Saturday, June 12, 2021
Home देश जम्मू-कश्मीर में कुछ बड़ा करने की योजना बना रहा है केंद्र?

जम्मू-कश्मीर में कुछ बड़ा करने की योजना बना रहा है केंद्र?

नई दिल्ली की ओर से जम्मू-कश्मीर में कुछ बड़ा करने की योजना बनाने की सुगबुगाहट के बीच, सूत्रों ने बताया कि केंद्र सरकार का ध्यान दो महत्वपूर्ण मुद्दों पर है।

नई दिल्ली की ओर से जम्मू-कश्मीर (Jammu and Kashmir) में कुछ बड़ा करने की योजना बनाने की सुगबुगाहट के बीच, शीर्ष सूत्रों ने बुधवार को आईएएनएस को बताया कि केंद्र सरकार का ध्यान दो महत्वपूर्ण मुद्दों पर है।

यह दो महत्वपूर्ण मुद्दे हैं : क्या निलंबित अमरनाथ यात्रा को फिर से शुरू किया जा सकता है और साल के अंत से पहले विधानसभा चुनाव हो सकते हैं या नहीं।

सूत्रों की मानें तो बहुत कुछ कोविड-19 (Covid-19) की स्थिति पर निर्भर करता है, जिसमें पिछले एक सप्ताह के दौरान लगातार सुधार दिख रहा है। नई दिल्ली के एक शीर्ष सूत्र ने आईएएनएस को बताया, अगर स्थिति सही रहती है तो यह साल खत्म होने से पहले विधानसभा चुनाव कराए जा सकते हैं।

यह पूछे जाने पर कि क्या ये चुनाव तब तक हो सकते हैं, जब तक परिसीमन आयोग अपना काम पूरा नहीं कर लेता, इस पर सूत्र ने कहा, आपको क्यों लगता है कि परिसीमन आयोग इस साल अपना काम पूरा नहीं कर सकता है? सूत्र ने कहा, आयोग ने विभिन्न जिला विकास आयुक्तों से डेटा और जनसंख्या विभाजन आदि एकत्र करने की अपनी जमीनी स्तर की प्रक्रिया शुरू कर दी है।

सूत्र ने कहा, सांख्यिकीय बैक-अप तैयार होने के बाद, आयोग नए विधानसभा क्षेत्रों के परिसीमन के अपने अंतिम कर्तव्य को मार्गदर्शक सिद्धांत के आधार पर शुरू करेगा ताकि दोनों क्षेत्रों एवं विभिन्न जातियों, जनजातियों और समुदायों को एक समान चीजें मिल सके।

जमीनी घटनाक्रम यह भी संकेत देते हैं कि विभिन्न राजनीतिक दल भी अब निष्क्रियता (हाइबरनेशन) से बाहर आने लगे हैं। नेशनल कॉन्फ्रेंस (नेकां), पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (पीडीपी), पीपुल्स कॉन्फ्रेंस (पीसी), अपनी पार्टी और अन्य दलों के नेताओं ने अपने जमीनी स्तर के कैडर को सक्रिय करना शुरू कर दिया है।

Central Government
जम्मू-कश्मीर को लेकर केंद्र सरकार का ध्यान दो महत्वपूर्ण मुद्दों पर है। (Wikimedia Commons)

नेकां संरक्षक और पूर्व मुख्यमंत्री फारूक अब्दुल्ला बुधवार को पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती से मिलने वाले हैं। इन दोनों दलों के सूत्रों का कहना है कि बैठक में इन दलों के नए परिसीमन और कुछ जनजातियों, नस्लों और समुदायों के प्रतिनिधित्व में वृद्धि पर अपना दृष्टिकोण रखने के लिए परिसीमन आयोग की बैठकों में भाग लेने पर निर्णय लेने की संभावना है।

सूत्रों ने कहा कि नेकां संरक्षक क्षेत्रीय दलों के लिए परिसीमन विचार-विमर्श में भाग लेने के महत्व को रेखांकित कर रहे हैं। परिसीमन आयोग का विस्तारित कार्यकाल मार्च 2022 में समाप्त हो रहा है, लेकिन आयोग के कामकाज से जुड़े लोगों का सुझाव है कि यह अपने विस्तारित कार्यकाल की समाप्ति से पहले अपनी अंतिम रिपोर्ट देगा।

गुर्जर, बकरवाल जैसे आदिवासी, पहाड़ी, डोगरा जैसी जातियों और कश्मीरी पंडितों जैसे समुदायों को उम्मीद है कि परिसीमन आयोग जम्मू-कश्मीर विधानसभा में उनके कम प्रतिनिधित्व को समाप्त कर देगा। जम्मू-कश्मीर में वर्तमान राजनीतिक परि²श्य को देखते हुए यह मान लेना तर्कसंगत है कि कोई भी राजनीतिक दल चुनावी प्रक्रिया से बाहर रहना नहीं चाहेगा। नेकां के एक वरिष्ठ नेता ने नाम जाहिर न करने का अनुरोध करते हुए कहा, बाहर का मतलब राजनीति से बाहर होगा।

यह भी पढ़ें :- जम्मू-कश्मीर के विभाजन को लेकर चल रही सुगबुगाहट पर बौखलाया पाकिस्तान

दूसरी प्राथमिकता पर बात की जाए तो निलंबित अमरनाथ यात्रा की बहाली को लेकर भी फैसला लिया जा सकता है। अधिकारियों की राय है कि हजारों तीर्थयात्रियों के साथ सामान्य यात्रा संभव नहीं हो सकती है, फिर भी अमरनाथ यात्रा सभी धार्मिक औपचारिकताओं के साथ और इस वर्ष न्यूनतम भागीदारी के साथ आयोजित की जानी चाहिए।

इस बीच एक और बड़े बदलाव की सुगबुगाहट तेज है कि जम्मू-कश्मीर को भी दो हिस्सों में बांट दिया जाएगा। जम्मू को एक अलग राज्य या केंद्र शासित प्रदेश का दर्जे दिए जाने के कयास लगाए जा रहे हैं। (आईएएनएस-SM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी