब भी कई राज्यों में बुर्के बैन को लेकर मांगे उठ रही हैं, लेकिन वहां की सुप्रीम कोर्ट का कहना है कि यह , धार्मिक आज़ादी का उल्लंघन है। ‘तुर्की’ (Turkey) जो एक मुस्लिम बहुल आबादी वाला देश है , वहां 2013 में सरकारी संस्थानों में बुर्का पहनने पर प्रतिबंध था लेकिन अब ऐसा वहां नहीं है लेकिन कुछ क्षेत्रों जैसे , अदालत , सेना और पुलिस में बुर्का पहन कर जाने की अनुमति नहीं है।

अब इस बुर्के बैन (Burqa Ban) की श्रृंखला में श्रीलंका (Sri lanka) भी शामिल हो चला है। 2019 में श्रीलंका (Sri lanka) में चर्च और होटलों में हुए हमलों में कई लोगों की मौत हो गई थी जिसके बाद से इस मुद्दे ने तेज़ी पकड़ ली है। श्रीलंका (Sri lanka) की सरकार ने कहा की , शुरुआती दिनों में महिलाएं यहां बुर्का नहीं पहना करती थी। यह एक धार्मिक अतिवाद का प्रतीक है। जिसे बंद करना अतिआवश्यक है। सरकार ने कहा की , यह फैसला राष्ट्रिय सुरक्षा (National Security) को ध्यान में रखकर लिया गया है। इसके अलावा श्रीलंका सरकार ने , कई हजार इस्लामिक (Islamic) स्कूलों को भी बंद करवा दिया है। 

मुस्लिम समाज में महिलाएं बुर्का (Burqa) पहनकर रखती हैं। (Pixabay)

श्रीलंका (Sri lanka) में हुए, बुर्का बैन (Burqa Ban) के बाद भारतीय सियासत में भी यह मुद्दा गरमाने लगा है। इसी ओर सबसे पहले यह मुद्दा शिवसेना (Shivsena) द्वार उठाया गया। शिवसेना (Shivsena) ने श्रीलंका में हुए बुर्का बैन के बाद , भारत (India) में भी ऐसी पाबंदी की मांग की है। शिवसेना ने एक संपादकीय के जरिए प्रधानमंत्री ‘नरेंद्र मोदी’ (Narendra modi) से प्रश्न किया है कि , रावण (Raavan) की लंका में हुआ , राम (Ram) की अयोध्या (Ayodhya) में कब होगा। उन्होनें कहा , श्रीलंका में हुए आतंकी हमले के बाद , वहां की सरकार ने बुर्का पहनने पर प्रतिबंध लगा दिया है। भारत में कब स्थाई रूप से प्रतिबंध लगाया जाएगा। उन्होनें यह भी कहा कि , अधिकतर मुस्लिम महिलाएं भी इस बुर्के के खिलाफ होती हैं। हिन्दू सेना (Hindu Sena) के राष्ट्रिय अध्यक्ष विष्णु गुप्ता (Vishnu Gupta) ने भी कहा कि , श्रीलंका में हुए आतंकवादी हमले के बाद भारत में इस तरह के हमलों को रोकने के लिए, कुछ अहम और कारगर नियम बनाने होंगे। उन्होनें मांग की , कि सभी बुर्कों और नकाब सहित पूरा चेहरा ढकने वाली चीजों पर प्रतिबंध लगाना आवश्यक है।

दुनिया में ऐसे कई धर्म हैं, जो अपने – अपने पहनावे के कारण जाने जाते हैं। जिनमें से इस्लाम धर्म (Islam Dharma) की बात की जाए तो , मुस्लिम समाज में महिलाएं बुर्का (Burqa) पहनकर रखती हैं। ऐसी मान्यताएं हैं कि, मुस्लिम धर्म ग्रंथ ” कुरान शरीफ” (Quran Sharif) में बताया गया है कि , महिलाओं को बुर्का पहनना जरूरी है। कहा गया है कि, अल्लाह का कहना है कि , अपने पति के अलावा किसी भी पराए मर्द को अपना चेहरा नहीं दिखना चाहिए। मुस्लिम महिलाओं को ऐसा लिबास पहनना चाहिए , जिससे उनका चेहरा , पैर और आंख के अतिरिक्त शरीर का अन्य हिस्सा ढका रहे। इसलिए बुर्का (Burqa) पहनना या ना पहनना किसी भी मुस्लिम महिला का व्यक्तिगत मुद्दा है। इस मुद्दे को देश से जोड़ कर , किसी भी पार्टी को इसे राजनीतिक मुद्दा नहीं बनाना चाहिए। 

यह भी पढ़े :- तीन तलाक को खत्म करने के लिए निकाहनामा कारगर हथियार बन रहा है।

हमारा देश एक धर्मनिरपेक्ष (Secularism) देश है। जहां सभी धर्मों को समान माना गया है। संविधान में ऐसा कोई नियम या कानून नहीं है जो किसी भी धर्म के नियमों और आस्था को चोट पहुंचता हो। देश का लोकतंत्र उसकी सुरक्षा सर्वोपरी होनी आवश्यक है , लेकिन देश में अलग – अलग धर्मों से जुड़ी जनता और उनके धर्मों से जुड़े नियमों को दरकिनार नहीं किया जाना चाहिए। हमारे देश की असुरक्षा का ज़िम्मेदार एक बुर्का कभी भी नहीं हो सकता। कोई भी नियम जो किसी धर्म के मुद्दे को खड़ा करता हो , उसमें उस धर्म से जुड़े लोगों की राय अवश्य होनी चाहिए। ताकि कोई भी नियम या मुद्दा देश में आंतरिक अशांति का कारण कभी भी ना बन पाए।

POST AUTHOR

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी