Never miss a story

Get subscribed to our newsletter


×
ओपिनियन

क्या मशहूर बॉलीवुड संगीतकार वाजिद खान की पत्नी कमलरुख खान इस्लाम विरोधी हैं ?

कमलरुख खान - "मैं वास्तव में चाहती हूँ कि धर्मांतरण विरोधी कानून का राष्ट्रीयकरण हो, तभी जा कर मेरे जैसी अंतरजातीय विवाह में धर्म के जहरीलेपन से लड़ रही महिलाओं के लिए संघर्ष कम होगा।"

दिवंगत संगीतकार वाजिद अली खान और उनका परिवार। (Facebook)

दिवंगत संगीतकार वाजिद अली खान की पत्नी कमलरुख खान ने 27 नवंबर को ट्विटर पर एक पोस्ट डाला था। जिसमें उन्होंने अपने ससुराल वालों की तरफ से धर्म परिवर्तन के लिए दिए जा रहे मानसिक तनाव के बारे में पहली बार चुप्पी तोड़ी। जिसके बाद यह मामला सुर्खियों में आ गया। लोगों की अलग अलग प्रतिक्रियाएं आने लगीं। कुछ लोग उनके इस पोस्ट को इस्लाम धर्म से जोड़ने लगे। क्या सच में कमलरुख खान का यह पोस्ट इस्लाम विरोधी है ? इस सवाल पर जाने से पहले मैं इस लेख की तख़्त पर कुछ और सवाल अंकित करना चाहूंगा।

क्या पढ़ी लिखी स्वतंत्र सोच वाली महिला को हमारा समाज स्वीकार नहीं कर सकता? क्या एक माँ की ममता भी किसी धर्म की मोहताज है? क्या एक पत्नी का प्रेम किसी धर्म का सिपाही है?


कुछ ऐसे ही सवाल निकल कर आएंगे जब आप दिवंगत संगीतकार वाजिद अली खान की पत्नी कमलरुख खान पर हो रहे अधर्म के बारे में जानेंगे। इस अधर्म को धर्म की आड़ में किया जा रहा है। कमलरुख खान ने सोशल मीडिया का सहारा लेते हुए कहा है कि –

“मैं वास्तव में चाहती हूँ कि धर्मांतरण विरोधी कानून (Anti-conversion law) का राष्ट्रीयकरण हो, तभी जा कर मेरे जैसी अंतरजातीय विवाह (Inter-caste Marriage) में धर्म के जहरीलेपन से लड़ रही महिलाओं के लिए संघर्ष कम होगा।”

यह भी पढ़ें – हनुमान भक्त हैं या भगवान और क्या उन्हें मंकी गॉड कहना उचित है ?

कहने को तो यह पहली महिला नहीं जिन पर इस तरह धर्म परिवर्तन के लिए ज़ोर दिया जा रहा है और ना ही अंतिम होंगीं।

ना जाने कितने इस अत्याचार को खामोशी के लिबास में ढक कर बैठे होंगे, पर जिन्होंने अपनी बात रखने की हिम्मत दिखाई है, क्यों ना उन्हीं की वेदना को समझते हुए धर्म जाल से गुज़रा जाए।

सोशल मीडिया पर पोस्ट डाल कर अपनी सालों की चुप्पी तोड़ने के बाद कमलरुख खान ने टाइम्स ऑफ इंडिया (Times of India) द्वारा लिए गए साक्षात्कार में अपनी शादी के भयावह 17 सालों पर रौशनी डाली। उनका कहना है कि अपने बच्चों की खातिर उन्होंने आज बोलने की ज़रूरत महसूस की है।

“वाजिद और मैं कॉलेज स्वीटहार्ट थे”

कमलरुख खान ने बताया कि वाजिद खान से उनकी मुलाक़ात कॉलेज के दिनों में हुई थी। शादी से पहले यह दोनों 10 सालों तक रिलेशनशिप में रहे। वाजिद खान उस समय बप्पी दा के साथ काम किया करते थे। म्यूजिक शो के लिए उन्हें कई बार देश से बाहर जाना पड़ता था। इस बीच वाजिद खान और कमलरुख खान के बीच खतों के ज़रिये बातें हुआ करती थीं।

जब यह दोनों प्रेमी शादी के लिए राज़ी हुए तो इनके सामने इनका धर्म आकर खड़ा हो गया। वाजिद खान का परिवार चाहता था कि कमलरुख अपने पारसी धर्म को छोड़ कर इस्लाम कबूल लें। यह धर्म परिवर्तन कमलरुख को मंज़ूर नहीं था। कुछ महीनो चिंतन करने के बाद, यह दोनों स्पेशल मैरिज एक्ट (Special Marriages Act) के तहत शादी के बन्धन में बंध गए। कमलरुख के परिवार वालों ने दूसरे धर्म में शादी करने के उनके फैसले पर नाराज़गी ज़रूर जताई पर बाद में उन्होंने ही दोनों धर्मों का सम्मान करते हुए, शादी को पारसी और इस्लामिक तरीके से पूरा करने की सलाह भी दी। इस सलाह पर वाजिद खान के परिवार वाले राज़ी नहीं हुए। इसके बावजूद वाजिद खान को कमलरुख खान के धर्म से कोई आपत्ति नहीं थी। इसलिए इनका प्रेम, इनके धर्म पर हावी रहा।

दिवंगत संगीतकार वाजिद अली खान और उनकी पत्नी कमलरुख खान। (Facebook)

“उनके लिए स्पेशल मैरिज एक्ट का कोई मतलब नहीं था”

शादी के शुरूआती कुछ महीने तो अच्छे गुज़रे पर कुछ समय बाद वाजिद के परिवार, विशेषकर उनकी माँ ने कमलरुख पर धर्म परिवर्तन के लिए अप्रत्यक्ष रूप से दबाव डालना शुरू कर दिया। इस बात को आगे बढ़ाते हुए कमलरुख ने कहा कि, “वाजिद का परिवार इस बात पर जोर देता रहा कि हमारे बच्चे नाजायज हैं क्योंकि हमारी शादी मुस्लिम कानून के अनुसार नहीं हुई। उनके लिए स्पेशल मैरिज एक्ट का कोई मतलब नहीं था।”

कमलरुख के अनुसार वाजिद की माँ और उनके परिवार वाले सदा ही उनसे बुरा व्यवहार रखते थे। बच्चों के पैदा होने के बाद यह व्यवहार कमलरुख के लिए और तकलीफ़देह होता गया। धर्म परिवर्तन के लिए अलग अलग तरीकों से ज़ोर दिया जाने लगा। वाजिद की माँ ने कई बार उन्हें अपनी पत्नी कमलरुख को समझाने को कहा ताकि कमलरुख अपना पारसी धर्म त्याग दें। नतीजा यह हुआ कि समय के साथ वाजिद और कमलरुख के बीच दूरियां बढ़ने लगीं। लड़ाई इतनी बढ़ गयी कि वाजिद खान अपनी पत्नी को छोड़ कर घर से बाहर निकल गए। उस समय उनकी बेटी अर्शी लगभग 2.5 – 3 साल की थी। वो सालों बाद लौट कर आए। फिर उनका एक बेटा भी हुआ। पर यह घर छोड़ने और आने का सिलसिला 2014 तक चलता रहा। इसी के बाद अपनी माँ के दबाव में आकर उन्होंने तलाक के लिए अर्जी डाल दी।

अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिए – Kamalrukh Wife Of Late Wajid Khan Appeals For Anti-Conversion Bill To Be Applied In Nation

“जब उन्होंने अदालत में तलाक के लिए अर्जी दी, तो मैं बहुत निराश हुई। हालाँकि, अपने बच्चों की खातिर मैं उनके साथ बेहद मैत्रीपूर्ण संबंध रखने का प्रयास करती रही।” – कमलरुख ने कहा।

कमलरुख का कहना है कि वाजिद खान को उनके धर्म से कोई समस्या नहीं थी। मात्र अपनी माँ के दबाव में आने की वजह से ही वो एक पति और पिता धर्म के पथ से भटक गए थे।

कमलरुख ने सोशल मीडिया पर डाले अपने पोस्ट में कहा है कि धर्म विभिन्नताओं का जश्न होना चाहिए ना की किसी परिवार के अलग होने का कारण। हर धर्म परमात्मा की ओर एक रास्ता है। जियो और जीने दो; इस धर्म का हम सभी को अभ्यास करना चाहिए।

कमलरुख खान ने 27 नवंबर को ट्विटर पर पोस्ट डाल कर अपनी बात कही, उसके बाद उन्होंने यही पोस्ट इंस्टाग्राम पर भी डाला।

जैसे ही यह बात सोशल मीडिया की नज़र में आई, लोगों ने इस संदर्भ में अपनी प्रतिक्रियाएँ दीं। कुछ लोगों ने कमलरुख की हिम्मत को सराहा, कुछ ने धर्म परिवर्तन की दिशा में अपने अनुभव भी साझा किए, कुछ लोगों ने इसे Inter-Faith marriage घोषित किया। मगर एक चीज़ जो निकल कर आती है कि, कुछ लोग कमलरुख खान के इस पोस्ट को मानवता से परे कर इस्लाम विरोधी प्रतिक्रिया दे रहे हैं। कमलरुख ने कमेंट सेक्शन में कई बार इस ओर अपना स्प्ष्टीकरण देते हुए कहा कि –

“मैं अपने पोस्ट को इस्लाम विरोधी या और किसी भी धर्म के विरोध में रखना नहीं चाहती। कृपया मेरे पोस्ट की पवित्रता को बनाए रखें। अन्य धर्मों में भी जबरन धर्म परिवर्तन होते हैं। और इसे रोकने की जरूरत है।”

इन स्क्रीनशॉट्स में कमलरुख खान द्वारा लिखी बात से यह तो स्पष्ट है कि उनका यह पोस्ट इस्लाम विरोधी नहीं है और ना ही उनके दिल में इस्लाम को लेकर कोई द्वेष है।

मूलतः समझें तो धर्म और प्रेम इंसान का व्यक्तिगत मामला है। इसमें किसी दूसरे का हस्तक्षेप अमानवीय है।

Popular

प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन (wikimedia commons)

हमारे देश में लव जिहाद के जब मामले आते है , तब इस मुद्दे पर चर्चा जोर पकड़ती है और देश कई नेता और जनता अपनी-अपनी राय को वयक्त करते है । एसे में एक प्रमुख हिंदू नेता और श्री नारायण धर्म परिपालन योगम के महासचिव वेल्लापल्ली नतेसन ने सोमवार को एक बयान दिया जिसमें उन्होनें कहा कि यह मुस्लिम समुदाय नहीं बल्कि ईसाई हैं जो देश में धर्मांतरण और लव जिहाद में सबसे आगे हैं।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एनडीए के सहयोगी और भारत धर्म जन सेना के संरक्षक वेल्लापल्ली नतेसन नें एक कैथोलिक पादरी द्वारा लगाए गए आरोपों पर प्रतिक्रिया दी , जिसमे कहा गया था हिंदू पुरुषों द्वारा ईसाई धर्म महिलाओं को लालच दिया जा रहा है। नतेसन नें पाला बिशप जोसेफ कल्लारंगट की एक टिप्पणी जो कि विवादास्पद "लव जिहाद" और "मादक जिहाद" की भी जमकर आलोचना की और यह कहा कि इस मुद्दे पर "मुस्लिम समुदाय को निशाना बनाना सही नहीं है"।

Keep Reading Show less

महंत नरेंद्र गिरि (Wikimedia Commons)

अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की सोमवार को संदिग्ध हालात में मौत हो गई। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि को बाघंबरी मठ स्थित उनके आवास पर श्रद्धांजलि दी। मुख्यमंत्री ने कहा कि दोषियों को जांच के बाद सजा दी जाएगी। उन्होंने कहा ''यह एक दुखद घटना है और इसी लिए अपने संत समाज की तरफ से, प्रदेश सरकार की ओर से उनके प्रति श्रद्धांजलि व्यक्त करने के लिए में स्वयं यहाँ उपस्थित हुआ हूँ। अखाड़ा परिषद और संत समाज की उन्होंने सेवा की है। नरेंद्र गिरि प्रयागराज के विकास को लेकर तत्पर रहते थे। साधु समाज, मठ-मंदिर की समस्याओं को लेकर उनका सहयोग प्राप्त होता था। उनके संकल्पों को पूरा करने की शक्ति उनके अनुयायियों को मिले''

योगी आदित्यनाथ ने कहा '' कुंभ के सफल आयोजन में नरेंद्र गिरि का बड़ा योगदान था। एक-एक घटना के पर्दाफाश होगा और दोषी अवश्य सजा पाएगा। मेरी अपील है सभी लोगों से की इस समय अनावश्यक बयानबाजी से बचे। जांच एजेंसी को निष्पक्ष रूप से कार्यक्रम को आगे बढ़ाने दे। और जो भी इसके लिए जिम्मेदार होगा उसको कानून की तहत कड़ी से कड़ी सजा भी दिलवाई जाएगी।

Keep Reading Show less

By: कम्मी ठाकुर, स्वतंत्र पत्रकार एवं स्तम्भकार, हरियाणा

केजरीवाल सरकार की झूठ, फरेब, धूर्तता और भ्रष्टाचार की पोल खोलता 'बोल रे दिल्ली बोल' गीतरुपी शब्दभेदी बाण एकदम सटीक निशाने पर लगा है। सुभाष, आजाद, भगतसिंह जैसे आजादी के अमर शहीद क्रांतिकारियों के नाम व चेहरों को सामने रखकर जनता को बेवकूफ बना सुशासन ईमानदारी और पारदर्शिता का सब्जबाग दिखाकर सत्ता पर काबिज हुए अरविंद केजरीवाल की आम आदमी पार्टी सरकार आज पूरी तरह से मुस्लिम तुष्टिकरण, भ्रष्टाचार, कुशासन एवं कुव्यवस्था के दल-दल में धंस चुकी है। आज केजरीवाल का चाल, चरित्र और चेहरा पूरी तरह से बेनकाब हो चुका है। दिल्ली में कोविड-19 के दौरान डॉक्टरों सहित सैकड़ों विभिन्न धर्म-संप्रदाय के मेडिकल स्टाफ के लोगों ने बतौर कोरोना योद्धा अपनी जाने गंवाई थी। लेकिन उन सब में केजरीवाल के चश्मे में केवल मुस्लिम डॉक्टर ही नजर आया, जिसके परिजनों को 'आप सरकार' ने एक करोड़ की धनराशि का चेक भेंट किया। किंतु बाकी किसी को नहीं बतौर मुख्यमंत्री यह मुस्लिम तुष्टिकरण, असंगति, पक्षपात आखिर क्यों ?

Keep reading... Show less