Saturday, June 12, 2021
Home दुनिया क्या वैक्सीन कोरोनावायरस के प्रकार-भेद के लिए उपयोगी है?

क्या वैक्सीन कोरोनावायरस के प्रकार-भेद के लिए उपयोगी है?

ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में कोरोनावायरस के 20 से अधिक प्रकार-भेद मिले हैं। संख्या ज्यादा होने की वजह से वैज्ञानिक समुदाय की सतर्कता बढ़ी है। अब इजराइल, मलेशिया और चीन के हांगकांग में ब्रिटेन से आये प्रकार-भेद मिले हैं।

ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका में कोरोनावायरस के 20 से अधिक प्रकार-भेद मिले हैं। संख्या ज्यादा होने की वजह से वैज्ञानिक समुदाय की सतर्कता बढ़ी है। अब इजराइल, मलेशिया और चीन के हांगकांग में ब्रिटेन से आये प्रकार-भेद मिले हैं। अफ्रीकी रोग रोकथाम केंद्र ने कहा कि नाइजीरिया में संभवत: ब्रिटेन और दक्षिण अफ्रीका से अलग प्रकार-भेद मिला है। गंभीर स्थिति के मद्देनजर स्विट्जरलैंड, मैक्सिको, जर्मनी, इटली आदि देशों ने बड़े पैमाने पर वैक्सीन लगाने की योजना बनायी है। क्या वर्तमान कोरोना वैक्सीन प्रकार-भेद की रोकथाम कर सकते हैं, इसपर लोगों का ध्यान केंद्रित है।

सिंगापुर के न्यूज एशिया ने टिप्पणी की कि क्या वैक्सीन और वायरस मेल खाते हैं, यह वैज्ञानिकों के सामने मौजूद दीर्घकालीन चुनौती है। चाहे पूरी तरह मेल नहीं खाते, तो वैक्सीन फिर भी बीमारी पड़ने की संभावना या गंभीरता को कम कर सकता है। इसलिए वैज्ञानिक अनुसंधान करना एकमात्र उपाय है।

यह भी पढ़ें : ‘ईरान, अमेरिका अपने संघर्ष में इराक को न करें शामिल’

corona _covid 19 कोविड-19
कोरोना वैक्सीन । (Unsplash)

चीनी वैक्सीन

चीन कोरोना वैक्सीन के अनुसंधान में दुनिया के पहले स्थान पर है। चीनी वैक्सीन हमेशा व्यापक ध्यान आकर्षित करते हैं। स्थानीय समानुसार 23 दिसंबर को ब्राजील के साओ पाउलो स्टेट और बुटैन टैन संस्थान ने न्यूज ब्रीफिंग में कहा कि सभी परीक्षण में चीनी वैक्सीन सबसे सुरक्षित और कारगर है।

ब्राजील 15 दिनों में चीनी वैक्सीन के डेटा जारी करेगा। लेकिन पश्चिमी मीडिया ने बढ़ा-चढ़ा कर कहा कि यह अपारदर्शी है। वास्तव में चीनी वैक्सीन कंपनी बस ब्राजील, इंडोनेशिया और तुर्की में मिले डेटा इकट्ठा कर परिणाम जारी करना चाहती है, क्योंकि एक वैक्सीन के तीन परिणाम नहीं होने चाहिए। यह बिलकुल सामान्य है। फाइजर ने ब्राजील समेत बहुत-से देशों के स्वयंसेवकों में क्लिनिकल परीक्षण किया, डेटा अंत में एकीकृत तरीके से जारी किया जाता है। इसलिए चीनी वैक्सीन पर पश्चिमी मीडिया के कालिख का कोई मतलब नहीं है। (आईएएनएस)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,623FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी