Sunday, May 16, 2021
Home देश इस बार बमबारी के डर के बिना फसल काट रहा जम्मू-कश्मीर का...

इस बार बमबारी के डर के बिना फसल काट रहा जम्मू-कश्मीर का सीमावर्ती गांव

सीमा पार बम धमाकों ने खेती को जीवन के लिए खतरे वाला काम बना दिया है। क्योंकि पाकिस्तान सीमा नियमों को तोड़ने में कोई कसर नहीं छोड़ता।

By: उमर शाह

जम्मू(Jammu) के कृषि क्षेत्रों में किसानों की ओर से एक लोक गीत गाया जा रहा है, जिसमें वह कह रहे हैं, “जदे लोग दे जांदेने इत्थे कुर्बानियां, दुनिया ची रेंदिया ने उंदेया निशानियां।” इसका अर्थ है, जो लोग बलिदान देते हैं वे उनका जीवन समाप्त होने के बाद दुनिया द्वारा याद किए जाते हैं। हालांकि, खेतों में गायन की यह परंपरा सुचेतगढ़ गांव तक ही सीमित है, जो जम्मू के आरएस पोरा सेक्टर में अंतर्राष्ट्रीय सीमा के साथ पाकिस्तान(Pakistan) से चंद कदमों की दूरी पर है। इस गांव में 200 से अधिक घर हैं। यहां सीमा पार बम धमाकों ने खेती को जीवन के लिए खतरे वाला काम बना दिया है।

हालांकि, इस साल चीजें अलग दिख रही हैं। पिछले महीने भारत और पाकिस्तान(Pakistan) ने युद्ध विराम की घोषणा की। यह कई दशकों में पहली बार है कि मार्च से अप्रैल के बीच फसल कटाई के मौसम के दौरान यहां एक युद्धविराम की स्थिति पर सहमति सुनिश्चित हुई है। रमजान के पवित्र महीने 2018 के दौरान, पहले भी युद्ध विराम की घोषणा की गई थी, लेकिन यह अल्पकालिक साबित हुई और लंबे समय तक नहीं टिक पाई। वैसे तो भारत और पाकिस्तान ने नवंबर 2003 में युद्ध विराम संधि पर हस्ताक्षर किए थे, लेकिन यह जमीनी स्तर पर धराशायी हो गई, खासकर 2008 के आतंकी हमलों के बाद संधि का औचित्य ही नहीं रह गया।

इस समझौते के इतिहास को देखते हुए, यह कहना मुश्किल है कि नवीनतम युद्ध विराम कितने समय तक चलेगा, लेकिन स्थानीय लोग इसे नई सुबह के रूप में मान रहे हैं। पिछले कुछ हफ्तों से सुचेतगढ़ में असामान्य रूप से शांति है। यहां अब बंदूकों और मोर्टार के गोलों की आवाज के बजाय पक्षियों के चहचहाने की आवाज आती है। स्थानीय लोग बिना किसी डर के अपनी फसलों को निहारने और अच्छे उत्पादन की उम्मीद में अपने खेतों में जा रहे हैं। सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार, सुचेतगढ़ में 454 हेक्टेयर भूमि खेती के अधीन है और इसका उपयोग ज्यादातर बासमती चावल और मक्का उगाने के लिए किया जाता है।

farming in jammu kashmir jammu me zero line pr kheti
जम्मू कश्मीर के किसान ले रहे हैं चैन की साँस।(Pixabay)

स्थानीय निवासी मधु कुमारी ने सकारात्मक भावना के साथ कहा, “हम यह महसूस कर रहे हैं कि कोई भी आपको मारने वाला (सीमा पार से हमला) नहीं है।” उनके परिवार के पास चार एकड़ कृषि भूमि है, जो कि सीमा के सबसे करीब है, जिसे स्थानीय लोग जीरो लाइन कहते हैं। सीमा पर खेती किस तरह की परिस्थिति में की जाती है, उसका वर्णन करते हुए कुमारी के पति भगाराम ने बताया कि सुचेतगढ़ के 20 से अधिक निवासियों ने संघर्ष विराम उल्लंघन में अपनी जान गंवाई है, लेकिन अभी तक खेत पर काम करते समय किसी की भी मौत नहीं हुई है। 61 वर्षीय भगाराम ने कहा, “लेकिन मेरे बचपन से लेकर अभी तक ऐसा एक भी साल नहीं गुजरा है, जब कटाई के दौरान एक डरावना माहौल न रहा हो। हर समय हमारे सिर के ऊपर एक तलवार लटकती रहती थी कि न जाने कब तोप का एक गोला हमें मार सकता है।”

2018 में एक मोर्टार शेल स्थानीय निवासी अविनाश कुमार से कुछ मीटर दूर गिरी थी। गनीमत रही कि वह बच गए। उस साल सीमा पार से हमलों के बाद जो स्थिति बनी थी, वह 1971 के भारत-पाक युद्ध के दौरान पैदा हुई स्थिति से भी बदतर थी। सीमावर्ती गांवों के निवासियों ने उस विपरीत और खतरनाक परिस्थिति के बारे में भी बातचीत की। हमले में बाल-बाल बचे युवा किसान अविनाश कुमार ने कहा, “मुझे याद है कि वह फरवरी का महीना था। मेरे पिता की तबीयत ठीक नहीं थी। इसलिए मैं खेत में काम करने के लिए गया, क्योंकि फसल का मौसम एक महीना ही दूर था। अचानक मैंने एक जोरदार आवाज सुनी और हवा के तेज झोंके ने मुझे एक कोने में फेंक दिया। मैंने आश्रय लेने के लिए चारों ओर रेंगने की कोशिश की। एक घंटे के भीतर, हम सभी को एक सरकारी बंकर में ले जाया गया और बाद में एक सुरक्षित घर में स्थानांतरित कर दिया गया। हमारी भूमि और फसल सब कुछ नष्ट हो गया था।”

farming in jammu kashmir
खेती करने में अब नहीं आ रही है समस्या।(सांकेतिक चित्र, Pixabay)

यह एक ड्रिल है, जिसकी सुचेतगढ़ के निवासियों को आदत हो गई है। जब भी सेनाओं के बीच सीमा पार गोलीबारी होने लगती होती है तो उन्हें अपने खेतों और घरों से भागना पड़ता है और सरकारी सुरक्षित घरों में शरण लेनी पड़ती है। जब तनाव कम हो जाता है, तो वे अपने जर्जर घरों और खेतों में लौट आते हैं। किसान तालिब हुसैन ने बताया कि 2018 में सीमा पार गोलीबारी के बाद उनकी कृषि भूमि को भी काफी नुकसान पहुंचा है। हुसैन ने कहा कि उनके अपने खेत उनके लिए मौत का कुआं बन गए हैं। किसान हुसैन ने कहा, “हम फसलों की बुवाई के लिए अनिच्छुक थे और फिर इसके बाद हम फसल काटने में भी संकोच कर रहे थे।” उस वर्ष उन्हें 2 लाख रुपये से अधिक का नुकसान उठाना पड़ा, क्योंकि उनकी फसल हिंसा में क्षतिग्रस्त हो गई थी।

यह भी पढ़ें: कश्मीर में सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए सरकार के प्रयास जारी : अमेरिकी रिपोर्ट

सुचेतगढ़ में खेती के लिए भूमि भी जहरीली होती जा रही है। बमबारी ने खेतों में जहरीले अवशेषों को पीछे छोड़ दिया है, जिससे खेती के लिए योग्य और आदर्श माने जाने वाले अधिकांश स्थानों की उपजाऊ शक्ति भी कमजोर हो गई है। जब आप खेतों का दौरा करते हैं, तो आपको यहां एक खराब गंध का अहसास भी होता है। सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार, पूरे जम्मू-कश्मीर में हर साल गोलाबारी के कारण अनुमानित 17,000 हेक्टेयर भूमि पर काफी बुरा प्रभाव पड़ता है और फसलें नष्ट हो जाती हैं। सुचेतगढ़ निवासी विनय कुमार अपनी फसलों को खोने के दर्द को अच्छी तरह से जानते हैं। वह 2018 में पाकिस्तान की ओर से हुई भारी गोलाबारी के बाद अपनी दो एकड़ भूमि पर कोई भी फसल नहीं उगा पाए थे। यह वो समय था, जब वह अच्छी फसल की उम्मीद कर रहे थे। यही नहीं भूमि को गोलीबारी से इतना नुकसान हुआ कि वह अगे साल भी कोई फसल नहीं हो सके। विनय ने बताया कि उनकी कृषि भूमि एक जले हुए पाउडर केग की तीखी गंध छोड़ रही थी।(आईएएनएस-SHM)

POST AUTHOR

न्यूज़ग्राम डेस्क
संवाददाता, न्यूज़ग्राम हिन्दी

जुड़े रहें

7,635FansLike
0FollowersFollow
177FollowersFollow

सबसे लोकप्रिय

धर्म निरपेक्षता के नाम पर हिन्दुओ को सालों से बेवकूफ़ बनाया गया है: मारिया वर्थ

यह आर्टिक्ल मारिया वर्थ के ब्लॉग पर छपे अंग्रेज़ी लेख के मुख्य अंशों का हिन्दी अनुवाद है।

विज्ञापनों पर पानी की तरह पैसे बहा रही केजरीवाल सरकार, कपिल मिश्रा ने लगाया आरोप

पिछले 3 महीनों से भारत, कोरोना के खिलाफ जंग लड़ रहा है। इन बीते तीन महीनों में, हम लगातार राज्य सरकारों की...

भारत का इमरान को करारा जवाब, दिखाया आईना

भारत ने पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान द्वारा संयुक्त राष्ट्र महासभा में दिए गए भाषण पर आईना दिखाते हुए करारा जवाब दिया...

जब इन्दिरा गांधी ने प्रोटोकॉल तोड़ मुग़ल आक्रमणकारी बाबर को दी थी श्रद्धांजलि

ये बात तब की है जब इन्दिरा गांधी भारत की प्रधानमंत्री हुआ करती थी। वर्ष 1969 में इन्दिरा गांधी काबुल, अफ़ग़ानिस्तान के...

दिल्ली की कोशिश पूरे 40 ओवर शानदार खेल खेलने की : कैरी

 दिल्ली कैपिटल्स के विकेटकीपर एलेक्स कैरी ने कहा है कि टीम के लिए यह समय है टूर्नामेंट में दोबारा शुरुआत करने का।...

गाय के चमड़े को रक्षाबंधन से जोड़ने कि कोशिश में था PETA इंडिया, विरोध होने पर साँप से की लेखक शेफाली वैद्य कि तुलना

आज ट्वीटर पर मचे एक बवाल में PETA इंडिया का हिन्दू घृणा खुल कर सबके सामने आ गया है। ये बात...

दिल्ली दंगा करवाने में ‘आप’ पार्षद ताहिर हुसैन ने खर्च किए 1.3 करोड़ रूपए: चार्जशीट

इस साल फरवरी में हुए हिन्दू विरोधी दिल्ली दंगों को लेकर आज दिल्ली पुलिस ने कड़कड़डूमा कोर्ट में चार्ज शीट दाखिल किया।...

क्या अमनातुल्लाह खान द्वारा लिया गया ‘दान’, दंगों में खर्च हुए पैसों की रिकवरी थी? बड़ा सवाल!

फरवरी महीने में हुए दिल दहला देने वाले हिन्दू विरोधी दंगों को लेकर दिल्ली पुलिस आक्रमक रूप से लगातार कार्यवाही कर रही...

हाल की टिप्पणी