Sunday, June 13, 2021
Home देश क्या NCERT बच्चों को गलत पाठ पढ़ा रहे हैं?

क्या NCERT बच्चों को गलत पाठ पढ़ा रहे हैं?

देश के अधिकांश विद्यालयों में एनसीईआरटी की पुस्तकों से बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। किन्तु एनसीईआरटी के कई पाठ्यक्रमों पर सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं।

देश के अधिकांश विद्यालयों में एनसीईआरटी की पुस्तकों से बच्चों को शिक्षा दी जा रही है। किन्तु एनसीईआरटी के कई पाठ्यक्रमों पर सवालिया-निशान खड़े हो रहे हैं। यह मामला नया नहीं है जब एनसीईआरटी की पुस्तकों में भारतीय इतिहास पर आपत्ति जताई गई हो। यह मामला इसलिए भी संवेदनशील है क्योंकि उन इतिहास की पुस्तकों में भारतीय राजाओं को दरकिनार कर मुगलिया बखान किया गया है और देश के बच्चों को अपने स्वर्णिम इतिहास से वंचित रखा गया है।

यह इस वजह से सवाल के कटघरे में है क्योंकि छत्रपति शिवाजी महाराज और महाराणा प्रताप का इतिहास एनसीईआरटी की पुस्तकों में चार पंक्तियों में समेट दिया गया और मुगलों की पुश्तों का बखान सम्पूर्ण पाठ के रूप में किया गया है। साथ ही पुस्तक में बाबर से लेकर औरंगजेब की बड़ी तस्वीरें मौजूद हैं किन्तु भारत के प्रतापी राजाओं का एक चित्र भी देखने को नहीं मिलता है।

chatrapati shivaji maharaj NCERT History
छत्रपति शिवाजी महाराज।(Wikimedia Commons)

बच्चों की पुस्तकों में यह तक दिया गया है कि मुगलों द्वारा हिन्दू मंदिर तोड़ने के पीछे क्या कारण था, और इसके साथ ही मुगलों द्वारा हिन्दुओं पर किए गए अत्याचार को छुपाने की कोशिश की जा रही है। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि भारतीय हिन्दू राजाओं के इतिहास को एनसीईआरटी में कुछ पन्नों में समेट दिया गया किन्तु मुगलिया बखान को 70 से अधिक पन्नों में बताया गया है। साथ ही जब छत्रपति शिवाजी महाराज ने मुगलों के साथ लड़ाई लड़ी और एक अलग ‘हिंदवी स्वराज्य’ की स्थापना की उसे इस पाठ्यपुस्तक में सिर्फ ‘स्थानीय सरकार’ के रूप में लिखा गया।

एनसीईआरटी के पुस्तक में ही ‘दलित’ शब्द का प्रयोग कई बार किया गया है, जब की केंद्रीय अनुसूचित जाति और जनजाति आयोग ने इसके प्रयोग पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। ऐसी ही कई उदाहरण हैं जिससे यह सपष्ट होता है कि, कैसे एनसीईआरटी बच्चों को गलत इतिहास पढ़ा रहा है। जैसे, पुस्तक में उल्लेख किया गया है कि अन्य धर्मों (मुसलमानों और ईसाइयों) का पालन करने वाले लोगों ने हिंदुओं के कारण स्वतंत्रता संग्राम में भाग नहीं लिया, जो कि सरासर गलत है। साथ ही वर्ष 2017 में गुजरात में 2002 में हुए दंगों को ‘गुजरात में मुस्लिम विरोधी दंगों’ वाले शीर्षक को हटाकर ‘गुजरात दंगा’ रखा गया। इस वजह से ही एनसीईआरटी के इतिहासकारों की मंशा पर सवाल उठते रहे हैं।

यह भी पढ़ें: इस्लाम के जन्मस्थान से गूंजेगी राम नाम के सुर

एक रिपोर्ट के अनुसार कक्षा छठीं से लेकर सातवीं कक्षा तक कुल 582 पन्नों में से केवल 50 पन्नों में ही हिन्दुओं के विषय में बताया गया है और बाकि सब में मुगल या अंग्रेज। देश में समय-समय पर इस विषय पर आवाज उठाई गई है। किन्तु संज्ञान कुछ पर ही लिया गया। अब जरूरत यह है कि भारतीय इतिहास को बच्चों के समक्ष विस्तारपूर्वक रखा जाए अन्यथा नींव कमजोर रहेगी तो देश के खिलाफ और भी टूलकिट बनना तय है।

POST AUTHOR

Shantanoo Mishra
Poet, Writer, Hindi Sahitya Lover, Story Teller

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी